A Teacher Officer Caught Returning 30000 Bribe In Bikaner In Rajasthan – राजस्थान : बीकानेर में 30,000 रुपये की रिश्वत लौटाते हुए पकड़ा गया शिक्षा अधिकारी

0
2
A Teacher Officer Caught Returning 30000 Bribe In Bikaner In Rajasthan - राजस्थान : बीकानेर में 30,000 रुपये की रिश्वत लौटाते हुए पकड़ा गया शिक्षा अधिकारी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, बीकानेर

Updated Sat, 17 Oct 2020 08:35 AM IST

रिश्वत के 30,000 रुपये लौटाते पकड़ा गया शिक्षक अधिकारी
– फोटो : pixabay

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर


कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

रिश्वत सुनते ही सबसे पहले दिमाग में यही आता है कि कोई रिश्वत लेते हुए पकड़़ गया या किसी ने रिश्वत की मांग या किसी ने रिश्वत दी लेकिन रिश्वत की राशि वापस लौटाते हुए पकड़े जाना बहुत कम देखा गया है। ऐसा ही मामला राजस्थान के बीकानेर से आया है।

बीकानेर में शिक्षा विभाग के एक अफसर ने परिवादी से काम के बदले रिश्वत ली थी लेकिन वो काम पूरा ना हो सका। इसके बाद निराश परिवादी अधिकारी पर पैसा वापस करने के लिए दबाव बनाने लगा। अधिकारी जैसे ही परिवादी को उसके पैसे लौटाने लगे, तभी वो पकड़ा गया।

यह मामला बीकानेर स्थित शिक्षा विभाग के निदेशक कार्यालय का है। यहां के ज्वाइंट लीगल एडवाइजर बद्रीनारायण व्यास को एसीबी ने रिश्वत के 30,000 रुपये लौटाते हुए पकड़ा। डीआईजी डॉ विष्णुकांत ने बताया कि नागौर के मुंडवा मारवाड़ में अर्जुनराम जाट ने लिखित शिकायत की थी।

शिकायत में बताया गया कि वह शिक्षा विभाग में पीटीआई के पद पर नियुक्त हुआ है। उसके खिलाफ पहले से चार आपराधिक प्रकरण न्यायालय में विचाराधीन होने के कारण उसकाा मामला माध्यमिक शिक्षा निदेशालय में चल रहा था। निदेशालय के ज्वाइंट लीगल एडवाइजर व्यास ने उसके पक्ष में रिपोर्ट दर्ज करने के लिए 30,000 रुपये की राशि मांगी, जो उसने दे दी।

इसके बाद भी न्यायालय ने उसका प्रकरण खारिज कर दिया, अभ वो व्यास से अपने पैसे वापस मांगने लगा। जैसे ही व्यास उसके पैसे लौटाने लगा, एसीबी के अधिकारी ने व्यास को गिरफ्तार कर लिया।

रिश्वत सुनते ही सबसे पहले दिमाग में यही आता है कि कोई रिश्वत लेते हुए पकड़़ गया या किसी ने रिश्वत की मांग या किसी ने रिश्वत दी लेकिन रिश्वत की राशि वापस लौटाते हुए पकड़े जाना बहुत कम देखा गया है। ऐसा ही मामला राजस्थान के बीकानेर से आया है।

बीकानेर में शिक्षा विभाग के एक अफसर ने परिवादी से काम के बदले रिश्वत ली थी लेकिन वो काम पूरा ना हो सका। इसके बाद निराश परिवादी अधिकारी पर पैसा वापस करने के लिए दबाव बनाने लगा। अधिकारी जैसे ही परिवादी को उसके पैसे लौटाने लगे, तभी वो पकड़ा गया।

यह मामला बीकानेर स्थित शिक्षा विभाग के निदेशक कार्यालय का है। यहां के ज्वाइंट लीगल एडवाइजर बद्रीनारायण व्यास को एसीबी ने रिश्वत के 30,000 रुपये लौटाते हुए पकड़ा। डीआईजी डॉ विष्णुकांत ने बताया कि नागौर के मुंडवा मारवाड़ में अर्जुनराम जाट ने लिखित शिकायत की थी।

शिकायत में बताया गया कि वह शिक्षा विभाग में पीटीआई के पद पर नियुक्त हुआ है। उसके खिलाफ पहले से चार आपराधिक प्रकरण न्यायालय में विचाराधीन होने के कारण उसकाा मामला माध्यमिक शिक्षा निदेशालय में चल रहा था। निदेशालय के ज्वाइंट लीगल एडवाइजर व्यास ने उसके पक्ष में रिपोर्ट दर्ज करने के लिए 30,000 रुपये की राशि मांगी, जो उसने दे दी।

इसके बाद भी न्यायालय ने उसका प्रकरण खारिज कर दिया, अभ वो व्यास से अपने पैसे वापस मांगने लगा। जैसे ही व्यास उसके पैसे लौटाने लगा, एसीबी के अधिकारी ने व्यास को गिरफ्तार कर लिया।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here