बड़ी खबर: पाकिस्‍तानी कप्‍तान की शर्मनाक हरकत, कमरे के अंदर अपने ही खिलाड़ियों की रिकॉर्डिंग की! | cricket – News in Hindi

0
12
बड़ी खबर: पाकिस्‍तानी कप्‍तान की शर्मनाक हरकत, कमरे के अंदर अपने ही खिलाड़ियों की रिकॉर्डिंग की!

अता उर रहमान ने कहा कि राशिद लतीफ राजनीति करते थे (फाइल फोटो )

पूर्व पाकिस्‍तानी खिलाड़ी ने बताया कि रिकॉर्डिंग करने के बाद खिलाड़ियों को डराया भी गया

नई दिल्‍ली. अपने बयानों के कारण अक्‍सर विवादों में रहने वाले पाकिस्‍तान (Pakistan) के दिग्‍गज खिलाड़ी राशिद लतीफ (atta ur rehman) को लेकर उनकी टीम के पूर्व साथी ने चौंकाने वाला खुलासा किया है. पूर्व पाकिस्‍तानी कप्‍तान राशिद लतीफ (rashid latif) ने पूर्व खिलाड़ी अता उर रहमान पर आरोप लगाया था कि वो किसी से पैसे लेते थे, जिसके बाद रहमान ने लतीफ पर कई आरोप लगाए. रहमान ने कहा कि सबसे पहले तो लतीफ उन लोगों के नाम बताए, जिनसे वे पैसे लेते थे. 45 साल के अता उर रहमान ने पूर्व पाकिस्‍तानी कप्‍तान पर आरोप लगाया कि लतीफ मैच फिक्सिंग में शामिल थे. 51 साल के लतीफ ने 1992 में पाकिस्‍तान की तरफ से डेब्‍यू किया था.1992 से 2003 के बीच वह बतौर विकेटकीपर पाकिस्‍तान के लिए टेस्‍ट और वनडे क्रिकेट खेले. 2003 में उन्‍होंने 6 टेस्‍ट और 25 वनडे मैचों में पाकिस्‍तानी टीम की कमान संभाली.

वहीं रहमान ने लतीफ से कुछ महीने 1992 में ही इंटरनेशनल डेब्‍यू किया था. जब रहमान ने इंग्‍लैंड के खिलाफ डेब्‍यू किया था, तो उनकी उम्र सिर्फ 17 साल थी. हालांकि उनका करियर ज्‍यादा लंबा नहीं चल पाया और वह 1992 से 1996 के बीच 13 टेस्‍ट और 30 वनडे मैच ही खेल पाए.
वीडियो बनाकर डराते थे लतीफ
अता उर रहमान ने कहा कि राशिद लतीफ फिक्सिंग में शामिल थे. वह राजनीति करते थे और खिलाड़ियों के कमरे में रिकॉर्डिंग करते थे . रहमान ने कहा कि लतीफ MQM का नाम लेकर सभी को डराते थे. उन्‍होंने कहा कि जबकि सच्‍चाई तो यह कि लतीफ पैसे लेते थे और उन्‍हें उनके नाम भी पता है.यह भी पढ़ें: 

गांगुली ने कहा वीवो का आईपीएल से हटना महज एक ‘झटका’, मुश्किल में नहीं है BCCI

बतौर कप्तान पहला मैच हारने से निराश हैं अजहर अली, बताई पाकिस्तान की हार की वजह
कुछ महीने पहले राशिद लतीफ (Rashid Latif) ने अपने देश के क्रिकेट बोर्ड पर गंभीर आरोप लगाए थे. उन्होंने कहा था पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (Pakistan Cricket Board) उन खिलाड़ियों का बचाव करता है जिन पर मैच फिक्सिंग का आरोप होता है. यहां तक कि बोर्ड उन खिलाड़ियों की मदद करता है. अपने यूट्यूब चैनल पर राशिद लतीफ ने कहा था कि हम हमेशा खिलाड़ियों को दोषी ठहराते हैं, बेशक वो भी फिक्सिंग में शामिल होते हैं, लेकिन क्या क्रिकेट प्रबंधन को उतना ही दोषी नहीं ठहराया जाना चाहिए.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here