IPL को तरजीह देने वाले इंग्लिश क्रिकेटरों को वॉन की खरी-खरी, ‘ऐसों को गुडबाय कहे ECB’

माइकल वॉन ने कहा कि इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड अपने स्टार खिलाड़ियों का सेंट्रल कॉन्ट्रेक्ट भी बढ़ा सकता है.

पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने कहा कि इंग्लैंड-वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) को ऐसे खिलाड़ियों को ‘गुडबाय’ कहने की जरूरत है जो राष्ट्रीय टीम पर फ्रेंचाइजी क्रिकेट को तरजीह दे रहे हैं. ईसीबी निदेशक एश्ले जाइल्स ने हाल में अपने एक इंटरव्यू में खिलाड़ियों के नेशनल ड्यूटी को छोड़कर इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में खेलने का डर जाहिर किया था.

नई दिल्ली. इंग्लैंड के स्टार ऑलराउंडर बेन स्टोक्स (Ben Stokes) ने अपने देश के खिलाड़ियों का आईपीएल में खेलने को लेकर फायदा बताया लेकिन उनके पूर्व कप्तान माइकल वॉन (Michael Vaughan) की राय इससे अलग है. वॉन ने कहा है कि इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड (ECB) को ऐसे खिलाड़ियों को ‘गुडबाय’ कहने की जरूरत है जो राष्ट्रीय टीम पर फ्रेंचाइजी क्रिकेट को तरजीह दे रहे हैं. ईसीबी निदेशक एश्ले जाइल्स ने हाल में अपने एक इंटरव्यू में खिलाड़ियों के नेशनल ड्यूटी को छोड़कर इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में खेलने का डर जाहिर किया था.

इंग्लैंड के अखबार द टेलिग्राफ में वॉन ने अपने कॉलम में साफ तौर पर लिखा है कि इससे गलत संदेश जाता है और ईसीबी को ऐसे खिलाड़ियों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए. वॉन ने लिखा, ‘एश्ले जाइल्स ने बीबीसी के मेरे एक शो पर कहा था कि इंग्लैंड आईपीएल को लेकर खिलाड़ियों के साथ बहुत ज्यादा उलझना नहीं चाहता. लंबे वक्त में उन्हें अपने कुछ बड़े खिलाड़ियों को खोने का डर है. मुझे लगता है कि यह एक गलत संदेश देता है.’

इसे भी पढ़ें, स्टोक्स की अभी से टी20 वर्ल्ड कप पर नजर, बोले- IPL से इंग्लैंड के खिलाड़ियों को बड़ा फायदा

46 वर्षीय वॉन ने आगे लिखा, ‘अगर इंग्लैंड का कोई 26-27 साल का खिलाड़ी मेरे पास आकर कहता है कि वह इंग्लैंड के सेंट्रल कॉन्ट्रेक्ट को छोड़कर आईपीएल और फ्रेंचाइजी क्रिकेट को चुनना चाहता है तो मैं उसे आसान सा जवाब देता- जाओ, बाद में मिलते हैं. मैं उन्हें गुडबाय कर देता लेकिन साथ ही यह भी कहता कि आप एक-दो साल में यहीं लौटकर आओगे.’अंतरराष्ट्रीय करियर में कुल 7728 रन बनाने वाले इस पूर्व बल्लेबाज ने कहा कि क्रिकेटरों को ऐसा करने से रोकने के लिए और भी रास्ते हो सकते हैं. उन्होंने कहा कि ईसीबी को बेन स्टोक्स और जोफ्रा आर्चर जैसे खिलाड़ियों के सेंट्रल कॉन्ट्रेक्ट को कुछ साल के लिए बढ़ा देना चाहिए. उन्होंने लिखा कि यदि इंग्लैंड क्रिकेट चाहता है कि ऐसी स्थिति ना पैदा हो तो वह अपने अच्छे खिलाड़ियों को 2-3 साल का सेंट्रल कॉन्ट्रेक्ट दे सकता है. उन्होंने लिखा कि बेहतर खेल के लिए अपने सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों का ख्याल रखना जरूरी है और ऐसे में बेन स्टोक्स और जोफ्रा आर्चर जैसे खिलाड़ियों को एक साल से ज्यादा के लिए कॉन्ट्रेक्ट में शामिल क्यों नहीं किया जा सकता.

इसे भी पढ़ें, IPL से पहले फिन एलेन का धमाका, 29 गेंदों में 71 रन ठोक दिलाई न्यूजीलैंड को जीत

इससे पहले बेन स्टोक्स ने कहा कि इंग्लैंड के खिलाड़ियों की इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में बढ़ती भागीदारी और भारतीय परिस्थितियों में खेलने का उनकी राष्ट्रीय टीम को इस साल के आखिर में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप में फायदा मिलेगा. पिछले कुछ साल में इंग्लैंड के ज्यादा से ज्यादा खिलाड़ियों ने इस लुभावनी टी20 लीग में खेलने में दिलचस्पी दिखाई है. इस साल के उसके 14 खिलाड़ियों से फ्रेंचाइजी टीमों ने अनुबंध किया है. इनमें कप्तान ऑयन मॉर्गन, जोस बटलर, बेन स्टोक्स, जॉनी बेयरस्टो, मोईन अली, सैम करेन, टॉम करेन, सैम बिलिंग्स, लियाम लिविंगस्टोन और डेविड मलान शामिल हैं.





Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
2,735FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles