2020 में ऐसा क्या हो गया कि 5 खिलाड़ियों को मिलेगा खेल रत्न अवॉर्ड? | others – News in Hindi

0
13
 भारत के विस्‍फोटक बल्‍लेबाज रोहित शर्मा आज अरबों रुपयों के मालिक हैं, मगर कम ही लोग जानते होंगे कि उन्‍होंने अपनी पहली सैलरी का क्‍या किया था. टीम इंडिया के उप कप्‍तान रोहित शर्मा ने खुद बताया कि उन्‍होंने अपनी पहली सैलरी कहां पर खर्च की थी.

रोहित शर्मा खेल रत्‍न हासिल करने वाले चौथे क्रिकेटर होंगे (फाइल फोटो)

इतिहास में पहली बार एक साथ 5 खिलाड़ियों को खेल रत्‍न से नवाजा जाएगा . रोहित शर्मा, मनिका बत्रा, मरियप्‍पन, विनेश फोगाट और रानी रामपाल को इस बार यह सम्‍मान मिलेगा.

नई दिल्‍ली.  देश के खेल रत्‍नों की सूची में आने वाले 29 अगस्‍त को पांच खिलाडि़यों का नाम और जुड़ जाएगा. इस साल रोहित शर्मा (Rohit Sharma), मनिका बत्रा, मरियप्‍पन, विनेश फोगाट और रानी रामपाल को इस अवॉर्ड से नवाजा जाएगा. इस अवॉर्ड के इतिहास में ऐसा पहली बार है, जब एक साथ पांच खिलाड़ी खेल रत्‍न बनेंगे. इससे पहले 2016 में ओलिंपिक ईयर होने के बाद एक साथ चार खिलाड़ियों को खेल रत्‍न दिया गया था. अधिकतर यह अवॉर्ड हर साल एक या दो ही खिलाड़ियों को दिया जाता है, मगर ओलिंपिक ईयर या बड़े इवेंट में इसकी संख्‍या बढ़ जाती है, मगर 2020 में न तो ओलिंपिक हुए, न ही कॉमनवेल्‍थ और न ही एशियाड. फिर क्‍यों इस बार सबसे ज्‍यादा 5 खिलाड़ियों को यह सम्‍मान दिया जा रहा है. दरअसल इसके पीछे सबसे बड़ा कारण विवाद है.

एक ही तरह के विवाद
भारत के सर्वोच्च खेल सम्मान ‘राजीव गांधी खेल रत्न अवॉर्ड’ के साथ एक अनचाही चीज भी जुड़ी रही है, जो विवाद है. विवाद भी एक ही तरह के. जैसे ही अवॉर्ड की घोषणा होती, तो कोई दूसरा खिलाड़ी इस पर अपना हक जताते हुए सामने आ जाता. फिर अवॉर्ड चुनने वाली कमेटी पर आरोप और फेडरेशन से लेकर खेल मंत्रालय तक तू तू-मैं मैं… खेल मंत्रालय ने इससे आजिज आकर कुछ साल पहले ‘खेल रत्न अवॉर्ड’ के लिए नए पारदर्शी पैमाने तय कर दिए. इसके तहत ओलिंपिक को सबसे अधिक महत्व दिया गया है. इसमें गोल्ड, सिल्वर और ब्रॉन्ज मेडल जीतने पर खिलाड़ी के स्कोर में क्रमश: 80, 70 और 55 अंक जुड़ते हैं. ओलिंपिक के बाद वर्ल्ड कप और वर्ल्ड चैंपियनशिप को महत्व दिया गया है. इसमें प्रदर्शन के आधार पर खिलाड़ी को 40, 30 और 20 अंक मिलते हैं. इसके बाद एशियन गेम्स और कॉमनवेल्थ गेम्स को महत्व दिया गया है.

खेल मंत्रालय लगाता है आखिरी मुहरनियमानुसार सलेक्शन कमेटी खिलाड़ियों के कुल अंक के आधार पर खेल मंत्रालय को अपनी सिफारिश भेजती है. इसके बाद मंत्रालय निर्णय करता है कि इसे स्वीकार किया जाए या नहीं. आमतौर पर सिफारिश स्वीकार कर ली जाती है. इस साल 5 खिलाड़ियों को खेल रत्न क्यों चुना गया, इसका स्पष्ट कारण नहीं बताया गया है. पर खेल रत्न चुने गए खिलाड़ियों को देखें तो पता चलता है कि इस अवॉर्ड को दिए जाते वक्त सिर्फ 2019 नहीं, बल्कि 2018 के प्रदर्शन को भी अहमियत दी गई है. रोहित शर्मा जहां लगातार शानदार बल्‍लेबाजी कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: 

खेल मंत्रालय का बड़ा फैसला, खेल रत्‍न साक्षी मलिक और मीराबाई को नहीं मिलेगा अर्जुन अवॉर्ड

दिनेश कार्तिक की शादी को पूरे हुए पांच साल, दिल टूटने के बाद मिला था भारतीय खिलाड़ी का सहारा

पिछले साल वर्ल्‍ड कप में भी पांच शतक जड़े थे. वहीं विनेश फोगाट ने 2018 में कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स और एशियाड में गोल्‍ड मेडल जीता था. मरियप्‍पन ने 2016 पैरालिंपिक में टी42 में गोल्‍ड मेडल जीता था. टेबल टेनिस स्‍टार मनिका बत्रा ने कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स में गोल्‍ड और एशियाड में ब्रॉन्‍ज मेडल जीता था. भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्‍तान रानी रामपाल लगातार टीम को नई ऊंचाईयों पर लेकर जा रही हैं. इसी प्रदर्शन के आधार पर पांचों खिलाड़ी स्‍कोर में बराबर रहे.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here