भारत ने सीमा पर कहां तैनात कीं ये राइफल वूमन, जो आतंकियों को घुसने से रोकेंगी | knowledge – News in Hindi

0
6
भारत ने सीमा पर कहां तैनात कीं ये राइफल वूमन, जो आतंकियों को घुसने से रोकेंगी

भारत ने जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir)  में एलओसी यानि नियंत्रण रेखा (line Of Control) पर महिला सैनिकों (Women Soldiers) की तैनाती कर दी है. सीमा पर गन लिए तैनात इन महिला सैनिकों का वीडियो एक-दो दिनों से वायरल हो रहा है. इन पर बहुत खास जिम्मेदारी तो है ही, वहीं जिस इलाके में तैनात की गई हैं, वो काफी ऊंचाई पर स्थित दुर्गम इलाका है, जहां ड्यूटी करना आसान तो कतई नहीं.

नौ महिला सैनिकों की पलटन यहां तैनात की गई है. ये महिला सैनिक असम राइफल्स से ताल्लुक रखती हैं. पिछले दिनों सुखवी स्थित असम राइफल्स के ट्रेनिंग सेंटर एंड स्कूल में पासिंग परेड के बाद 100 महिला सैनिकों को इस रेजीमेंट में शामिल किया गया था. असम राइफल्स का इतिहास 181 साल पुराना है.

कैसा वीडियो वायरल हो रहा है
जो वीडियो वायरल हो रहा है, उसमें लड़ाकू यूनिफॉर्म (Comat Uniform) में राइफल वूमन को भारतीय सीमा की सुरक्षा में तैनात देखा जा सकता है.भारतीय सेना के एक पूर्व अधिकारी (Former Indian Army Officer) ने ट्वीट के जबाव में बताया कि ये महिलाएं असम राइफल्स से हैं, जो सबसे पुराना अर्धसैनिक बल है.कई महिला सैनिक मां भी

असम राइफल्स रेजिमेंट कई ऐसी भी महिलाएं हैं, जो मां भी हैं. लेकिन इन रेजीमेंट में शामिल होने के लिए उन्होंने कड़ी मेहनत की. इसमें कुछ महिलाएं ऐसी भी हैं, जो शहीदों की पत्नियां हैं.

ये भी पढ़ें :- क्या है ओटीटी प्लेटफॉर्म और किस तरह यहां पैसा कमाती हैं फिल्में?

आमतौर पर असम राइफल्स के निदेशक भारतीय सेना के लेफ्टिनेंट जनरल रैंक के अधिकारी होते हैं. अर्धसैनिक बल होने के नाते, असम राइफल्स गृह मंत्रालय के अंतर्गत आता है.

असम राइफल्स की महिला सैनिक

पहला मौका महिला सैनिकों के एलओसी पर तैनाती का .
ये देश का पहला मौका है जबकि महिला सैनिकों को एलओसी पर तैनात किया गया है. उन्हें 10000 फीट की ऊंचाई पर एलओसी के सढ़ाना टॉप पर तैनात किया गया है. ये पहला मौका भी जबकि उन्हें नेशऩल सेक्यूरिटी ड्यूटी पर तैनात किया गया है.

इस नौ राइफल वूमन हैं, उनकी अगुवाई इंडियन आर्मी की कैप्टेन रैंक की अफसर कर रही है. ये राइफल वूमन असम राइफल्स की बेशक हैं लेकिन फिलहाल डेपुटेशन पर इंडियम आर्मी में भेजी गई हैं.

ये भी पढ़ें – सुशांत सिंह राजपूत केस: बिहार की सिफारिश के बाद क्या संभव है CBI जांच?

ये वहां क्या करेंगी
नियमित सुरक्षा के अलावा ड्र्ग्स की स्मगलिंग, फेक करेंसी और हथियार चोरी चुपके भारत आने से रोकेंगी. ये इलाका पाकिस्तान अधिकृत से बहुत करीब है.जहां से पाकिस्तानी आतंकवादी लगातार भारत में घुसपैठ करते हैं. ये महिला सैनिक यहां से गुजरने वाले हर वाहन को चेक करती हैं.

भारतीय सेना में महिलाएं 
भारतीय सेना के तीनों कमांड में अब महिलाओं की नियुक्ति हो रही है. अब तक तो उन्हें शार्ट कमीशन मिलता था लेकिन अब सरकार ने उनके परमानेंट कमीशन की अनुमति दे दी है. साथ ही मोर्चे पर भी महिलाओं की तैनाती हो सकती है.  उसके बाद महिलाओं को पहली बार ये जिम्मेदारी देना एक बड़ा कदम है और इससे लगता है कि भविष्य में हम महिलाओं को और भी खास भूमिकाओं में देख सकेंगे.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here