हाथरस केस में AMU के डॉक्टरों पर वीसी की कार्रवाई से रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन नाराज

0
3
एसआईटी और सीबीआई की वजह से किसान को पुलिस ने खेत में पानी नहीं लगाने दिया.

एसआईटी और सीबीआई की वजह से किसान को पुलिस ने खेत में पानी नहीं लगाने दिया.

एएमयू मेडिकल कॉलेज (AMU medical college) ने डॉक्टर अज़ीम और डॉक्टर ओबैद का कार्यकाल अचानक खत्म कर दिए जाने से मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों में रोष है. दोनों डॉक्टरों ने हाथरस रेप (Hathras Rape) पीड़ित की मेडिकल रिपोर्ट बनाई थी.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    October 21, 2020, 2:04 PM IST

नई दिल्ली. हाथरस बलात्कार (Hathras Rape) पीड़िता की मेडिकल रिपोर्ट बनाने वाले डॉक्टरों के खिलाफ हुई कार्रवाई को वापस लेने की मांग उठ रही है. अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) के जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन (Resident doctors association) ने यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर तारिक मंसूर को पत्र लिखकर मेडिकल रिपोर्ट बनाने वाले दोनों डॉक्टरों को नौकरी पर दोबारा बहाल करने की मांग की. कार्रवाई को लेकर एसोसिएशन में इस कार्रवाई से खासा रोष है. गौरतलब रहे कि मेडिकल रिपोर्ट देरी से बनने के चलते वाइस चांसलर (Vice Chancellor) ने यह कार्रवाई की है.

AMU के डॉक्टरों ने एफएसएल की रिपोर्ट पर उठाए थे सवाल
उत्तर प्रदेश के हाथरस में पिछले महीने एक दलित युवती से कथित गैंगरेप, बर्बरता और हत्या के मामले में एफएसएल रिपोर्ट पर सवाल उठाने वाले अलीगढ़ के डॉक्टर अजीम मलिक को जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज की नौकरी से निकाल दिया गया है. डॉ. मलिक उस अस्पताल में इमरजेंसी एंड ट्रॉमा सेंटर में मेडिकल ऑफ़िसर के पद पर तैनात थे.

यह भी पढ़ें- चीन जासूसी मामले में हुआ बड़ा खुलासा, PMO की यह 2 जानकारी चाहते थे जासूस, इस तरह से पहुंचानी थी चीनहाथरस पीड़िता की एमएलसी रिपोर्ट भी इन्हीं की टीम ने बनाई थी. डॉ. मलिक के अलावा उनकी टीम के सहयोगी डॉ ओबेद हक़ को भी पद से बर्खास्त कर दिया गया है. डॉ हक़ ने पीड़िता की मेडिकल लीगल केस रिपोर्ट पर दस्तख़त किए थे.

यह कहना है एएमयू मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों का
डॉक्टर अज़ीम ने मीडिया से बात करके बताया था कि पीड़ित की जांच हादसे के दस दिन के बाद हुई जिससे ज़्यादातर सबूत नष्ट हो गए थे. डॉक्टरों का आरोप है कि इससे वाइस चांसलर तारिक मंसूर खासे नाराज़ हुए थे. उसके बाद दोनों डॉक्टरों का कार्यकाल अचानक ख़त्म कर दिया था.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here