अमिताभ ने लिखा- दलीलें अक्सर झूठ के लिए दी जाती है…सत्य तो स्वयं अपना वकील होता है | mumbai – News in Hindi

0
6
महिला ने कहा- आपके लिए अब इज्जत नहीं बची, पढ़िए अमिताभ बच्चन का रिप्लाई

अमिताभ बच्चन.

अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) ने लिखा है कि- ‘दलीलें अक्सर झूठ के लिए दी जाती है… सत्य तो स्वयं अपना वकील होता है!!’ उन्होंने अपने पिता की दो पंक्तियां भी शेयर की हैं, ‘मैं छुपाना जानता तो जग मुझे साधू समझता; शत्रु मेरा बन गया है छल रहित व्यवहार मेरा.’

मुंबई. बॉलीवुड के शहंशाह अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) कोरोना वायरस (Coronavirus) को मात देकर अपने घर पहुंच चुके हैं. इसके बाद से ही अमिताभ बच्चन पहले की ही तरह सोशल मीडिया पर सक्रिय हो गए हैं. शनिवार को उन्होंने सोशल मीडिया पर अपने गंभीर विचार रखे हैं. खास बात यह है कि अपने गंभीर विचार के समर्थन में अमिताभ बच्चन ने अपने पिता हरिवंश राय बच्चन की पंक्तियों को कोट किया है.

अमिताभ बच्चन ने अपने आधिकारिक इंस्टाग्राम अकाउंट पर लिखा है कि- ‘दलीलें अक्सर झूठ के लिए दी जाती है… सत्य तो स्वयं अपना वकील होता है!!’ उन्होंने अपने पिता की दो पंक्तियां भी शेयर की हैं, ‘मैं छुपाना जानता तो जग मुझे साधू समझता; शत्रु मेरा बन गया है छल रहित व्यवहार मेरा.’

घर लौटने के बाद कुछ सोशल मीडिया यूजर ने अमिताभ बच्चन को ‘अस्पताल के प्रमोशन’ के नाम पर निशाना बनाया है. सोशल मीडिया पर एक महिला ने बिग बी पर आरोप लगा दिया कि वो नानावती अस्पताल (Nanavati Hospital) का एड कर रहे हैं. साथ ही उसने यह भी आरोप लगा दिया कि नानावती अस्पताल को लोगों की जान की कोई परवाह नहीं है. नानावती अस्पताल से लौटने के बाद बिग बी ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर इसकी जानकारी दी और अस्पताल के मेडिकल स्टाफ को भी धन्यवाद दिया. इसी बात को लेकर महिला ने उन पर निशाना साधा. महिला ने बिग की फेसबुक पोस्ट पर लिखा कि, ‘नानावती अस्पताल ने मेरे पिता की कोरोना पॉजिटिव होने की गलत रिपोर्ट पेश की. श्रीमान अमिताभ, सच में यह बहुत दुख की बात है कि आप उस अस्पताल का विज्ञापन कर रहे हैं, जो लोगों की जिंदगी की परवाह नहीं करता और केवल पैसा कमाना चाहता है. माफ करें, लेकिन आपके लिए अब पूरी तरह से सम्मान खो चुकी हूं.’

अमिताभ बच्चन ने महिला के आरोपों को गलत बताते हुए कहा, ‘नहीं, मैं अस्पताल का एड नहीं कर रहा. मैं नानावती में मिले इलाज और देखभाल के लिए उन्हें धन्यवाद देना चाहता हूं. मैं ऐसा हर अस्पताल के लिए करता, जो मुझे भर्ती कर सम्मान के साथ मेरा इलाज करते. आप मेरे लिए सम्मान खो सकती हैं, लेकिन मैं अपने देश के चिकित्सा पेशे और डॉक्टरों के लिए सम्मान नहीं खोऊंगा. एक और आखिरी बात मेरा आदर और सम्मान आपके द्वारा जज नहीं किया जाएगा’.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here