रेलवे में भर्ती के लिए हजारों पदों पर वैकेंसी का दावा, जानिए क्या है सच्चाई | business – News in Hindi

0
3
रेलवे में भर्ती के लिए हजारों पदों पर वैकेंसी का दावा, जानिए क्या है सच्चाई

रेलवें में हजारों पदों पर नियुक्तियों की नोटिस निकली है.

एक अख़बार में भारतीय रेल विभाग द्वारा विभिन्न पदों पर नियुक्तियों के बारे में नोटिस जारी किया गया है. इस नोटिस में एक अवेस्ट्रान इन्फोटेक नाम की एक कंपनी द्वारा आउसोर्सिंक की बात कही गई है और इसमें योग्यता व अन्य जानकारियां दी गई हैं.

नई दिल्ली. ​अवेस्ट्रान इन्फोटेक नाम की एक कंपनी ने भारतीय रेलवे में नौकरियों का एक विज्ञापन अख़बार में निकाला है. सोशल मीडिया पर यह तेजी से वायरल हो रहा है. इस कथित नोटिस में भारतीय रेल विभाग का हवाला देते हुए बताया गया है आवेस्ट्रान इन्फोटेक द्वारा आउटसोर्सिंग के माध्यम से 11 साल के अनुबंध पर विभिन्न पदों पर​ नियुक्तियां की जा रही है. इस नोटिस में आवेदन की अंतिम तारीख 10 अगस्त 2020 बताया गया है.

इन पदों पर भर्ती का नोटिस
जिन पदों पर नियुक्तियों की बात की गई है, इसमें कनिष्ठ सहायक, नियंत्रक, बुकिंग क्लर्क, गेटमैन, कैन्टीन सुपरवाइजर, चपरासी, केबिन मैन और वेल्डर का पद है. इसमें विभिन्न पे स्केल पर कुल 5285 नियुक्तियों की बात कही गई है.

यह भी पढ़ें: 8.5 करोड़ किसानों के खाते में आए 2-2 हजार रुपए, ऐसे चेक करें बैलेंसक्या है सच्चाई?

साथ ही उपयुक्त सभी पदों की आयु सीमा 18 से 40 वर्ष बताई गई है और कहा गया है कि निर्धारित शैक्षणिक योग्यता और अनुभव आदि की पूरी जानकारी के लिए अवेस्ट्रान की वेबसाइट पर जाना होगा. हालांकि, इस नोटिस में दिए गए वेबसाइट लिंक पर जाने पर लिखा है कि यह वेबसाइट अपनी सर्विस को बेहतर करने के​लिए डाउन है. जल्द ही यह सुचारु रूप से काम करने लगेगा.

रेल मंत्रालय और पीआईबी ने बताया फर्जी
हालांकि, रविवार को रेल मंत्रालय और पीआईबी फैक्ट चेक के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से बताया गया कि यह विज्ञापन फर्जी है. इस ट्वीट में लिखा गया, ‘रेल मंत्रालय ने कथित नोटिस में बताई नौकरियों को आउटसोर्स नहीं किया है, साथ ही योग्यता भी गलत है एवं रेलवे में लिंग के आधार पर कोई भेदभाव नहीं होता है.’

रेलवे ने साफ किया है कि उक्त विज्ञापन से भारतीय रेल या पूर्व मध्य रेल का कोई लेना-देना नहीं है. रेलवे में रिक्तियों से संबंधित सूचनाएं रेल भर्ती बोर्ड अथवा रेल भर्ती प्रकोष्ठ की आधिकारिक वेबसाइट पर ही उपलब्ध करायी जाती है. विभिन्न माध्यमों द्वारा इसका प्रचार प्रसार भी किया जाता है. रेल प्रशासन ने अनुरोध कि‍या है कि भारतीय रेल के नाम पर रोजगार देने का दावा करने वाले किसी विज्ञापन के धोखे में आने से बचें.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here