विजयवाड़ा: कोरोना पॉजिटिव पत्‍नी का साथ देने सेंटर में रुका पादरी, आग में दोनों की मौत | nation – News in Hindi

0
2
विजयवाड़ा: कोरोना पॉजिटिव पत्‍नी का साथ देने सेंटर में रुका पादरी, आग में दोनों की मौत

आग की घटना में जल गया कोविड 19 सेंटर.

पादरी अब्राहम और उनकी पत्नी को एक पखवाड़े पहले कोविड-19 पॉजिटिव (Corona Positive) होने की रिपोर्ट मिली थी. दोनों कोविड सेंटर बनाए गए होटल में रह रहे थे, जहां रविवार को आग लग गई.

नई दिल्‍ली. आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) के विजयवाड़ा (Vijayawada) में रविवार को कोविड सेंटर में तब्‍दील किए गए एक होटल में आग लग गई. इसमें अब तक 10 लोगों की मौत हुई है. इन्‍हीं में एक थे 47 साल के पादरी साबिथी अब्राहम. वह जग्गायपेटा के चर्च में पादरी थे. शनिवार को उनकी कोरोना जांच रिपोर्ट नेगेटिव (Coronavirus) आई थी. लेकिन उन्‍होंने घर जाने के बजाय स्‍वर्ण पैलेस होटल में ही अपनी पत्‍नी के पास रुकने का फैसला लिया. उनकी पत्‍नी कोरोना पॉजिटिव थीं और दोनों 201-1 नंबर कमरे में रह रहे थे. हादसे में दोनों की ही मौत हो गई.

पादरी अब्राहम और उनकी पत्नी विजयवाड़ा से 80 किलोमीटर दूर जग्गायपेटा के रहने वाले थे. दोनों को एक पखवाड़े पहले कोविड-19 पॉजिटिव होने की रिपोर्ट मिली. इसके बाद उन्‍होंने रमेश हॉस्पिटल से संपर्क किया. रमेश हॉस्पिटल ने एक होटल कोविड 19 मरीजों के लिए ले रखा था. राजस्व विभाग के एक अधिकारी ने बताया, पादरी अब्राहम कोरोना वायरस संक्रमण से ठीक हो चुके थे. शनिवार को उनकी रिपोर्ट भी नेगेटिव आई थी. उन्‍हें घर जाने की सलाह दी गई थी. लेकिन उन्‍होंने अपनी पत्‍नी के साथ कोविड सेंटर में ही रहने का फैसला किया था.’

जग्गायपेटा के बेथेल मंत्रालयों के पादरी के जॉन बाबू पादरी अब्राहम के बहुत करीब थे. उन्होंने जानकारी दी कि उन दोनों के दो बच्‍चे हैं. एक 12 साल का है तो दूसरे की उम्र 14 साल है. अब्राहम बहुत ही दयालु व्यक्ति थे. जग्गयप्पा के सेंट थॉमस सीएसआई टाउन चर्च के रेवरेंड बेंजामिन ने कहा कि वह अब्राहम को कई सालों से जानते हैं. वह बेथेस्डा चर्च में पादरी थे. जग्गायपेटा में सब उन्‍हें जानते हैं. एक दिन पहले ही कोविड-19 की उनकी जांच नेगेटिव आई थी. हम उनसे रविवार को सेवा देने और वापस आकर अपनी पत्नी को लेने की उम्मीद कर रहे थे, लेकिन उन्होंने वहीं रहने का फैसला किया ताकि उनकी पत्नी अकेली न हो.

बता दें कि आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में कोरोना वायरस उपचार केंद्र में बदले गए एक होटल में रविवार को आग लगने से 10 मरीजों की मौत हो गई. आशंका है कि आग शॉर्ट सर्किट के कारण लगी. आपदा प्रतिक्रिया और अग्निशमन सेवा विभाग के महानिदेशक मोहम्मद अहसन रजा ने कहा कि एक कोविड-19 मरीज की मौत आग में झुलसने के कारण हुई जबकि नौ अन्य की मौत धुएं में दम घुटने से हुई. मरने वालों में तीन महिलाएं भी शामिल हैं.

आंध्र प्रदेश आपदा प्रतिक्रिया एवं अग्निशमन सेवा विभाग ने 32 लोगों को बचाया है. वहीं, आग लगने के बाद खुद को बचाने की कोशिश में होटल का एक कर्मचारी पहली मंजिल की खिड़की से कूद गया जिससे उसको चोट लगी और उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here