कोरोना का कहर: हर 15 सेकेंड में हो रही एक मौत, दुनिया भर में सात लाख से ज्यादा मारे गए | america – News in Hindi

0
8
कोरोना का कहर: हर 15 सेकेंड में हो रही एक मौत, दुनिया भर में सात लाख से ज्यादा मारे गए

नई दिल्ली. दुनिया भर में कोरोना वायरस (Coronavirus) का प्रकोप जारी है. हालात अब इतने ज्यादा खराब हो रहे हैं कि हर 15 सेकेंड में एक संक्रमित की मौत हो रही है. अभी तक कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा सात लाख पार हो गया है. दुनिया में अमेरिका, ब्राजील, भारत और मैक्सिको समेत कई अन्य देशों में महामारी तेजी से फैल रही है और इन्हीं देशों में मौत भी सबसे ज्यादा हो रही है. अमेरिका (America Coronavirus) में अब तक 49 लाख से ज्यादा लोग कोविड का शिकार हो चुके हैं जबकि 1 लाख 60 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. समाचार एजेंसी रायटर्स के अनुसार बीते दो हफ्तों में वैश्विक आंकड़ों से यह बात सामने आई है कि 24 घंटे में 5900 लोगों की मौत हो रही है. इसका मतलब यह हुआ कि हर घंटे 247 या हर 15 सेकेंड में 1 कोरोना संक्रमित की मौत हो रही है.

दुनिया भर में अब तक सात लाख पांच हजार संक्रमितों की मौत हो चुकी है. वहीं कोरोना से संक्रमित होने वालों की संख्या 1 करोड़ 87 लाख पार कर गई है. WHO द्वारा 11 मार्च के दिन कोरोना को महामारी घोषित किया गया. अभी तक दुनिया में अमेरिका कोरोना का एपिकसेंटर बना हुआ है. यहां कैलिफोर्निया, टेक्सास और फ्लोरिडा समेत कई राज्यों में संक्रमण का फैलाव बढ़ता जा रहा है. एक आंकड़े के अनुसार अमेरिका में फिलहाल हर रोज 1,000 से ज्यादा संक्रमितों की मौत हो रही है.

दुनिया में कोरोना मामले में दूसरे नंबर पर मौजूद ब्राजील में 24 घंटे की समयावधि में 51,000 से ज्यादा मामले सामने आए. जिसके बाद कोरोना संक्रमितों की आंकड़ा 28 लाख के पार हो गया. यहां एक दिन में 1154 रोगियों की मौत हो गई जिसके बाद यह आंकड़ा 96,000 से ज्यादा हो गया.

वुहान में कोविड-19 से ठीक हुए 90 प्रतिशत मरीजों के फेफड़ों में खराबीवहीं बात मैक्सिको की करें तो यहां साढ़े चार लाख संक्रमित हो चुके हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को बताया कि बीते 24 घंटेमें 6148 नये मामले पाए गए और इस दौरान 857 और लोगों की मौत हो गई.दूसरी ओर चीन में महामारी के केंद्र रहे वुहान शहर के एक प्रमुख अस्पताल से ठीक हुए कोविड-19 मरीजों के एक समूह के लिये गए नमूनों में से 90 प्रतिशत मरीजों के फेफड़ों को नुकसान पहुंचने की बात सामने आई है जबकि पांच प्रतिशत मरीज दोबारा संक्रमित पाए जाने के बाद आइसोलेशन में हैं.

मीडिया में बुधवार को आई खबर में यह जानकारी दी गई. वुहान विश्वविद्यालय के झोंगनन अस्पताल की गहन देखभाल इकाई के निदेशक पेंग झियोंग के नेतृत्व में एक दल अप्रैल से ही ठीक हो चुके 100 मरीजों को फिर से मिलकर उनके स्वास्थ्य की जांच कर रहा है.

मरीजों पर छह मिनट टहलने की जांच की
एक साल चलने वाले इस कार्यक्रम के पहले चरण का समापन जुलाई में हुआ. अध्ययन में शामिल मरीजों की औसत उम्र 59 साल है. सरकारी ग्लोबल टाइम्स की खबर के मुताबिक पहले चरण के नतीजों के मुताबिक 90 प्रतिशत मरीजों के फेफड़े अब भी खराब स्थिति में हैं, जिसका मतलब यह है कि उनके फेफड़ों से हवा के प्रवाह और गैस विनिमय का काम अब तक स्वस्थ लोगों के स्तर तक नहीं पहुंच पाया है.

पेंग के दल ने मरीजों पर छह मिनट टहलने की जांच की . उन्होंने पाया कि बीमारी से ठीक हुए लोग छह मिनट की अवधि में 400 मीटर ही चल सके जबकि स्वस्थ्य लोगों ने इस दौरान 500 मीटर की दूरी तय कर सकते थे. बीजिंग यूनिवर्सिटी ऑफ चाइनीज मेडिसिन के डोंगझेमिन अस्पताल के डॉक्टर लियांग टेंगशियाओ का हवाला देते हुए खबर में कहा गया कि अस्पताल से छुट्टी मिलने के तीन महीने बाद भी ठीक हो चुके कुछ मरीजों को ऑक्सीजन मशीन की जरूरत पड़ती है.

आईजीएम जांच में संक्रमण मिला 
लियांग का दल भी ठीक हो चुके 65 साल से अधिक उम्र के मरीजों से मिलकर उनके बारे में जानकारी जुटाने के काम में लगा है. नतीजों में यह भी सामने आया कि नये कोरोना वायरस के खिलाफ बनी एंटीबॉडीज भी 100 मरीजों में से 10 फीसदी में अब नहीं थीं. खबर में कहा गया कि कोविड-19 न्यूक्लीइक एसिड जांच में उनमें से पांच प्रतिशत के नतीजे नकारात्मक मिले लेकिन इम्यूनोग्लोबुलिन एम (आईजीएम) जांच में उनमें संक्रमण मिला जिसके बाद उन्हें फिर से आइ में जाना पड़ा.

जब कोई विषाणु हमला करता है तो प्रतिरोधी तंत्र द्वारा आम तौर पर सबसे पहली एंटीबॉडी आईजीएम बनती है. आईजीएम जांच में सकारात्मक नतीजे मिलने का आशय आम तौर पर यह है कि व्यक्ति अभी विषाणु से संक्रमित हुआ ही है. यह अब भी स्पष्ट नहीं है कि क्या इसका मतलब यह है कि ये लोग फिर से संक्रमित हो गए हैं. पेंग ने कहा, ‘यह नतीजे दिखाते हैं कि मरीजों के प्रतिरोधी तंत्र अब भी ठीक हो रहे हैं.’

भारत: कोविड-19 के संक्रमित मरीजों की संख्या अब 19,08,254 हो गई
देश में कोविड-19 के 52,509 नए मामले सामने आने के बाद बुधवार को संक्रमितों की संख्या 19 लाख के पार पहुंच गयी. देश में दो दिन में मामले 18 लाख से 19 लाख के पार पहुंच गए. केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि देश में अब तक 12,82,215 लोग इस संक्रमण से ठीक हो चुके हैं. मंत्रालय द्वारा बुधवार सुबह आठ बजे अपडेट किए आंकड़ों के अनुसार देश में कोविड-19 के संक्रमित मरीजों की संख्या अब 19,08,254 हो गयी है. वहीं पिछले 24 घंटे में 857 और लोगों की जान जाने के बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 39,795 हो गई है.

आंकड़ों के अनुसार कोविड-19 के मरीजों के ठीक होने की दर देश में 67.19 प्रतिशत है वहीं दूसरी ओर मृत्यु दर में गिरावट दर्ज की गयी है और अब यह 2.09 प्रतिशत है. कुल मामलों में से 5,86,244 मरीजों का उपचार चल रहा है, जो कुल मामलों का 30.72 प्रतिशत है. कुल मामलों में देश में संक्रमित पाए गए विदेशी नागरिक भी शामिल हैं.

देश में लगातार सातवें दिन कोविड-19 के 50,000 से अधिक मामले सामने आए हैं. भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार देश में चार अगस्त तक कुल 2,14,84,402 नमूनों की जांच हो चुकी थी, जिनमें से 6,19,652 नमूनों की जांच मंगलवार को ही की गई.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here