Myanmar Crisis: म्यांमार से आएं ‘शरणार्थियों का दाना-पानी रोकने’ का आदेश मणिपुर सरकार ने विरोध के बाद लिया वापस

म्यांमार में फरवरी में हुए सैन्य तख्तापलट के बाद से वहां से राज्य में आए शरणार्थियों की संख्या 1,000 पार कर गयी है.

Myanmar Crisis: मणिपुर के गृह सचिव एच ज्ञान प्रकाश की तरफ से लिखी गई इस चिट्ठी में कहा गया था कि सैन्य तख्तापलट के बाद म्यांमार के लोग भारत में घुसने का प्रयास कर रहे हैं. इन शरणार्थियों के लिए न कोई राहत शिविर लगाएं और न खाने-पीने का इंतजाम करें. वे शरण मांगने आएं तो उन्हें हाथ जोड़कर वापस भेज दें.

नई दिल्ली. मणिपुर (Manipur) की सरकार ने उस आदेश को वापस ले लिया है, जिसमें म्यांमार (Myanmar) से आने वाले लोगों को घुसने से रोकने तथा उनके लिए कोई राहत शिविर या खाना-पीने का इंतजाम करने से मना किया गया था. इस आदेश को लेकर 5 ज़िलों के कमिश्नर को 26 मार्च को चिट्ठी लिखी गई थी. ये सारे ज़िले मणिपुर की सीमा से सटे है. सरकार ने कहा था कि सिर्फ मानवीय या फिर मेडिकल जरूरत के आधार पर ही लोगों को भारत में आने दिया जाए.

मणिपुर सरकार के इस आदेश की जमकर आलोचना हुई. सरकार के इस आदेश को लेकर कई लोगों ने दावा किया कि ये देश की मानवीय परंपरा के खिलाफ है. अब सरकार की तरफ से 29 मार्च को एक नई चिट्ठी जारी की गई है. इसमें लिखा है कि पुरानी चिट्ठी के आदेश को लोगों ने अलग तरीके से समझ लिया. इसमें लिखा है, ‘सरकार मानवीय आधार पर म्यांमार के लोगों की मदद कर रही है. इसको लेकर सारे कदम उठाए जा रहे हैं. भारत आने वाले लोगों को इलाज कराने के इम्फाल भेजा जा रहा है.’

क्या लिखा था पुराने आदेश में?
मणिपुर के गृह सचिव एच ज्ञान प्रकाश की तरफ से लिखी गई इस चिट्ठी में कहा गया था कि सैन्य तख्तापलट के बाद म्यांमार के नागरिक भारत में घुसने का प्रयास कर रहे हैं. ऐसे में जिलों को निर्देश दिया था कि वो उन्हें देश में न घुसने दे. शरणार्थियों के लिए न राहत शिविर बनाएं और न खाने-पीने का इंतजाम करें. वे शरण मांगने आएं तो उन्हें हाथ जोड़कर वापस भेज दें. इस आदेश में आगे कहा गया था कि आधार नामांकन को तुरंत रोका जाए.ये भी पढ़ें:- दिल्ली BJP के पूर्व उपाध्यक्ष का शव पार्क में मिला, खुदकुशी की आशंका

लगातार आ रहे हैं शरणार्थी
म्यांमार में फरवरी में हुए सैन्य तख्तापलट के बाद से वहां से राज्य में आए शरणार्थियों की संख्या 1,000 पार कर गयी है. अब तक कम से कम 100 लोगों को उनके देश वापस भेजा दिया गया है, लेकिन वे छुपकर वापस भारत में की सीमा में घुसने की कोशिश कर रहे हैं.





Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
2,735FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles