गर्लफ्रेंड को फोन करके फूट-फूटकर रोए थे इशांत शर्मा, जेम्स फॉकनर थे कारण | cricket – News in Hindi

0
4
इशांत शर्मा का खुलासा, शरीर से एमएस धोनी को 52 साल का लगता हूं, बीवी भी बूढ़ा बोलती है

इशांत शर्मा भारतीय टीम के अहम तेज गेंदबाज हैं

इशांत शर्मा (Ishant Sharma) ने साल 2013 में ऑस्ट्रेलिया (Australia) के खिलाफ वनडे सीरीज को अपने करियर का टर्निंग पॉइंट बताया

नई दिल्ली. भारतीय तेज गेंदबाज इशांत शर्मा (Ishant Sharma) आज टीम की तेज गेंदबाजी के अहम सदस्य हैं. इशांत अब तक 297 विकेट ले चुके हैं और मौजूदा टेस्ट टीम का अहम हिस्सा हैं. उन्होंने आखिरी बार वनडे मैच जनवरी 2016 में खेला था. इशांत ने भारत के लिए 80 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मुकाबले खेले हैं और 115 विकेट लिए हैं. इशांत ने बताया कि साल 2013 में उनके करियर में ऐसा मौका आया जब वह इस तरह टूट गए थे कि अपनी गर्लफ्रेंड को फोन करके फूट-फूट कर रोए थे.

फॉकनर ने इशांत के एक ओवर में बनाए थे 30 रन
इशांत शर्मा (Ishant Sharma) ने बताया कि साल 2013 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ साल 2013 में वनडे सीरीज को अपने करियर का टर्निंग पॉइंट बताया. इस सीरीज का आखिरी मैच मोहाली में खेला गया था. मैच में ऑस्ट्रेलिया को 18 गेंदों में 44 रन बनाने थे. धोनी ने तब गेंद इशांत को थमाई और ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज जेम्स फॉकनर ने उनके एक ओर में 30 रन बनाए थे. इशांत ने क्रिकेटबाजी शो में कहा, ‘मेरी जिंदगी का टर्निंग पॉइंट था साल 2013. फॉकनर ने एक ओवर में 30 मारे थे और ऑस्ट्रेलिया ने यह मैच जीत लिया था.’

गर्लफ्रेंड को फोन करके बहुत रोए थे इशांतइशांत (Ishant Sharma) ने कहा कि वह उस समय काफी टूट गए थे और उन्हें लग रहा था कि उन्होंने देश को धोखा दिया है. इशांत ने कहा, ‘दो-तीन हफ्ते तक मैंने किसी से बात नहीं की. मैं बहुत सख्त इंसान हूं लेकिन तब मैं बहुत रोया था. मैंने अपनी गर्लफ्रेंड को फोन किया और मैं बच्चों की तरह बहुत रोया था.मेरे लिए वह हफ्ते किसी बुरे सपने जैसे थे. मैं न खा पा रहा था न सो पा रहा था. टीवी चलाता था और लोग आपकी बुराई कर रहे होते थे जिसे देखकर और दुख होता था.’

राम मंदिर भूमि पूजन: सुरेश रैना और शिखर धवन ने बधाई देने के साथ ही बताई अपनी मनोकामना

हर सीरीज को गंभीरता से लेते हैं इशांत
हालांकि आज इशांत उससे पूरी तरह उभर चुके हैं लेकिन उसी एक सीरीज ने उन्हें चीजों को गंभीरता से लेना शुरू किया. उन्होंने कहा, ‘मैं आज उन चीजों को याद करता हूं तो हंसता हूं. कभी-कभी आपको ऐसे झटकों की जरूरत होती है. उस एक सीरीज ने काफी कुछ बदल दिया. उससे पहले मैं अपनी गलती की जिम्मेदारियां नहीं लेता था लेकिन अब मैंने ऐसा करना शुरू किया. आप हर मैच टीम के लिए जीतने चाहते हैं.’

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here