India China Border Dispute: मेजर जनरल लेवल की बातचीत बेनतीजा, आज इन बिंदुओं पर हुई चर्चा | nation – News in Hindi

0
7
चीनी सेना की

भारत और चीन के बीच पांचवें दौर की लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की बैठक हुई थी लेकिन यह भी बेनतीजा ही रही थी.

भारत-चीन (India China Border Dispute) के बीच पूर्वी लद्दाख में हुए खूनी संघर्ष के बाद माहौल अब तक शांत नहीं हो पाया है. एलएसी (LAC) पर सब कुछ पहले की तरह सामान्य करने के लिए दोनों देशों के मेजर जनरल लेवल की बातचीत से भी कोई पुख्ता हल नहीं निकला सका है.

नई दिल्ली. भारत-चीन (India China Border Dispute) के बीच पूर्वी लद्दाख में हुए खूनी संघर्ष के बाद माहौल अब तक शांत नहीं हो पाया है. एलएसी (LAC) पर सब कुछ पहले की तरह सामान्य करने के लिए दोनों देशों के मेजर जनरल लेवल (Major General-Level Talks) की बातचीत से भी कोई पुख्ता हल नहीं निकला सका है. भारतीय सेना के सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक शनिवार को मेजर जनरल लेवल की बातचीत देर शाम 7:30 बजे तक चली.

शनिवार को हुई इस बातचीत में दोनों देशों के बीच लद्दाख क्षेत्र में चीनी पक्ष द्वारा विघटन, डेपसांग के मैदानी इलाकों से सैनिकों को हटाने और अन्य घर्षण बिंदुओं पर चर्चा हुई. सूत्रों के मुताबिक यह बातचीत दौलत बेग ओल्डी इलाके में हुई. हालांकि इस बातचीत में भी सीमा पर तनाव कम करने के लिए कोई ठोस हल नहीं निकला. इस बातचीत में 3 माउंटेन डिवीजन के जनरल ऑफिसर कमांडिंग मेजर जनरल अभिजीत बापट भारतीय पक्ष से वार्ता की अगुवाई कर रहे थे.

लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की बातचीत भी बेनतीजा
भारत और चीन के बीच पांचवें दौर की लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की बैठक हुई थी लेकिन यह भी बेनतीजा ही रही थी. यह बैठक लगभग 10 घंटे तक चली थी. भारत ने चीन पर पीछे हटने का दबाव बनाया तो चीन भी भारत से पैंगोंग त्सो से पीछे हटने को कहने लगा. भारत ने उसके प्रस्ताव को पुरजोर विरोध के साथ ठुकरा दिया. भारत फिंगर 8 को एलएसी मानता है और वहीं तक पट्रोलिंग करता था लेकिन चीन का कहना है कि भारत को फिंगर चार से भी पीछे हट जाना चाहिए.

चीन की धोखेबाज़ी
गलवान घाटी में 15 जून को चीनी सैनिकों के साथ झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे. तभी से सीमा पर तनाव बढ़ गया है. क्षेत्र में शांति और स्थिरता बहाल करने के लिए दोनों देशों की सेनाओं के शीर्ष सैन्य कमांडरों के बीच अब तक चार दौर की वार्ता हो चुकी है. सूत्रों के मुताबिक चीनी सेना ने गलवान घाटी और टकराव के कुछ जगहों से अपनी सेना हटा ली है. लेकिन भारत ने पैंगोंग सो में फिंगर प्वाइंट्स से भी सेना को पीछे हटाने की मांग की है. इन क्षेत्रों से चीन ने अपनी सेना को वापस नहीं बुलाया है.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here