101 रक्षा उत्‍पादों के आयात पर लगेगी रोक, जानिए देश में कितना बड़ा होगा कारोबार | nation – News in Hindi

0
4
101 रक्षा उत्‍पादों के आयात पर लगेगी रोक, जानिए देश में कितना बड़ा होगा कारोबार

101 रक्षा उत्‍पादों के आयात पर लगी रोक

रक्षा मंत्रालय (Ministry of Defence) ने जिन 101​ उत्पादों पर रोक लगाने की बात कही है उसमें तोप, सोनार सिस्टम, ट्रांसपोर्ट एयरक्रॉफ्ट, LCH, रडार असॉल्ट राइफल और परिवहन विमान शामिल हैं.

नई दिल्ली. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने आत्मनिर्भर भारत की ओर कदम बढ़ाते हुए रविवार को बड़ी घोषणा की है. सरकार ने देश में रक्षा से जुड़े उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए 101 रक्षा उत्‍पादों के आयात (Import) पर पूरी तरह से रोक लगाने का फैसला किया है. सरकार की कोशिश है कि साल 2020 से 2024 के बीच इन समानों का देश में उत्पादन के साथ आयात भी पूरी तरह से रोक दिया जाए. सरकार के इस कदम से एक ओर जहां आयात से निर्भरता घटेगी वहीं देश में रक्षा उत्पादन बढ़ेगा और रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे.

राजनाथ सिंह ने कहा कि रक्षा मंत्रालय, आत्मनिर्मर भारत की ओर अपने कदम आगे बढ़ाने को तैयार है. देश में आयात किए जाने वाले 101 रक्षा साम​ग्रियों के आयात पर प्रतिबंध से रक्षा उद्योग को बड़े अवसर मिलेंगे. रक्षा मंत्रालय ने जिन 101​ उत्पादों पर रोक लगाने की बात कही है उसमें तोप, सोनार सिस्टम, ट्रांसपोर्ट एयरक्रॉफ्ट, LCH, रडार असॉल्ट राइफल और परिवहन विमान शामिल हैं.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बताया कि तीनों ही सेनाओं ने साल 2015 से 2020 के बीच 3.5 लाख करोड़ रुपये के रक्षा सामग्री का ठेका दिया है. एक अनुमान के मुताबिक अगले 6 से 7 साल में घरेलू उद्योग को करीब 4 लाख करोड़ रुपए के ठेके मिलेंगे. रक्षा मंत्री के अनुसार अगले 6 से 7 साल में इनमें से लगभग 1,30,000 करोड़ रुपये के उत्‍पाद सेना और वायुसेना के लिए अनुमानित हैं, जबकि नौसेना की ओर से लगभग 1,40,000 करोड़ रुपये उत्‍पादों का अनुमान जताया गया है.

इसे भी पढ़ें :- रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का बड़ा ऐलान- 101 रक्षा उत्‍पादों के आयात पर लगेगी रोक, देश में ही होगा निर्माणराजनाथ सिंह नक बताया कि आयात पर प्रतिबंध के लिए चिह्नित सैन्य वस्तुओं के घरेलू स्तर पर उत्पादन की समयसीमा सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाए जाएंगे. इसके साथ आगे आने वाले समय में और भी रक्षा उपकरणों पर प्रतिबंध लगाने के लिए चरणबद्ध तरीके से इन्हें चिह्नित किया जाएगा.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here