Rajasthan Merger Of Bsp Mlas With Congress Hearing Over In High Court Decision Will Come At 2 Pm – बसपा विधायकों के कांग्रेस में विलय के मामले में हाईकोर्ट में बहस पूरी, दोपहर दो बजे आएगा फैसला

0
15
Rajasthan Merger Of Bsp Mlas With Congress Hearing Over In High Court Decision Will Come At 2 Pm - बसपा विधायकों के कांग्रेस में विलय के मामले में हाईकोर्ट में बहस पूरी, दोपहर दो बजे आएगा फैसला

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जयपुर
Updated Thu, 06 Aug 2020 01:14 PM IST

अशोक गहलोत और सचिन पायलट (फाइल फोटो)
– फोटो : पीटीआई

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

राजस्थान में जारी सियासी उथल-पुथल के बीच बसपा विधायकों के मामले में हाईकोर्ट में बहस पूरी हो चुकी है। इस मामले में फैसला गुरुवार दोपहर दो बजे आएगा। कोर्ट ने विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी से जवाब मांगा था। भाजपा विधायक मदन दिलावर और बसपा ने अपनी पार्टी के छह विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने के खिलाफ हाईकोर्ट की डबल बेंच में अपील की थी।

भाजपा विधायक और बसपा ने हाईकोर्ट की सिंगल बेंच द्वारा 30 जुलाई को जारी अंतरिम आदेश को डबल बेंच में चुनौती दी थी। अपील में कहा गया है कि 14 अगस्त से राज्य विधानसभा का सत्र है। विधायकों के बाड़ेबंदी में होने के कारण नोटिस की कार्यवाही पूरी नहीं हो पा रही। ऐसे हालात में डबल बेंच स्पीकर के आदेश पर रोक लगाए।

स्पीकर सीपी जोशी ने बसपा के छह विधायकों को कांग्रेस में विलय की अनुमति दी थी। उनके इस फैसले के खिलाफ दोनों ही पक्षों ने सिंतबर 2019 में याचिकाएं दायर की थीं। एकल पीठ ने इसपर स्पीकर व बसपा के छह विधायकों को 30 जुलाई को नोटिस जारी किया व 11 अगस्त तक जवाब देने का निर्देश दिया था। हालांकि, एकल पीठ ने मदन दिलावर व बसपा को अंतरिम राहत नहीं दी थी। बसपा नेतृत्व व भाजपा विधायक ने छह विधायकों के सदन की कार्यवाही में कांग्रेस विधायक के तौर पर हिस्सा लेने पर रोक लगाने की मांग की थी।

दिलावर और बसपा की अपील पर सुनवाई करते हुए डबल बेंच ने कहा कि इस मामले से जुड़ी पिटीशन में सिंगल बेंच ने रोक के आवेदन को खारिज नहीं किया है। ऐसे में डबल बेंच कैसे सुनवाई कर सकती है? 

बसपा के छह विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने और स्पीकर की मंजूरी के आदेश को दिलावर और बसपा ने सिंगल बेंच में भी चुनौती दे रखी है। इस पर 11 अगस्त को सुनवाई होगी। बसपा के छह विधायकों संदीप यादव, वाजीब अली, दीपचंद खेरिया, लखन मीणा, जोगेंद्र अवाना और राजेंद्र गुधा ने पिछले साल सिंतबर में कांग्रेस में विलय कर लिया था।

राजस्थान में जारी सियासी उथल-पुथल के बीच बसपा विधायकों के मामले में हाईकोर्ट में बहस पूरी हो चुकी है। इस मामले में फैसला गुरुवार दोपहर दो बजे आएगा। कोर्ट ने विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी से जवाब मांगा था। भाजपा विधायक मदन दिलावर और बसपा ने अपनी पार्टी के छह विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने के खिलाफ हाईकोर्ट की डबल बेंच में अपील की थी।

भाजपा विधायक और बसपा ने हाईकोर्ट की सिंगल बेंच द्वारा 30 जुलाई को जारी अंतरिम आदेश को डबल बेंच में चुनौती दी थी। अपील में कहा गया है कि 14 अगस्त से राज्य विधानसभा का सत्र है। विधायकों के बाड़ेबंदी में होने के कारण नोटिस की कार्यवाही पूरी नहीं हो पा रही। ऐसे हालात में डबल बेंच स्पीकर के आदेश पर रोक लगाए।

स्पीकर सीपी जोशी ने बसपा के छह विधायकों को कांग्रेस में विलय की अनुमति दी थी। उनके इस फैसले के खिलाफ दोनों ही पक्षों ने सिंतबर 2019 में याचिकाएं दायर की थीं। एकल पीठ ने इसपर स्पीकर व बसपा के छह विधायकों को 30 जुलाई को नोटिस जारी किया व 11 अगस्त तक जवाब देने का निर्देश दिया था। हालांकि, एकल पीठ ने मदन दिलावर व बसपा को अंतरिम राहत नहीं दी थी। बसपा नेतृत्व व भाजपा विधायक ने छह विधायकों के सदन की कार्यवाही में कांग्रेस विधायक के तौर पर हिस्सा लेने पर रोक लगाने की मांग की थी।

दिलावर और बसपा की अपील पर सुनवाई करते हुए डबल बेंच ने कहा कि इस मामले से जुड़ी पिटीशन में सिंगल बेंच ने रोक के आवेदन को खारिज नहीं किया है। ऐसे में डबल बेंच कैसे सुनवाई कर सकती है? 

बसपा के छह विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने और स्पीकर की मंजूरी के आदेश को दिलावर और बसपा ने सिंगल बेंच में भी चुनौती दे रखी है। इस पर 11 अगस्त को सुनवाई होगी। बसपा के छह विधायकों संदीप यादव, वाजीब अली, दीपचंद खेरिया, लखन मीणा, जोगेंद्र अवाना और राजेंद्र गुधा ने पिछले साल सिंतबर में कांग्रेस में विलय कर लिया था।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here