राजस्थान में फ्लोर टेस्ट हुआ तो गहलोत सरकार के खिलाफ मतदान करेंगे रालोपा के तीन विधायक: हनुमान बेनीवाल | jaipur – News in Hindi

0
4
राजस्थान में फ्लोर टेस्ट हुआ तो गहलोत सरकार के खिलाफ मतदान करेंगे रालोपा के तीन विधायक: हनुमान बेनीवाल

सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायकों की पार्टी में वापसी से विपक्ष मायूस हो गया है

बेनीवाल का कहना है कि पार्टी के विधायक जनभावनाओं के अनुरुप फैसला लेते हुए कांग्रेस के खिलाफ अपना वोट डालेंगे. गौरतलब है कि विधानसभा में रालोपा के तीन विधायक हैं.

जयपुर. मरुधरा के लंबे सियासी घटनाक्रम (Rajasthan Political crisis) में कांग्रेस आलाकमान के दखल के बाद दो फाड़ में बंटती नजर आ रही राजस्थान कांग्रेस (Rajasthan Congress) में सुलह हो गई है और पायलट (Sachin Pilot) खेमे के बागी विधायक जयपुर लौटने लगे हैं. दोनों खेमों के एक साथ आने के बाद अब राजस्थान सरकार (Rajasthan Government) पर संकट के बादल भी पूरी तरह छंट गए हैं. लेकिन विपक्ष के तीखे तेवर अभी बरकरार हैं. भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेता जहां अब भी सरकार को चंद महीनों का मेहमान बता रहे हैं वहीं एनडीए (NDA) में शामिल राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी भी अब तक कांग्रेस के खिलाफ अपना मोर्चा खोले हुए हैं.

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक हनुमान बेनीवाल (Hanuman Beniwal) ने कहा है कि जिस मकसद को लेकर पार्टी का गठन किया है उस मुद्दे पर वो आज भी कायम है और यदि विधानसभा में फ्लोर टेस्ट होता है तो पार्टी के विधायक कांग्रेस के खिलाफ अपना मतदान करेंगे. बेनीवाल का कहना है कि पार्टी के विधायक जनभावनाओं के अनुरुप फैसला लेते हुए कांग्रेस के खिलाफ अपना वोट डालेंगे. गौरतलब है कि विधानसभा में रालोपा के तीन विधायक हैं.

रालोप के आरोप
हनुमान बेनीवाल ने कहा कि राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी राजस्थान में जवान, किसान, बेरोजगार और आम अवाम से जुड़े मुद्दों की लड़ाई नई योजना के साथ मजबूती से लड़ेगी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस की आपसी फूट के चलते जो स्थिति पिछले एक महीने से राजस्थान में बनी उसका खामियाजा राजस्थान की जनता को उठाना पड़ा. चुने हुए विधायकों को बाड़ेबंदी में रखा गया और योजनाओं पर ताला लग गया. बेनीवाल ने यह भी कहा कि इस दौरान ब्यूरोक्रेसी पूरी तरह हावी रही और जनता के काम नहीं हो पाए. उन्होंने कहा कि प्रदेश में फोन टैपिंग प्रकरण हुए और एसओजी जैसी एजेंसियों का दुरुपयोग हुआ जो लोकतांत्रिक व्यवस्थाओं के लिए अच्छा नहीं है.ये भी पढ़ें- Political drama of Rajasthan: गहलोत और राजे रहे विजेता, पायलट और बीजेपी यूं खा गये मात, पढ़ें इनसाइड स्टोरी

नहीं हो पाई विधायक दल की बैठक
रालोपा की विधायक दल की बैठक भी मंगलवार को निर्धारित की गई थी लेकिन अपरिहार्य कारणों के चलते उसे स्थगित कर दिया गया. इस बैठक में आगामी 14 अगस्त से शुरु होने जा रहे विधानसभा सत्र को लेकर चर्चा की जानी थी. अब पार्टी के विधायक 13 अगस्त को बैठक कर विधानसभा में उठाए जाने वाले मसलों पर चर्चा कर सकते हैं. प्रदेश के सियासी घटनाक्रम पर बेनीवाल ने कहा है कि जनता के चुने हुए विधायकों का रेट कार्ड खुद कांग्रेस ने तय किया था. उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने राजस्थान की महान परम्पराओं के साथ खिलवाड़ किया और कुर्सी बचाने के लिए नैतिकता को तार-तार करने का खेल भी जनता के सामने आया.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here