Coronavirus in india Gilead Announces Steps to Expand Availability of Remdesivir

रेमडिसिविर इंजेक्शन की (सांकेतिक तस्वीर)

Coronavirus In India: गिलिएड (Gilead)भारतीय मरीजों की तत्काल जरूरतों को पूरा करने में मदद करने के लिए वेक्लेरी (रेमेडिसविर) के कम से कम 450,000 वॉयल्स दान भी करेगा.

नई दिल्ली. अमेरिकन बायोफार्मास्युटिकल कंपनी गिलियड (Gilead) ने भारत में COVID-19 रोगियों के उपचार में इस्तेमाल होने वाली एक प्रमुख चिकित्सीय दवा- रेमेडिसविर की उपलब्धता के विस्तार के लिए कदमों की घोषणा की है. गिलियड साइंसेज के मुख्य वाणिज्यिक अधिकारी जोलेना मर्सियर ने सोमवार को कहा ‘भारत में COVID-19 मामलों के हालिया उछाल का विनाशकारी प्रभाव पड़ रहा है और इसने स्वास्थ्य सेवाओं पर भार बढ़ा दिया है.’

कंपनी ने कहा कि वह अपने स्वैच्छिक लाइसेंसिंग भागीदारों को तकनीकी सहायता , नई स्थानीय मैन्युफैक्चरिंग फैसेलटी को जोड़ने के लिए समर्थन और सक्रिय दवा संघटक (एपीआई) के दान के जरिए तेजी से रेमेडिसविर के उत्पादन को बढ़ावा देना चाहती है. भारत में Remdesivir को गंभीर रूप से बीमार लोगों  के उपचार के लिए  आपातकालीन उपयोग के लिए स्वीकृति दी गई है.

Remdesivir in India: 4,50,000 वॉयल्स दान भी Gilead
कंपनी ने कहा कि लोकल मैन्युफैक्चरिंग क्षमता का विस्तार करने के लिए अपने लाइसेंसधारियों को सहायता प्रदान करने के अलावा, गिलिएड भारतीय मरीजों की तत्काल जरूरतों को पूरा करने में मदद करने के लिए वेक्लेरी (रेमेडिसविर) के कम से कम 4,50,000 वॉयल्स दान भी करेगा.मर्सियर ने कहा कि हम इस संकट से निपटने में मदद करने के लिए अपनी ओर से प्रतिबद्ध हैं. हमारा तत्काल ध्यान भारत में मरीजों की जरूरतों को पूरा करने में मदद करना है, जो सरकार, स्वास्थ्य अधिकारियों और हमारे स्वैच्छिक लाइसेंसधारियों के साथ मिलकर काम करके जल्दी से जल्दी लाभ उठा सकते हैं.

भारत में गिलिएड के सभी सात लाइसेंसधारियों ने अपने बैच के आकार को बढ़ाकर, नए मैन्युफैक्चरिंग फैसेलटी को जोड़ने और देश भर में स्थानीय अनुबंध निर्माताओं को जोड़ने के द्वारा रिमेडिसवीर के उत्पादन में काफी तेजी लाई है. हालांकि, इन प्रयासों से आने वाले हफ्तों में रीमेडिसविर की उपलब्धता में वृद्धि होने की उम्मीद है. गिलिएड ने कहा कि वह भारत की सरकार को कम से कम 4,50,000 वॉयल्स दान करेगा ताकि उपचार की तत्काल आवश्यकता का प्रबंधन हो सके.





Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

21,913FansLike
2,756FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles