6 फीट 3 इंच लंबे तेज गेंदबाज हर्ष विक्रम दिल्ली कैपिटल्स से जुड़ें, बिहार के हैं रहने वाले- ipl 2021 bihar fast bowler harsh vikram singh joins delhi capitals ahead of IPL 14

हर्ष विक्रम सिंह आईपीएल में पहले राजस्थान रॉयल्स का हिस्सा रह चुके हैं.

IPL 2021: 6 फीट 3 इंच के हर्ष विक्रम सिंह आईपीएल 2021 में दिल्ली कैपिटल्स से जुड़े हुए हैं. हर्ष विक्रम अपनी रफ्तार से चौंकाते रहे हैं. इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर चुके हर्ष लंबे-लंबे छक्के भी लगाते हैं.

नई दिल्ली. इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2021) में दिल्ली कैपिटल्स की टीम में शामिल हुए क्रिकेटर हर्ष विक्रम सिंह के जमुई स्थित पैतृक गांव मलयपुर में खुशी का माहौल है. खेल प्रेमी यह मान रहे हैं कि हर्ष विक्रम सिंह की सफलता से इलाके में और भी खिलाड़ियों का मनोबल और उत्साह बढ़ेगा, जो आने वाले दिनों में अपनी सफलता का परचम लहराएंगे. क्रिकेटर हर्ष विक्रम सिंह आईपीएल 2020 में भी राजस्थान रॉयल की टीम का हिस्सा थे. हर्ष विक्रम सिंह बिहार के एकमात्र क्रिकेट खिलाड़ी के रूप में आईपीएल 2021 में शामिल होंगे. वैसे पटना के ईशान किशन भी मुंबई इंडियंस की तरफ से खेलते दिखेंगे लेकिन वह रणजी में झारखंड की तरफ से खेलते हैं.

हर्ष एक पेशेवर बॉलर के रूप में दिल्ली कैपिटल्स द्वारा चुने गए हैं. 25 साल के हर्ष ऑलराउंडर के रूप में क्रिकेट के दुनिया में अपनी पहचान बना चुके हैं. हर्ष दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग की है. कम उम्र में उन्होंने क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था. अपनी यूनिवर्सिटी टीम के कप्तान भी रह चुके हैं. 2018 में बिहार के लिए रणजी ट्रॉफी के अपने पहले ही मैच में इस खिलाड़ी ने कमाल दिखाया था. नगालैंड के खिलाफ एक समय बिहार की टीम 80 रन पर नौ विकेट खोकर संघर्ष कर रही थी. दसवें नंबर पर उतरे हर्ष ने नाबाद 48 रन बनाए थे. इस मुकाबले को बिहार ने जीता था. इस खिलाड़ी ने 2019 में सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में बड़ौदा के खिलाफ बिहार की तरफ से मैच खेला था.

यह भी पढ़ें:

सचिन ने सेमीफाइनल से पहले भूख से परेशान खिलाड़ियों को दिया गुरु मंत्र, फिर जो हुआ वो इतिहास बन गया2011 वर्ल्ड कप जीत पर गंभीर बोले-सिर्फ एक छक्के से नहीं, बल्कि हर खिलाड़ी के योगदान से बने चैंपियन

हर्ष विक्रम सिंह के पिता अमरेंद्र कुमार सिंह आईपीएस अधिकारी हैं जो दिल्ली पुलिस में एडिशनल पुलिस कमिश्नर के पद पर कार्यरत हैं. हर्ष के दादा जंग बहादुर सिंह, चाची मधुमिता सिंह और चाचा राजीव कुमार सिंह ने बताया कि उनके घर का लाल हर्ष बचपन से ही क्रिकेट खेल रहा है. उन लोगों को विश्वास था कि वह एक दिन नाम करेगा. मलयपुर गांव के युवा भी इस खुशी में शामिल है. स्थानीय निवासी डुगडुग सिंह ने बताया कि इससे सिर्फ हमारे गांव ही नहीं जमुई जिले और बिहार के खिलाड़ियों का उत्साह भी बढ़ेगा.





Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
2,735FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles