जनांदोलन 2018 पर बनी फ़िल्म की भारत में हुई स्क्रीनिंग | bollywood – News in Hindi

0
14
जनांदोलन 2018 पर बनी फ़िल्म की भारत में हुई स्क्रीनिंग

जन आंदोलन 2018.

फिल्ममेकर आर. वरुण बताते हैं कि फ़िल्म में ऐसे कई पहलुओं को दर्शाने की उन्होंने कोशिश की है जो बहुत बड़े होते हैं लेकिन आम लोग उसे नज़रंदाज़ कर देते हैं.

जनांदोलन 2018 एक देशव्यापी आंदोलन था. इस आंदोलन में 25000 भूमिहीन लोगों ने ग्वालियर से दिल्ली तक पैदल कूच करने का आह्वान दिया था. इस देशव्यापी एवं अहिंसक आंदोलन पर अब फ़िल्म बनकर तैयार है. फ़िल्म का निर्माण आर. वरुण ने किया जो एक फिल्ममेकर हैं एवं पूर्व में भी कई फिल्मों का निर्माण कर चुके हैं.

क्या है फ़िल्म में
फिल्ममेकर आर. वरुण बताते हैं कि फ़िल्म में ऐसे कई पहलुओं को दर्शाने की उन्होंने कोशिश की है जो बहुत बड़े होते हैं लेकिन आम लोग उसे नज़रंदाज़ कर देते हैं. फ़िल्म में आदिवासी, भूमिहीन एवं वंचितों ने किस तरह अपने हक़ की लड़ाई के लिए ग्वालियर से दिल्ली जाने का आह्वान किया एवं वे क्या संघर्ष हैं जो भूमिहीन अपने दैनिक जीवन में महसूस करते हैं.

युवा शामिल हुए और अब बनाई फ़िल्मजनांदोलन 2018 में कई युवा भारत के अनेक राज्यों से सम्मिलित हुए एवं भूमिहीनों के साथ पूरी तरह आंदोलन का हिस्सा बने. जनांदोलन में शामिल हुए युवा बताते हैं कि उन्होंने इस पूरे आंदोलन से कई प्रेरणाएँ ली जैसे :- शहर में रहते हुए वे कभी नहीं जान पाए थे कि पूरे दिन में एक बार खाना खाकर कोई किस तरह 10 से 15 कि.मी तक पैदल चल सकता है.

जनांदोलन में वॉलिंटियर रहे कृष्णा नंद बताते हैं कि हम शहर में रहते हुए कभी भी अपने प्रिविलेज को नहीं जान पाते हैं जबकि यह बहुत ज़रूरी है हम अपने प्रिविलेज को जानें एवं वंचितों की आवाज़ बनें. कृष्णा ने कहा कि यह फ़िल्म कई तरह से महत्वपूर्ण है. वरुण बताते हैं इस फ़िल्म का निर्माण उन्होंने दो बार किया पहली बार जब फ़िल्म का निर्माण किया था वह पूरी तरह अपना संदेश प्रेषित नहीं कर पाए थे इसलिए उन्होंने दोबारा शुरू से फ़िल्म का निर्माण किया और अब यह फ़िल्म बनकर तैयार है.

दो स्क्रीनिंग होंगी, एक भारत में एक अंतरराष्ट्रीय
जनांदोलन बन बनी फ़िल्म दी अक्टूबर 6 की दो स्क्रीनिंग होंगी. अभी 10 अगस्त को इसकी स्क्रीनिंग भारत में की गई. यह स्क्रीनिंग ऑनलाइन होगी. भारत में स्क्रीनिंग के बाद फ़िल्म की इंटरनेशनल स्क्रीनिंग भी की जाएगी यह भी ऑनलाइन होगी एवं कई देशों से लोग इस स्क्रीनिंग का भाग होंगे.

‘द अक्टूबर 6’
फ़िल्म का नाम ‘द अक्टूबर 6’ रखा गया है. क्योंकि जनांदोलन 2018 की समाप्ति 6 अक्टूबर 2018 को हुई थी एवं यह ही वह दिन था जब जनांदोलन 2018 का तात्कालिक संघर्ष को विराम मिला था. जनांदोलन 2018 में 25000 भूमिहीन ग्वालियर से दिल्ली को ओर चले थे जिसमें मुख्यतः आदिवासी एवं वंचित वर्ग के लोग थे. गो रूर्बन की टीम भी आंदोलन का हिस्सा बनी एवं कई युवा साथियों ने आंदोलन में सहयोग किया.

गो रूर्बन एवं युवा भागीदारी
‘द अक्टूबर 6’ फ़िल्म के निर्माण में वे युवा प्रतिभागी बने जो जनांदोलन 2018 में भी प्रतिभागी थे. फ़िल्म के निर्माता वरुण एवं अन्य साथी भी स्वयं जनांदोलन के प्रतिभागी थे. गो रूर्बन द्वारा कटनी में एक कैम्प का आयोजन किया गया था जिसमें से कई युवाओं ने जनांदोलन में भाग लिया था एवं बाद में फ़िल्म में सहयोग किया.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here