IPL के कारण BCCI को पड़ने लगी गालियां, लोगों ने कहा- अच्‍छा होगा चीनी दर्शक भी ढूंढ लो | cricket – News in Hindi

0
6
आईपीएल गवर्निंग काउंसिल की बैठक, चीनी कंपनी के साथ करार तोड़ने पर होगी चर्चा!

बीसीसीआई चीनी कंपनी के साथ करार नहीं तोड़ेगा (फाइल फोटो)

बीसीसीआई (BCCI) ने चीनी कंपनी के साथ करार न तोड़ने का फैसला किया, जिसके बाद #BoycottIPL सोशल मीडिया पर ट्रेंड हो रहा है

नई दिल्‍ली. आईपीएल (IPL) के 13वें सीजन का आयोजन इस साल यूएई में 19 सितंबर से 10 नवंबर तक किया जाएगा. रविवार को गवर्निंग काउंसिल की हुई मीटिंग में इस पर मुहर लगी. बीसीसीआई को भारत सरकार से भी मजूंरी मिल चुकी है. मगर आईपीएल मीटिंग खत्‍म होने के बाद से ही बीसीसीआई को गालियां पड़ रही हैं. बॉयकॉट आईपीएल सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहा है.

दरअसल मीटिंग में आईपीएल के आयोजन के साथ ही चीनी कंपनी के साथ करार को लेकर बड़ा फैसला लिया गया है. मीटिंग होने से पहले माना जा रहा था कि बीसीसीआई (BCCI) आईपीएल की मुख्‍य प्रायोजक चीनी कंपनी वीवो को झटका दे सकता है, मगर ऐसा नहीं हुआ.

Boycott IPL, ipl, cricket, ipl 2020, ipl in uae, sports news, vivo, bcci, sourav ganguly, सौरव गांगुली, आईपीएल,यूएई में आईपीएल, वीवो, बीसीसीआई, बॉयकॉट आईपीएल, क्रिकेट, स्‍पोर्ट्स न्‍यूज

बीसीसीआई ने चीनी कंपनी के साथ करार बरकरार रखने का फैसला लिया है. वीवो टाइटल प्रायोजक है जबकि पेटीएम, ड्रीम 11, बाईजूस और स्विगी में चीनी निवेश है. भारत और चीन के बीच मौजूदा तनाव को देखते हुए यह मुद्दा 10 सूत्री एजेंडे में सबसे अहम था.Boycott IPL, ipl, cricket, ipl 2020, ipl in uae, sports news, vivo, bcci, sourav ganguly, सौरव गांगुली, आईपीएल,यूएई में आईपीएल, वीवो, बीसीसीआई, बॉयकॉट आईपीएल, क्रिकेट, स्‍पोर्ट्स न्‍यूज

बीसीसीआई को एक साल में इससे 440 करोड़ रुपये मिलते हैं. चीनी कंपनी के साथ संबंध न तोड़ने के फैसले के बाद से ही बीसीसीआई और सौरव गांगुली ट्रोल रहे हैं.

Boycott IPL, ipl, cricket, ipl 2020, ipl in uae, sports news, vivo, bcci, sourav ganguly, सौरव गांगुली, आईपीएल,यूएई में आईपीएल, वीवो, बीसीसीआई, बॉयकॉट आईपीएल, क्रिकेट, स्‍पोर्ट्स न्‍यूज
फैंस ने बीसीसीआई पर निशाना साधते हुए कहा कि बीसीसीआई शर्म करो. वहीं एक फैन ने कहा कि बीसीसीआई और आईपीएल को अभी भी इस फैसले पर सोचना चाहिए. एक फैन ने लिखा कि देश पहले होता है. बीसीसीआई सिर्फ पैसा कमाना चाहता है. सैनिकों को सम्‍मान दें और आईपीएल का बहिष्‍कार करें.

चीनी कंपनियों से भारत को फायदा

लद्दाख में सीमा पर गलवान में दोनों देशों के बीच सैन्य तनाव के बाद चीन विरोधी माहौल गर्म है. चार दशक से ज्यादा समय में पहली बार भारत चीन सीमा (India-China) पर हुई हिंसा में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए. उसके बाद से चीनी उत्पादों के बहिष्कार की मांग की जा रही थी.

यह भी पढ़ें: 

भारत सरकार ने लगाई IPL 2020 के आयोजन पर मुहर, UAE में 10 नवंबर को होगा फाइनल

सौरव गांगुली ने महिला आईपीएल के आयोजन की पुष्टि की तो मिताली राज ने कही बड़ी बात

कुछ दिन पहले बीसीसीआई के कोषाध्‍यक्ष अरुण धूमल ने कहा था कि आईपीएल जैसे भारतीय टूर्नामेंटों के चीनी कंपनियों द्वारा प्रायोजन से देश को ही फायदा हो रहा है. बीसीसीआई को वीवो से सालाना 440 करोड़ रुपये मिलते हैं जिसके साथ पांच साल का करार 2022 में खत्म होगा.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here