6 घंटे में होगा दिल्ली से कटरा का सफर, 2023 तक पूरा हो जाएगा एक्सप्रेस रोड कॉरिडोर | nation – News in Hindi

0
2
6 घंटे में होगा दिल्ली से कटरा का सफर, 2023 तक पूरा हो जाएगा एक्सप्रेस रोड कॉरिडोर

इस परियोजना पर 35,000 करोड़ रुपये की लागत आने का अनुमान है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

दिल्ली से श्री माता वैष्णौ देवी का मंदिर (Sri Mata Vaishno Devi Mandir) जाने के लिए कटरा पहुंचने का रास्ता सिर्फ छह घंटे में हो सकेगा. कटरा-दिल्ली एक्सप्रेस रोड कॉरिडोर (Katra-Delhi Express Road Corridor) 2023 तक पूरा हो जाएगा.

नई दिल्ली. केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह (Jitendra Singh) ने बुधवार को कहा कि कटरा-दिल्ली एक्सप्रेस रोड कॉरिडोर (Katra-Delhi Express Road Corridor) पर काम शुरू हो गया है और यह 2023 तक पूरा जाएगा. उन्होंने कहा कि इससे दोनों गंतव्यों के बीच यात्रा की अवधि घटकर करीब साढ़े छह घंटे रह जाएगी. उन्होंने कहा कि इस परियोजना के पूरी हो जाने पर लोग ट्रेन या विमान के बजाय सड़क मार्ग से दोनों स्थानों के बीच यात्रा को प्राथमिकता देंगे. केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के कटरा (Katra) में श्री माता वैष्णौ देवी का मंदिर (Sri Mata Vaishno Devi Mandir) है.

कार्मिक मंत्रालय द्वारा जारी एक बयान के मुताबिक मंत्री ने कहा कि मेसर्स फीडबैक कंसलटेंट्स लिमिटेड द्वारा सर्वेक्षण कार्य पूरा किये जाने के बाद भूमि खरीद की प्रक्रिया लगभग पूरी होने को है और जमीन पर काम शुरू हो गया है. उन्होंने कहा कि इस परियोजना पर 35,000 करोड़ रुपये की लागत आने का अनुमान है. इससे पहले केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने बताया था कि श्रीनगर (Srinagar) और जम्मू (Jammu) में मेट्रो परियोजना (Metro Project) 2024 तक तैयार हो सकती है. सिंह ने पिछले सप्ताह कहा कि दोनों शहरों के लिए मेट्रो परियोजना की लागत करीब 10,599 करोड़ रुपये आएगी.

ये भी पढ़ें- प्रणब मुखर्जी की हालत लगातार बनी हुई है नाजुक, वेंटिलेटर सपोर्ट पर: अस्पताल

2024 के अंत तक पूरी हो सकती है मेट्रो परियोजनाउन्होंने अनुच्छेद 370 (Article 370) समाप्त किये जाने के बाद जम्मू कश्मीर में संचालित विकास परियोजनाओं की जानकारी देते हुए बताया था कि रेलवे सलाहकार कंपनी राइट्स लिमिटेड ने अंतिम विस्तृत परियोजना रिपोर्ट सौंप दी है और मेट्रो परियोजना 2024 के अंत तक पूरी हो सकती है. परियोजना पूरी होने के बाद श्रीनगर और जम्मू देश के पहले दो छोटे शहर बन जाएंगे जहां रैपिड परिवहन नेटवर्क संचालित होगा.

ये भी पढ़ें- राजीव त्यागी ‘आम भोज’ और उपहार में तुलसी का पौधा देने के लिए भी याद किए जाएंगे

प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री सिंह ने कहा था कि परियोजनाओं के महत्व को इसी तथ्य से समझा जा सकता है कि जम्मू कश्मीर तक पहली ट्रेन पहुंचने में आजादी के बाद दो दशक से अधिक समय लग गया था और जम्मू में पहला रेलवे स्टेशन 1970 के दशक में ही बनकर तैयार हुआ.

उन्होंने कहा कि लेकिन मोदी सरकार कम समय के भीतर मेट्रो ट्रेन परियोजनाओं को शुरू करने के लिए तेजी से काम कर रही है. ये परियोजना किफायती और टिकाऊ सार्वजनिक परिवहन प्रणाली होगी.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here