सब्जियों और खाद्य पदार्थों के बढ़ते दाम को लेकर पीयूष गोयल एक्शन में, दिए ये निर्देश

0
2
पीयूष गोयल को मिला कंज्यूमर अफेयर्स और फूड डिस्ट्रीब्यूशन मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार

देश में नवरात्र, दशहरा, ईद, दिवाली और छठ को देखते हुए इस बैठक का विशेष महत्व है

त्योहारी मौसम (Festive season) में खाद्य पदार्थों (Food Products) के दाम को स्थिर और काबू में रखने के लिए मोदी सरकार (Modi Gov.) एक्टिव हो गई है. मंगलवार को केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने इससे संबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक की.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    October 20, 2020, 9:20 PM IST

नई दिल्ली. त्योहारी मौसम (Festive season)  में खाद्य पदार्थों (Food Products) के दाम को स्थिर और काबू में रखने के लिए मोदी सरकार (Modi Gov.) एक्टिव हो गई है. मंगलवार को केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने इससे संबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक की. बता दें कि रामविलास पासवान के निधन के बाद हाल ही में खाद्य एवं आपूर्ति मंत्रालय का जिम्मा पीयूष गोयल को मिला है. मंगलवार को गोयल ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उपभोक्ता मामले विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की. इस बैठक में उपभोक्ताओं के संरक्षण के लिए किए जा रहे उपायों के साथ-साथ मूल्यों में स्थिरता और गुणवत्ता में सुधार लाने से संबंधित विषयों पर चर्चा की गई.

खाद्य पदार्थों के कीमतों में उछाल को लेकर हुई बैठक
बता दें कि रामविलास पासवान के निधन के बाद उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार पीयूष गोयल को मिला है. गोयल के पास अब तीन मंत्रालय हो गए हैं. इससे पहले वह रेल मंत्रालय और वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय की जिम्मेदारी भी संभाल रहे थे.

त्योहारी सीजन में विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश
देश में नवरात्र, दशहरा, ईद, दिवाली और छठ को देखते हुए इस बैठक का विशेष महत्व है, क्योंकि आने वाले दिनों में आम आदमी के जेब पर महंगाई का असर देखने को मिल सकता है. खासकर आलू-प्याज के दाम अगर ऐसे ही बढ़ते रहे तो खुदरा बाजार में प्याज की कीमत 100 रुपये के पार जा सकती है. खाद्य पदार्थों के बढ़ते दामों को लेकर इस बैठक में विशेषतौर पर चर्चा की गई. गोयल ने संबंधित विभागों को उचित कदम उठाने के निर्देश दिए.

ये भी पढ़ें: Air Pollution in Delhi-NCR: प्रदूषण को लेकर क्या है कानून? सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद भी हालात क्यों हैं बेहाल?

गौरतलब है कि रामविलास पासवान के पास यह मंत्रालय रहते आम लोगों के हित के लिए कई बड़े कदम उठाए गए थे. खासकर कंज्यूमर प्रोटेक्शन एक्ट-2019, सोने की शु्द्धता के लिए हॉलमार्किंग अनिवार्य करना या फिर देश में वन नेशन वन राशन कार्ड स्कीम को सफलता पूर्वक सफल बनाना हो. बीते 20 जुलाई 2020 से पूरे देश में उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019 कानून लागू है. त्योहारी सीजन में यह कानून लोगों को काफी मदद कर रहा है.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here