Narendra Modi becomes first prime minister to visit Ram Janmabhoomi Ayodhya Ram temple bhoomi pujan | अयोध्या राम मंदिर: रामजन्मभूमि जाने वाले देश के पहले प्रधानमंत्री बने नरेंद्र मोदी

0
12
comScore


डिजिटल डेस्क, अयोध्या। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज बुधवार को अयोध्या में राम मंदिर की आधारशिला रखी। मंदिर के लिए भूमि पूजन होने के बाद देशवासियों का वर्षों का इंतजार खत्म हो गया है। इसी के साथ प्रधानमंत्री मोदी ने नए रिकॉर्ड भी अपने नाम कर लिए हैं। नरेंद्र मोदी रामजन्मभूमि जाने वाले और रामलला का दर्शन करने वाले देश के पहले प्रधानमंत्री बन गए हैं।

मोदी से पहले इंदिरा गांधी से लेकर राजीव गांधी और अटल बिहारी वाजपेयी ने प्रधानमंत्री रहते हुए अयोध्या का दौरा किया था, लेकिन उन्होंने रामजन्मभूमि से दूरी बनाए रखी थी। रामलला का दर्शन करने से महज इसीलिए भी महरूम रह गए थे, क्योंकि उस समय मामला अदालत में चल रहा था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 29 साल बाद अयोध्या में पहुंचे हैं। यह पहला मौका था, जब प्रधानमंत्री ने अयोध्या की हनुमानगढ़ी का दर्शन किया। इसी के साथ देश की सांस्कृतिक धरोहर के संरक्षण के प्रतीक किसी मंदिर के शुभारंभ कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाले पहले प्रधानमंत्री के तौर पर भी नरेंद्र मोदी का नाम दर्ज हो गया है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 29 साल पहले 1991 में पहली बार अयोध्या पहुंचे थे। तब वह बीजेपी के तत्कालीन अध्यक्ष डॉ. मुरली मनोहर जोशी के नेतृत्व में निकली तिरंगा यात्रा में उनके सहयोगी के तौर पर अयोध्या पहुंचे थे। यह यात्रा कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने की मांग को लेकर निकली थी। बताया जाता है, जनवरी 1991 में कन्याकुमारी से शुरू हुई यह यात्रा 18 जनवरी 1991 को अयोध्या पहुंची थी। तब मुरली मनोहर जोशी के साथ नरेंद्र मोदी ने अयोध्या के जीआइसी मैदान में सभा को संबोधित किया था। इस दौरान डॉ. जोशी और नरेंद्र मोदी ने रामलला के दर्शन भी किए थे।

देश की आजादी के बाद पहली बार प्रधानमंत्री के तौर पर इंदिरा गांधी ने 1966 में अयोध्या का दौरा किया था। इंदिरा अयोध्या में नया घाट पर बने सरयू पुल का लोकार्पण करने अयोध्या पहुंची थीं। दूसरी बार 1979 में इंदिरा गांधी ने अयोध्या का किया, तब उन्होंने हनुमानगढ़ी जाकर बजरंगबली के दर्शन किए थे। इसके बाद तीसरी बार इंदिरा 1975 में अयोध्या में आचार्य नरेंद्रदेव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय का शिलान्यास करने पहुंची थीं। तब वह विश्वविद्यालय के कार्यक्रम में हिस्सा लेकर वापस दिल्ली आ गई थीं। इन तीनों यात्राओं को दौरान इंदिरा गांधी ने रामलला के जन्मभूमि से दूरी बनाए रखी थी।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here