Congratulate Republic Day by sending these messages to your close ones

26 जनवरी को देश 71वां गणतंत्र दिवस मनाने जा रहा है. इसी दिन 1950 को  भारत के संविधान को उसका अस्तित्व मिला था. भारत का संविधान दुनिया के सबसे बड़े और पुराने  लिखित संविधानों में सुमार है. भारतीय संविधान विविधताओं से भरा दुनिया का अपनी तरह का अलग संविधान है. इसे अपने अस्तित्व में आने में पूरे 2 साल 11 महीने और 18 दिन लगे थे, जिसके बाद यह संविधान 26 जनवरी 1950 को पूरे देश के लिए लागू हो गया था. इस दिन देश भर के लोग खुशी मनाते हैं और एक- दूसरे को गणतंत्र की शुभकामनाएं देते हैं. ऐसे में न्यूज18 इंडिया देशवाशियों को कुछ वॉलपेपर्स के जरिए शुभकामनाएं दे रहा है.
भारत में गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को मनाया जाता है इसके दो कारण हैं. संविधान सभा ने 26 नवंबर 1949 को भारत के संविधान को स्वीकार किया था, जबकि 26 जनवरी 1950 को भारत का संविधान पूरे देश में लागू हुआ था. इसी के उपलक्ष में हर साल गणतंत्र दिवस मनाया जाता है. 26 जनवरी का दिन इसलिए चुना गया क्योंकि 26 जनवरी 1929 को अंग्रेजों की गुलामी के विरुद्ध कांग्रेस ने पूर्ण स्वराज का प्रस्ताव पास किया था. 26 जनवरी को भारत गणतंत्र देश बना था इसलिए गणतंत्र दिवस मनाया जाता है. गणतंत्र दिवस के दिन भारत का संविधान लागू हुआ था,. स्वतंत्रता दिवस 15 1947 को देश आजाद हुआ था. इसलिए हर साल 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस और 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाया जाता है. भारत ने पहला गणतंत्र दिवस 1950 में मनाया थाभारत ने पहला गणतंत्र दिवस 26 जनवरी 1950 में मनाया था. इस हिसाब से 2020 में हम 71वां गणतंत्र दिवस मनाने जा रहे हैं. इस दिन भारत का संविधान लागू हुआ था. इस दिन भारत में सभी सरकारी और निजी संस्थानों की छुट्टी होती है. भारत में सार्वजनिक अवकाश घोषित होता है. गणतंत्र दिवस की टिकट कहां से मिलती है. इस साल यानी कि 2020 में गणतंत्र दिवस परेड की टिकट आप सेना भवन, नॉर्थ ब्लॉक, लाल किला, पार्लियामेंट हाउस, जंतर-मंतर, शास्त्री भवन आदि से प्राप्त कर सकते हैं. देश में राजपथ पर गणतंत्र दिवस की परेड (Republic Day Parade) आयोजित होती है. यह परेड आठ किलोमीटर की होती है और इसकी शुरुआत रायसीना हिल से होती है. उसके बाद राजपथ, इंडिया गेट से होते हुए ये लाल किले पर समाप्‍त होती है. 26 जनवरी, 1950 को पहली गणतंत्र दिवस परेड, राजपथ के बजाय तत्‍कालीन इर्विन स्‍टेडियम (अब नेशनल स्‍टेडियम) में हुई थी. उस वक्‍त इर्विन स्‍टेडियम के चारों तरफ चारदीवारी नहीं थी और उसके पीछे लाल किला साफ नजर आता था. 26 जनवरी 1950 को सुबह 10.18 मिनट पर भारत का संविधान लागू किया गया था. पूर्ण स्वराज दिवस (26 जनवरी 1930) को ध्यान में रखते हुए भारत के संविधान को 26 जनवरी को लागू किया गया था. राष्ट्रगान के दौरान 21 तोपों की सलामी दी जाती है. 21 तोपों की ये सलामी राष्ट्रगान की शुरूआत से शुरू होती है और 52 सेकेंड के राष्ट्रगान के खत्म होने के साथ पूरी हो जाती है. हर साल गणतंत्र दिवस पर राज्यों की झाकियां निकलती हैं, जिसका टीवी पर लाइव प्रसारण भी किया जाता है. गणतंत्र दिवस के मौके पर खासतौर पर झाकियां देखने के लिए कई लोग इंडिया गेट भी जाते हैं. इसके साथ ही गणतंत्र दिवस के अवसर पर वीरता पुरस्कार भी दिए जाते हैं. 26 जनवरी 1930 तक जब अंग्रेज सरकार ने कुछ नहीं किया तब कांग्रेस ने उस दिन भारत की पूर्ण स्वतंत्रता के निश्चय की घोषणा की और अपना सक्रिय आंदोलन आरंभ किया था. 15 अगस्त 1947 को वास्तविक स्वतंत्रा प्राप्त करने के बाद इस दिन स्वतंत्रता दिवस मनाया जाने लगा. भारत के आज़ाद हो जाने के बाद संविधान सभा की घोषणा हुई और इसने अपना कार्य 9 दिसम्बर 1947 से शुरू किया.

Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

21,913FansLike
2,883FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles