COVID-19: कोरोना के चलते हिमाचल के निजी स्कूलों के 60 हजार टीचर्स और कर्मियों पर संकट! | shimla – News in Hindi

0
4
COVID-19: कोरोना के चलते हिमाचल के निजी स्कूलों के 60 हजार टीचर्स और कर्मियों पर संकट!

हिमाचल में शिक्षक. (सांकेतिक तस्वीर)

Private Schools Teacher in Himachal Pradesh: हिमाचल प्रदेश में 3 हजार से ज्यादा निजी स्कूल (Private Schools) हैं और इन स्कूलों में शिक्षकों (Teachers) और कर्मचारियों (Employee) की संख्या 60 हजार से ज्यादा है.

शिमला. कोरोना संकट (Corona Crisis) के चलते हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के प्राइवेट स्कूलों के हजारों टीचरों (Teachers) की परेशानी काफी बढ़ गई है. किसी की नौकरी चली गई है तो किसी को वेतन (Salary) नहीं मिल रहा है. निजी स्कूलों (Private Schools) के कर्मचारियों का भी हाल यही है. हजारों शिक्षक बिना सैलरी के ही काम कर रहे हैं. टीचर बच्चों को ऑनलाइन (Online) पढ़ा रहे हैं, होमवर्क से लेकर असाइमेंट और पेपर चैक कर रहे हैं. कुछ स्कूल सैलरी दे रहे हैं तो कई स्कूलों ने वेतन में कटौती कर दी है. जो स्कूल (Schools) रेगुलर सैलरी दे रहे हैं उनकी संख्या बहुत कम है.

नौकरी के डर से नहीं बोलते टीचर
प्राइवेट स्कूलों के टीचरों और कर्मचारियों के पास अपनी बात रखने के लिए कोई मंच नहीं है. नौकरी और भविष्य के डर से कोई बोल नहीं रहा है. कोई पहचान गुप्त रखने के भरोसे पर दुखड़ा सुनाता है. ऐसे में राजधानी शिमला में छात्र अभिभावक मंच ने ये मुद्दा उठाया है. मंच ने प्राइवेट स्कूलों पर आरोप लगाया है कि कोरोना का बहाना बनाया जा रहा है.
3 हजार से ज्यादा प्राइवेट स्कूलमंच के संयोजक विजेंद्र मेहरा ने कहा कि प्रदेश में 3 हजार से ज्यादा निजी स्कूल हैं, इनमें काम करने वाले शिक्षकों और कर्मचारियों की संख्या 60 हजार से ज्यादा है. सरकार को इस मामले में हस्तक्षेप कर राहत देनी चाहिए. उन्होंने कहा स्कूलों ने मनमाने तरीके से फीस ली है, अब तक मुनाफा ही कमाया है, लेकिन अपने स्टाफ की मदद के बजाए उन्हें परेशान किया जा रहा है. साथ ही चेतावनी दी कि राहत नहीं दी गई तो प्रदेशव्यापी आंदोलन करेंगे.
ये बोले शिक्षा मंत्री

वहीं दूसरी ओर, इस मामले पर शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर का बड़ा बयान आया है. News 18 से फोन पर बातचीत में शिक्षा मंत्री गोबिंद सिंह ठाकुर ने कहा कि निजी स्कूलों की मनमानी के मामले की जांच की जाएगी. उन्होंने कहा कि फीस से लेकर अन्य मुद्दों पर अभिभावकों और शिक्षकों ने अपनी बात रखी है.साथ ही कहा कि बड़े निजी स्कूलों के खिलाफ शिकायतें ज्यादा हैं.जांच के बाद कार्रवाई अमल में लाई जाएगी.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here