छोटी उम्र में डिजिटल वर्ल्ड में नाम बना रहे हैं तुषार गनेरीवाल, ‘रोचक तथ्य’ से बनाई खास पहचान | nation – News in Hindi

0
4
छोटी उम्र में डिजिटल वर्ल्ड में नाम बना रहे हैं तुषार गनेरीवाल,

तुषार का यह कहना है कि ये सब मेरे माता पिता की वजह से ही मुमकिन हो पाया है, अगर वो मुझे अन्य बच्चों की तरह जरुरत से ज़्यादा प्यार करते तो शायद मैं दुनिया को नहीं समझ पाता और न ही मैं दूसरों से अलग सोचने की क्षमता रख पाता.

तुषार का यह कहना है कि ये सब मेरे माता पिता की वजह से ही मुमकिन हो पाया है, अगर वो मुझे अन्य बच्चों की तरह जरुरत से ज़्यादा प्यार करते तो शायद मैं दुनिया को नहीं समझ पाता और न ही मैं दूसरों से अलग सोचने की क्षमता रख पाता.

“सफलता के लिए आत्मविश्वास का होना बेहद ज़रूरी है और आत्मविश्वास के लिए तैयारी” 15 साल की उम्र से ही रोचक तथ्य के संस्थापक तुषार गनेरीवाल को नई-नई चीज़ों के बारें में जानने की बेहद उत्सुकता थी. ऐसे में उन्होंने अपनी प्रतिभा के आगे कभी भी अपनी छोटी उम्र को आड़े नहीं आने दिया और चीन की कंपनी 9Apps की सोशल मीडिया टीम से संपर्क करके, उनसे जुड़ने की इच्छा जताई. उनके अंदर की प्रतिभा और आत्मविश्वास को देखते हुए उन्हें प्रति माह 7,000 के लिए इंटर्नशिप ऑफर की गई. कुछ महीने इस कंपनी के साथ काम करने के बाद, तुषार गनेरीवाल को इस बात का अहसास होने लगा कि सफलता की ऊंचाइयों को छूने और अपने सपनों को पूरा करने के लिए डिजिटल मार्केटिंग बिलकुल उपयुक्त माध्यम है, ऐसे में अब अगर उन्हें कुछ इस क्षेत्र में बड़ा करना है, तो अब उन्हें कुछ अपना करने की सोचनी होगी. तुषार को सबसे बड़ी समस्या यह आयी की उनके पास निवेश करने के लिए पैसे नहीं थे ऐसे में उन्होंने दूसरे से अपेक्षा ना रखते हुए और अपने सपनों को पूरा करने के लिए खुद ही धन राशि को जुटाने में लग गये.

इस दौरान उन्होंने कुछ बड़ी कंपनियों के सोशल मीडिया को हैंडल करने के लिए अपनी खोज को जारी कर दिया. उनकी इस खोज के दौरान, उन्होंने पाया कि दुबई के एक समाचार चैनल के पेज पर केवल कुछ सौ लाइक्स हैं और कोई अधिक फ़ालोवर्स भी नहीं हैं. इसके बाद, तुषार ने उनसे संपर्क किया और उन्हें अपनी प्रतिभा के दम पर इस बात के लिए राज़ी कर लिया कि वह समाचार चैनल के इस पेज को कुछ ही वक्त में काफ़ी लोगों के बीच एक अलग पहचान दिला देंगे. लगातार मेहनत और अपने काम के प्रति उनकी लगन कुछ ही महीनों में रंग लाई. अब तुषार के पास धनराशि भी थी, अनुभव भी और इस फील्ड की समझ भी. तुषार ने अब खोजना शुरू किया की ऐसी कौनसी ऑडियंस है जो आंकड़ों में बड़ी है परंतु उनके पास कंटेंट कम है.

इसी बात को ध्यान में रखते हुए उन्होंने 26 अप्रैल 2016 को गुदगुदे चुटकुले नामक एक पोर्टल बनाया और उस पर केवल हिंदी भाषा के लोगों के लिए चुटकुले उपलब्ध करवाना शुरू किया. देखते ही देखते केवल 50 दिनों के भीतर ही उन्होंने अपने इस पोर्टल पर उन्हें 10 लाख से अधिक प्रशंसकों का प्यार मिला. तुषार के रिश्तेदार उनके माता पिता को हमेशा ताना मारा करते थे परंतु उनके माता पिता ने कभी रिश्तेदारों के तानो को गंभीरता से नहीं लिया और हमेशा तुषार का समर्थन किया. इसके बाद तुषार ने एक से बढ़कर एक पोर्टल शुरू कर दिए और 2016 के अंत में उन्होंने जर्मन कंटेंट पर काम किया जिसके परिणाम स्वरूप जर्मनी में टॉप 100 वेबसाइट में से 2 उन ही की वेबसाइट थी. पर भाषा उनके लिए एक अड़चन बन रहा था और उन्हें इस काम में मज़ा भी कम आ रहा था जिसकी वजह से उन्होंने फिर हिंदी ऑडियंस के लिए कंटेंट बनाना शुरू किया.

इसके बाद उन्होंने अपने 17वें जन्मदिवस पर 28 अक्टूबर 2017 में रोचक तथ्य नाम का पोर्टल लांच करा जिसपर वो दुनियाभर के एक से बढ़कर एक रोचक तथ्य और खबरे शेयर करने लगे. सबसे गजब की बात यह थी की रोचक तथ्य के सभी कंटेंट तुषार के पिता ही ढूंढा करते है. पिता के कंटेंट और तुषार के मार्केटिंग की वजह से देखते ही देखते सिर्फ कुछ महीनों में उनका यह पोर्टल 10 लाख प्रशंसकों से जुड़ गया था. उसके बाद तुषार ने कभी मुड़कर नहीं देखा और आज रोचक तथ्य के फेसबुक पेज पर 31 लाख से भी अधिक लोग जुड़े हुए है और इंस्टाग्राम पर 11 लाख से भी अधिक लोग जुड़े हुए है. रोचक तथ्य भारत का सबसे बड़ा फैक्ट पोर्टल बन गया.तुषार का यह कहना है की “ये सब मेरे माता पिता की वजह से ही मुमकिन हो पाया है, अगर वो मुझे अन्य बच्चों की तरह जरूरत से ज़्यादा प्यार करते तो शायद मैं दुनिया को नहीं समझ पाता और न ही मैं दूसरों से अलग सोचने की क्षमता रख पाता. मैंने हमेशा यह चीज़ देखी है की जो मां बाप अपने बच्चों को परेशानियों से दूर रखते है वो बाद में काफी पछताते है क्योंकि जिंदगी का असल ज्ञान समस्या असफलता ही देता है. और ये बात मेरे माता पिता बखूबी जानते थे और उन्होंने मुझे हर कठिनाई से लड़ना सिखाया ना की उससे बचना.”

काफ़ी कम समय में इतनी बड़ी सफलता पाने के बाद तुषार गनेरीवाल सिर्फ़ यहीं तक नहीं रुके बल्कि उन्होंने अपनी प्रतिभा से कुछ बड़े- बड़े ब्रांड्स जैसे अंबुजा सीमेंट, वेस्टर्न यूनियन, एशियन पेंट्स, वी मेट आदि के साथ भी काम किया.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here