कोरोनिल की जबरदस्त डिमांड? बाबा रामदेव ने कहा-रोजाना 10 लाख पैकेट की मांग, हो रही है एक लाख की आपूर्ति | business – News in Hindi

0
6
कोरोनिल की जबरदस्त डिमांड? बाबा रामदेव ने कहा-रोजाना 10 लाख पैकेट की मांग, हो रही है एक लाख की आपूर्ति

रामदेव ने कहा है कि पंतंजलि आयुर्वेद ने इसकी कीमत केवल 500 रुपये रखी है.

योग गुरु रामदेव (Yoga Guru Baba Ramdev) का कहना है कि कोरोनिल के 10 लाख पैकेट की मांग है और हम केवल एक लाख की आपूर्ति कर पार रहे हैं.’’ रामदेव ने कहा कि पंतंजलि आयुर्वेद ने इसकी कीमत केवल 500 रुपये रखी थी.

नई दिल्ली. योग गुरु रामदेव के मुताबिक पतंजलि आयुर्वेद (Patanjali Ayurveda) को कोविड-19 (Covid19) की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली विवादित दवा कोरोनिल (Coronil Medicine) के लिए हर दिन 10 लाख पैकेट की मांग मिल रही है. रामदेव ने बुधवार को कहा कि हरिद्वार स्थित यह कंपनी मांग को पूरा करने के लिए जूझ रही है, क्योंकि फिलहाल वह हर दिन सिर्फ एक लाख पैकेट की आपूर्ति कर पा रही है. उन्होंने दावा किया, आज हमारे पास प्रतिदिन कोरोनिल के 10 लाख पैकेट की मांग है और हम केवल एक लाख की आपूर्ति कर पार रहे हैं.रामदेव उद्योग संस्था एसोचैन द्वारा आयोजित कार्यक्रम ‘आत्म निर्भर भारत- वोकल फॉर लोकल’ को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए संबोधित कर रहे थे. इससे पहले जून में रामदेव ने दावा किया था कि कोरोनिल कोविड-19 रोगियों को ठीक कर सकता है. हालांकि, आयुष मंत्रालय ने तुरंत इसे बेचने पर प्रतिबंध लगा दिया और बाद में केंद्रीय मंत्रालय ने कहा कि पतंजलि इस उत्पाद को केवल प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की दवा के बेच सकती है और कोविड-19 के इलाज के रूप में इसे नहीं बेचा जा सकता.

कोरोनिल के दाम 5000 रुपये होते तो मिलते 5,000 करोड़ रुपये-  रामदेव ने कहा कि पंतंजलि आयुर्वेद ने इसकी कीमत केवल 500 रुपये रखी थी.

उन्होंने कहा, कोरोना वायरस महामारी के दौर में अगर हमने इसकी अधिक कीमत, यहां तक कि 5000 रुपये लगाई होती तो भी हम आसानी से 5,000 करोड़ रुपये तक कमा सकते थे. लेकिन हमने ऐसा नहीं किया गया.

ये भी पढ़ें-Lupin ने लॉन्च की COVID-19 की दवा Covihalt, कीमत सिर्फ 49 रुपए उन्होंने कहा, हमने अपने गाय के घी को 1,300-1,400 करोड़ रुपये का सालाना ब्रांड बनाया है. पतंजलि समूह का अनुमानित कारोबार लगभग 10,500 करोड़ है.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here