मीडिया अक्सर मौद्रिक नीति से पहले माहौल का सही अंदाज लगा लेता है: RBI | business – News in Hindi

0
13
मीडिया अक्सर मौद्रिक नीति से पहले माहौल का सही अंदाज लगा लेता है: RBI

भारतीय रिज़र्व बैंक

केंद्रीय बैंक के सांख्यिकी और सूचना प्रबंधन विभाग द्वारा जारी एक अध्ययन रिपोर्ट में कहा गया है कि मीडिया अक्सर मौद्रिक नीति (RBI Monetary Policy) से पहले माहौल का सही अंदाज लगा लेता है. इसमें अप्रैल 2015 से दिसंबर 2019 के बीच नीतिगत दर से संबंधित दैनिक समाचारों को देखा गया है.

मुंबई. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के अधिकारियों के एक अध्ययन में कहा गया है कि मीडिया अक्सर केंद्रीय बैंक की मौद्रिक नीति (Monetary Policy) संबंधी घोषणाओं से पहले माहौल का सही अंदाज लगा लेता है. केंद्रीय बैंक के मौद्रिक नीति की घोषणा से पहले कई मीडिया संगठन विशेषज्ञों के विश्लेषण और बीते दिनों के महत्वपूर्ण व्यापक आर्थिक संकेतकों के उतार-चढ़ाव के आधार पर नीतिगत कार्रवाई का अंदाज लगाते हैं.

आरबीआई के सांख्यिकी और सूचना प्रबंधन विभाग (DSIM) के वृहद डेटा विश्लेषण प्रभाग की गीता गिद्दी और श्वेता कुमारी द्वारा लिखे गए लेख ‘मीडिया में नीतिगत दरों के अनुमान’ में कहा गया है, ‘‘यह पाया गया है कि कुछ मौकों को छोड़कर (मीडिया के) अनुमान नीतिगत दरों पर निर्णय के अनुरूप थे.’’

यह भी पढ़ें: Huawei और ZTE को ब्लॉक करने के बाद BSNL 4G के लिए नये मॉडल पर कर रही काम सरकार

इलेक्ट्रॉनिक और प्रिंटी मीडिया की भूमिक महत्वपूर्णलेख में कहा गया है कि इसमें व्यक्त किए गए विचार लेखकों के हैं और ये आरबीआई के विचारों का प्रतिनिधित्व नहीं करते हैं. लेख में कहा गया है कि बाजार अर्थव्यवस्थाओं में केंद्रीय बैंक के संचार का महत्व बढ़ने के साथ इलेक्ट्रॉनिक और प्रिंट मीडिया की भूमिका महत्वपूर्ण हुई हैं.

इसमें कहा गया है कि मीडिया आम जनता तक समाचारों को उनकी भाषा में पहुंचाने का काम करता है. इसके साथ ही वह विभिन्न आर्थिक एजेंटों के जरिये अवधारणाओं, चिंताओं और उनके विचारों को नीति निर्माताओं तक सीधे अथवा अप्रत्यक्ष रूप से पहुंचाने का काम भी करता है.

यह भी पढ़ें: बदल रहा रिटायर्ड केंद्रीय कर्मचारियों के लिए कॉन्ट्रैक्ट पर नियुक्ति का नियम

साढ़े चार साल के दैनिक समाचारों का विश्लेषण
इस अध्ययन में जिन समाचार लेखों का इस्तेमाल किया गया है उन्हें एक मीडिया आसूचना कंपनी से लिया गया है. इसमें अप्रैल 2015 से दिसंबर 2019 के बीच नीतिगत दर से संबंधित दैनिक समाचारों को देखा गया है. अप्रैल 2015 इस लिये चुना गया कि तब से ही देश में मुद्रास्फीति का लचीला लक्ष्य रखने की व्यवस्था शुरू हुई थी.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here