Governments Responsibility To Provide Security To Prisoner In Jail Rajasthan High Court – देवी अपहरण और हत्याकांड मामले में कैदी को सुरक्षा मुहैया कराना सरकार की जिम्मेदारी : राजस्थान हाईकोर्ट

0
15
Rajasthan Hc Issue Notice To Speaker Over Madan Dilawar Petition Against Merger Of Bsp Mla In Congress - बसपा विधायकों के खिलाफ भाजपा की याचिका पर राजस्थान Hc ने स्पीकर को जारी किया नोटिस

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जोधपुर
Updated Sat, 22 Aug 2020 09:10 AM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

राजस्थान के चर्चित देवी अपहरण और हत्याकांड मामले के राजस्थान हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को भंवरी देवी के पति एवं आरोपी अमरचंद के बेटे को 70,497  रुपये वापस लौटने का आदेश दिया। हाईकोर्ट ने अपने आदेश में कहा, कैदी या विचाराधीन आरोपी को सुरक्षा मुहैया कराना सरकार की जिम्मेदारी है। न्यायाधीश दिनेश मेहता ने आरोपी अमरचंद की याचिका को स्वीकारते हुए सरकार को आदेश दिया कि वह आठ सप्ताह के भीतर इस मामले में जरूरी कार्रवाई करे। पुलिस अभिरक्षा की राशि मुलजिम या उसके परिवार जन से वसूल नहीं कर सकती।

अमरचंद के अधिवक्ता ने यशपाल खिलेरी ने बताया कि उनके मुवक्किल को पांच अक्तूबर 2019 से सात अक्तूबर के लिए अंतरिम जमानत मिली थी। जमानत अवधि के दौरान उनसे पुलिस अभिरक्षा के लिए 70,497 रुपये की मांग की गई। उन्होंने बताया कि न तो याचिकाकर्ता और नही उसका परिवार इस स्थिति में थे कि वह एसपी की इस मांग को पूरा कर सके।

राजस्थान के चर्चित देवी अपहरण और हत्याकांड मामले के राजस्थान हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को भंवरी देवी के पति एवं आरोपी अमरचंद के बेटे को 70,497  रुपये वापस लौटने का आदेश दिया। हाईकोर्ट ने अपने आदेश में कहा, कैदी या विचाराधीन आरोपी को सुरक्षा मुहैया कराना सरकार की जिम्मेदारी है। न्यायाधीश दिनेश मेहता ने आरोपी अमरचंद की याचिका को स्वीकारते हुए सरकार को आदेश दिया कि वह आठ सप्ताह के भीतर इस मामले में जरूरी कार्रवाई करे। पुलिस अभिरक्षा की राशि मुलजिम या उसके परिवार जन से वसूल नहीं कर सकती।

अमरचंद के अधिवक्ता ने यशपाल खिलेरी ने बताया कि उनके मुवक्किल को पांच अक्तूबर 2019 से सात अक्तूबर के लिए अंतरिम जमानत मिली थी। जमानत अवधि के दौरान उनसे पुलिस अभिरक्षा के लिए 70,497 रुपये की मांग की गई। उन्होंने बताया कि न तो याचिकाकर्ता और नही उसका परिवार इस स्थिति में थे कि वह एसपी की इस मांग को पूरा कर सके।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here