बाबुल सुप्रियो ने बताया था ‘क्रिकेट का हत्‍यारा’, अब हनुमा विहारी ने दो टूक जवाब देकर की बोलती बंद

0
2
हनुमा हैमस्ट्रिंग की चोट से जूझ रहे थे.  (PIC: AP)

हनुमा हैमस्ट्रिंग की चोट से जूझ रहे थे. (PIC: AP)

हनुमा विहारी ने आर अश्विन के साथ मिलकर आखिर तक बल्‍लेबाजी कर सिडनी टेस्‍ट में भारत को हार से बचा लिया था. हनुमा हैमस्ट्रिंग की चोट से जूझ रहे थे.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    January 13, 2021, 6:01 PM IST

नई दिल्‍ली. भारत बल्‍लेबाज हनुमा विहारी (Hanuma Vihari) आर अश्विन के साथ मिलकर आखिर तक बल्‍लेबाजी कर सिडनी टेस्‍ट में भारत को हार से बचाकर हीरो बन गए थे, मगर बीजेपी नेता बाबुल सुप्रियो (Babul Supriyo) ने क्रिकेट का हत्यारा करार दे दिया था. जिसके बाद अब विहारी ने दो टूक जवाब देकर उनकी बोलती बंद कर दी. दरअसल सांसद सुप्रियो ने भारत और ऑस्ट्रेलिया (India vs Australia) के बीच खेले गए तीसरे टेस्ट मैच के दौरान दो ट्वीट किए. उन्होंने जहां ऋषभ पंत (Rishabh Pant) की जमकर तारीफ की. वहीं कहा कि विहारी (Hanuma Vihari)ने जीत की कोशिश नहीं की. विहारी ने भारत की दूसरी व मैच की चौथी पारी में 161 गेंद पर 23 रन की नाबाद पारी खेली.

सुप्रियो को करारा जवाब देते हुए बुधवार ने हनुमा विहारी के उनके उसी ट्वीट पर कमेंट किया और सिर्फ अपना नाम लिखा. दरअसल विहारी ने कमेंट में अपना नाम इस‍ीलिए लिखा, क्‍योंकि सुप्रियो ने उनकी आलोचना करते हुए उनका नाम गलत लिखते हुए हनुमा बिहारी लिखा था और उनकी इस गलती को विहारी ने सुधारा.

सुप्रियो ने की थी काफी आलोचनासुप्रियो ने कहा कि ‘हनुमा विहारी ने 7 रन बनाने के लिए 109 गेंद खेल लिए. यह बहुत ही कम है. हनुमा विहारी ने ना सिर्फ भारत की ऐतिहासिक जीत की संभावना को खत्म किया, बल्कि क्रिकेट की हत्या भी कर दी है.’

बीजेपी नेता ने इसी ट्वीट में आगे लिखा, ‘ मैं इतना जानता हूं कि मुझे क्रिकेट के बारे में कुछ भी नहीं पता है.’ घंटेभर बाद दूसरा ट्वीट करते हुए उन्‍होंने लिखा, ‘यदि हनुमा ने थोड़ा भी प्रयास किया होता और खराब गेंदों पर चौके लगाए होते, तो भारत यह मैच जीत सकता था.

यह भी पढ़ें : 

IND vs AUS: सिराज की समझदारी का कायल हुआ ऑस्‍ट्रेलियाई गेंदबाज, कहा-दर्शकों की शिकायत कर शुरू किया नया चलन

IND vs AUS: सिराज की समझदारी का कायल हुआ ऑस्‍ट्रेलियाई गेंदबाज, कहा-दर्शकों की शिकायत कर शुरू किया नया चलन

खासकर तब जबकि पंत ने ऐसा बेहतरीन प्रदर्शन किया, जिसकी किसी ने उम्मीद भी नहीं की थी. मैं इस बात को दोहरा रहा हूं कि सिर्फ खराब बॉल, जिन पर बाउंड्री लग सकती थीं क्योंकि हनुमा तब तक जम चुके थे.’ अगर हनुमा की बात करें तो बल्‍लेबाजी के दौरान वह हैमस्ट्रिंग की चोट से जूझ रहे थे. इसके बावजूद उन्‍होंने मैदान नहीं छोड़ा, बल्कि आखिरी तक टिके रहे और मैच ड्रॉ करवा दिया.




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here