अर्जुन अवॉर्ड के लिए चुने जाने पर जीता पत्‍नी का विश्‍वास तो इशांत शर्मा ने कही बड़ी बात | cricket – News in Hindi

0
11
अर्जुन अवॉर्ड के लिए चुने जाने पर जीता पत्‍नी का विश्‍वास तो इशांत शर्मा ने कही बड़ी बात

इशांत शर्मा ने कहा कि यह पिछले 13 साल की उनकी कड़ी मेहनत का फल है (फाइल फोटो )

इशांत शर्मा (Ishant Sharma) ने कहा कि मेरे से अधिक मेरी पत्नी को मुझ पर गर्व है, क्योंकि उनका मानना था कि मुझे पुरस्कार मिलना चाहिए.

नई दिल्ली. भारतीय तेज गेंदबाज इशांत शर्मा (Ishant Sharma) ने कहा है कि इस साल अर्जुन पुरस्कार मिलना उनकी पिछले 13 साल की कड़ी मेहनत का फल है और उन्हें स्वयं पर गर्व है. दिल्ली के 31 साल के इस तेज गेंदबाज ने कहा कि उनसे अधिक उनके परिवार विशेषकर उनकी पत्नी प्रतिमा सिंह को उनकी उपलब्धि पर गर्व है. इशांत और महिला क्रिकेटर दीप्ति शर्मा उन 27 खिलाड़ियों में शामिल हैं जिन्हें इस साल अर्जुन पुरस्कार के लिए चुना गया, जबकि भारत के सीमित ओवरों के उप कप्तान रोहित शर्मा उन पांच खिलाड़ियों को शामिल हैं, जिन्हें देश के सर्वोच्च खेल सम्मान खेल रत्न के लिए चुना गया है.

बीसीसीआई के अपने ट्विटर हैंडल पर डाले वीडियो संदेश में इशांत ने कहा कि जब मुझे पता चला कि मुझे अर्जुन पुरस्कार मिल रहा है तो मैं काफी खुश हुआ और अपने ऊपर गर्व महसूस किया. पिछले 13 साल में मैंने काफी कड़ी मेहनत की है, इसलिए यह मेरे और मेरे परिवार के लिए गौरवपूर्ण लम्हा है.

पत्‍नी का मानना था कि पुरस्‍कार मिलना चाहिए इशांत ने कहा कि मेरे से अधिक मेरी पत्नी को मुझ पर गर्व है, क्योंकि उनका मानना था कि मुझे पुरस्कार मिलना चाहिए. इशांत ने 2007 में भारत की ओर से पदार्पण करने के बाद 97 टेस्ट और 80 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मुकाबले खेले हैं. गेंदबाजी इकाई के रूप में मौजूदा भारतीय टीम की सफलता पर इशांत ने कहा कि व्यक्ति प्रदर्शन के बारे में सोचने की जगह प्राथमिकता हमेशा मैच जीतना होती है.

यह भी पढ़ें : 

पहले एमएस धोनी और रोहित के फैंस भिड़े, अब यहां पर समर्थकों ने लगा दी कारों में आग, 148 गिरफ्तार

लोगों का मेकअप करती हैं न्‍यूजीलैंड के स्‍टार गेंदबाज टिम साउदी की पत्‍नी, नेल आर्ट में भी हैं एक्‍सपर्ट

उन्होंने कहा कि भारतीय टीम की गेंदबाजी अभी मानसिकता यह है कि हम हमेशा सोचते हैं कि मैच कैसे जीता जाए, हमारे लिए यह सबसे महत्वपूर्ण प्राथमिकता है. इशांत ने कहा कि हम व्यक्तिगत प्रदर्शन के बारे में नहीं सोचते. हम प्रत्येक बल्लेबाज के हिसाब से योजना बनाते हैं. हम मैदान पर इन योजनाओं को अमलीजामा पहनाने की कोशिश करते हैं और हमारे लिए चीजें सही होती हैं.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here