विकास दुबे के एक और साथी उमाकांत ने किया सरेंडर, थाने पहुंचकर बोला- हाजिर हो रहा हूं, रहम करें | kanpur – News in Hindi

0
7
विकास दुबे के एक और साथी उमाकांत ने किया सरेंडर, थाने पहुंचकर बोला- हाजिर हो रहा हूं, रहम करें

थाने में सरेडर करने पहुंचा विकास दुबे का साथी उमाकांत शुक्ला

Kanpur Shootout: थाने पहुंचे उमाकांत शुक्ला ने गले में तख्ती लटकाई थी. जिसमें खुद के विकास दुबे का साथी होने और कानपुर कांड के बाद आत्मग्लानि की बात कही गई. उमाकांत शुक्ला ने पुलिस से रहम की गुहार लगाते हुए कहा कि मैं सरेंडर करने आया हूं.

कानपुर. उत्तर प्रदेश के कानपुर कांड (Kanpur Shootout) का एक और आरोपी पुलिस की गिरफ्त में आ गया है. 8 पुलिसकर्मियों की जघन्य हत्या को अंजाम देने वाले विकास दुबे (Vikas Dubey) के साथी उमाकांत शुक्ला (Umakant Shukla) ने सरेंडर (Surrender) कर दिया है. शनिवार को उमाकांत शुक्ला अपनी पत्नी और बेटी के साथ खुद चौबेपुर थाने पहुंचा और पुलिस से सरेंडर कर दिया. इस दौरान उमाकांत शुक्ला ने गले में तख्ती लटकाई थी. जिसमें खुद के विकास दुबे का साथी होने और कानपुर कांड के बाद आत्मग्लानि की बात कही गई. उमाकांत शुक्ला ने पुलिस से रहम की गुहार लगाते हुए कहा कि मैं सरेंडर करने आया हूं.

हमें बहुत आत्मग्लानि है

उमाकांत शुक्ला ने पुलिस से कहा मेरा नाम उमाकांत शुक्ला उर्फ गुड्डन है. कानपुर कांड में मैं विकास दुबे के साथ शामिल था. मुझे पकड़ने के लिए रोज पुलिस छापेमारी कर रही है, जिससे मैं बहुत डरा हुआ हूं. हम लोगों द्वारा जो घटना की गई थी, उसकी हमें बहुत आत्मग्लानि है. मैं खुद पुलिस के सामने हाजिर हो रहा हूं. मेरी जान की रक्षा की जाए, मुझ पर रहम किया जाए.

kanpur surrender1

उमाकांत ने ये तख्ती गले में लटकाई थी.

बेटी ने भी की गुजारिश

इस दौरान उमाकांत शुक्ला की बेटी ने पुलिस से हाथ जोड़कर गुजारिश की कि उसके पापा सरेंडर करने आए हैं, पुलिस उस पर रहम करे.

ये है पूरा मामला

2/3 जुलाई की रात कानपुर के बिकरु गांव में कुख्यात अपराधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए पुलिस टीम ने दबिश दी. इस दौरान विकास दुबे और उसके साथियों ने पुलिस पर ताबड़तोड़ फायरिंग से हमला किया, जिसमें सीओ समेत 8 पुलिसकर्मियों की मौके पर मौत हो गई थी. इस घटना ने उत्तर प्रदेश सरकार को हिलाकर रख दिया. कुछ दिन बाद विकास दुबे ने मध्यप्रदेश के उज्जैन में सरेंडर कर दिया. इसके बाद कानपुर लाते समय विकास दुबे का एनकाउंटर हो गया. वहीं विकास दुबे के कई अन्य साथी भी एनकाउंटर में मारे गए, कुछ गिरफ्तार होकर जेल में हैं.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here