CISF को मिली लेह एयरपोर्ट की सुरक्षा की जिम्मेदारी, 4 अगस्त से तैनात होंगे 100 जवान | nation – News in Hindi

0
4
CISF कर्मियों को देनी होगी FB, Twitter अकाउंट की आईडी, नहीं तो होगी कार्रवाई

अधिकारियों ने बताया कि चार अगस्त को औपचारिक कार्यक्रम में सीआईएसएफ लेह हवाई अड्डे की सुरक्षा संभालेगा. (सांकेतिक तस्वीर)

Ladakh: 100 सीआईएसएफ (CISF) कर्मियों का दल सामरिक रूप से महत्वपूर्ण लेह हवाई अड्डे (Leh Airport) की चौबीसों घंटे सशस्त्र सुरक्षा में तैनात होगा. यह हवाई अड्डा समुद्र तल से करीब 3256 मीटर की ऊंचाई पर है.

नई दिल्ली. सेंट्रल इंडस्ट्रियल सिक्योरिटी फोर्स (Central Industrial Security Force) चार अगस्त को लेह हवाई अड्डे (Leh Airport) की सुरक्षा अपने हाथ में ले लेगा. यह देश का सबसे ऊंचा वाणिज्यिक हवाई अड्डा है. यह जानकारी अधिकारियों ने दी. उन्होंने बताया कि करीब 100 सीआईएसएफ कर्मियों (CISF Personnel) का दल सामरिक रूप से महत्वपूर्ण हवाई अड्डे की चौबीसों घंटे सशस्त्र सुरक्षा में तैनात होगा. यह हवाई अड्डा समुद्र तल से करीब 3256 मीटर की ऊंचाई पर है. भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) द्वारा संचालित कुशोक बकुला रिमपोछे हवाई अड्डा 64वां हवाई अड्डा है जिसकी सुरक्षा में केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) तैनात होगी. वर्तमान में स्थानीय पुलिस यहां सुरक्षा में तैनात है.

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) का विशेष दर्जा वापस लिए जाने और इसे दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटे जाने के बाद पिछले वर्ष 31 अक्टूबर को लद्दाख (Ladakh) केंद्रशासित प्रदेश बना था. अधिकारियों ने बताया कि चार अगस्त को औपचारिक कार्यक्रम में सीआईएसएफ लेह हवाई अड्डे की सुरक्षा संभालेगा. सीआईएसएफ के महानिदेशक राजेश रंजन और एएआई तथा लद्दाख केंद्रशासित क्षेत्र के वरिष्ठ अधिकारी कार्यक्रम में मौजूद रहेंगे.

ये भी पढ़ें- राम मंदिर में लगेगा राजस्थान के मरुधरा का यह नामी पत्थर, जानें इसकी खासियत

इसलिए सीआईएसएफ को दिया गया सुरक्षा का जिम्माबल के पास हवाई अड्डों के लिए आतंकवाद-रोधी सुरक्षा प्रदान करने के लिए एक विशेष विमानन सुरक्षा समूह (ASG) है और उसने क्रमशः फरवरी और मार्च में श्रीनगर और जम्मू (जम्मू-कश्मीर) में ऐसी यात्री सुविधाओं को संभाला है. एयर इंडिया, विस्तारा, गोएयर और स्पाइसजेट लेह और दिल्ली के बीच वाणिज्यिक यात्री उड़ानें संचालित करती हैं.

ये भी पढ़ें- फारुख अब्दुल्ला ने कश्मीरी पंडितों के पलायन की जांच कराने की मांग की

हवाई अड्डे पर एक नया यात्री टर्मिनल 480 करोड़ रुपये की लागत से बनाया जा रहा है और अगले साल सितंबर तक पूरा होने की उम्मीद है. जम्मू-कश्मीर के पुलिस अधिकारी दविंदर सिंह को जनवरी में तीन हिज्बुल मुजाहिदीन आतंकवादियों को चंडीगढ़ ले जाते हुए श्रीनगर से गिरफ्तार किए जाने के बाद तीन रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण और संवेदनशील हवाई अड्डों श्रीनगर, जम्मू और लेह की सुरक्षा का जिम्मा सीआईएसएफ को सौंपा गया था.

अन्य हवाई अड्डों पर भी हो सकती है सीआईएसएफ की तैनाती
लेह हवाई अड्डे पर सीआईएसएफ की टुकड़ी सुविधा के लिए 24 घंटे सातों दिन सशस्त्र कवर प्रदान करेगी और टर्मिनलों के फाटकों पर और एक उड़ान में सवार होने से पहले यात्रियों से व्यापक सुरक्षा जांच और बॉडी फ्रिस्किंग करेगी. सैनिकों को एके सीरीज और इंसास जैसी असॉल्ट राइफलों से लैस किया जाएगा, और मैन्टेज पोजिशन पर बनाए गए वॉच टॉवरों से एयरपोर्ट परिधि को घेरा जाएगा.

केंद्र सरकार ने कहा है कि CISF एकमात्र नागरिक हवाई अड्डा रक्षक बल होगा और देश में ऐसी सभी सुविधाओं को धीरे-धीरे विमानन सुरक्षा को मजबूत करने और आतंकवाद विरोधी और अपहरण विरोधी प्रोटोकॉल को कड़ा करने के लिए इसकी कमान में लाया जाएगा.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here