देश में कोरोना के 3.52 करोड़ से ज्यादा नमूनों की जांच, 22 लाख से अधिक मरीज ठीक | nation – News in Hindi

0
13
देश में कोरोना के 3.52 करोड़ से ज्यादा नमूनों की जांच, 22 लाख से अधिक मरीज ठीक

महाराष्ट्र में कोरोना के 10,441 नए मामले (फाइल फोटो)

देश में अब तक 3.52 करोड़ से अधिक नमूनों की जांच हो चुकी है, जबकि अब तक 22,80,566 कोरोना (Coronavirus) मरीज ठीक हो चुके हैं, जिससे मरीजों के ठीक होने की दर बढ़कर 74.90 प्रतिशत हो गई है.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    August 24, 2020, 12:08 AM IST

नई दिल्ली. देश में पिछले छह दिन में लगातार कोविड-19 (Covid-19) के लिए रोजाना आठ लाख से अधिक नमूनों की जांच के साथ देश में अब तक कुल 3.52 करोड़ से अधिक नमूनों की जांच हो चुकी है, वहीं संक्रमण के मामलों की पुष्टि की दैनिक औसत दर पिछले सप्ताह कम होकर 7.67 प्रतिशत हो गई है, जो तीन से नौ अगस्त के बीच 9.67 प्रतिशत थी. केंद्र सरकार ने रविवार को यह जानकारी दी. देश में अब तक 22,80,566 लोग इस बीमारी से ठीक हो चुके हैं, जिससे मरीजों के ठीक होने की दर बढ़कर 74.90 प्रतिशत हो गई है

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने कहा कि इस साल जनवरी में पुणे में महज एक प्रयोगशाला के माध्यम से परीक्षण की शुरुआत हुई थी, जो आज देशभर में अब तक कुल 3.5 करोड़ से अधिक परीक्षण का आंकड़ा पार कर चुका है. पिछले 24 घंटों में कुल 8,01,147 कोविड-19 परीक्षणों के साथ अब तक कुल 3,52,92,220 नमूनों के परीक्षण किए जा चुके हैं. मंत्रालय ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण के परीक्षण में तेजी से हो रही बढ़ोतरी केन्द्र की आक्रामक परीक्षण रणनीति के प्रभावी क्रियान्वयन का परिणाम है, जिसे एक केंद्रित और श्रेणीबद्ध दृष्टिकोण के माध्यम से किया जा रहा है.

प्रति 10 लाख की आबादी पर 25 हजार से ज्यादा टेस्ट

उसने कहा, ‘पिछले तीन हफ्तों के दौरान बढ़ते औसत दैनिक परीक्षण देशभर में कोविड-19 परीक्षणों की वृद्धि में हुई प्रगति का एक मजबूत चित्रण प्रस्तुत करते हैं. दैनिक परीक्षण में वृद्धि की वजह से प्रतिदिन संक्रमण के पुष्ट मामलों की औसत दर में कमी आई है.’ मंत्रालय ने कहा कि ‘टेस्ट, ट्रैक एंड ट्रीट’ यानी परीक्षण, निगरानी और उपचार की नीति पर गहन ध्यान रखने का नतीजा यह हुआ है कि आज प्रति दस लाख की आबादी पर परीक्षण की संख्या बढ़कर 25,574 तक पहुंच गई है.उसने कहा, ‘‘यह केवल व्यापक तौर पर आक्रामक परीक्षण करने से संभव हो पाया जिससे संक्रमण के पुष्ट मामलों की पहचान की जा सकी, समय-समय पर उनके संपर्क में आए लोगों का पता चल सका और उन्हें तुरंत घरों में ही पृथक-वास पर रखा गया तथा साथ ही गंभीर एवं अति गंभीर रोगियों को आवश्यक ​​उपचार प्रदान किया गया.’ बयान में कहा गया कि कोविड-19 संक्रमण की परीक्षण रणनीति ने राष्ट्रीय प्रयोगशाला नेटवर्क के निरंतर विस्तार को बढ़ावा दिया. आज की तारीख में सरकारी क्षेत्र में 983 प्रयोगशालाओं और 532 निजी प्रयोगशालाओं के साथ देश भर में कुल 1,515 प्रयोगशालाएं लोगों को व्यापक परीक्षण सुविधाएं प्रदान कर रही हैं.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here