राम मंदिर निर्माण में लगेगा राजस्थान के मरुधरा का यह नामी पत्थर, जानें इसकी खासियत | ayodhya – News in Hindi

0
10
राम मंदिर निर्माण में लगेगा राजस्थान के मरुधरा का यह नामी पत्थर, जानें इसकी खासियत

इसकी खासियत को देखते हुए ही देश के बड़े-बड़े मंदिरों और भवनों में इन पत्थरों को लगया गया है.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

अयोध्या (Ayodhya) में भगवान राम (God Rama) का भव्य मंदिर बनाने के लिए राजस्थान (Rajasthan) के बंशी पहाड़पुर (Banshi Paharpur) के पत्थरों (Stones) को खासतौर पर मंगाया गया है. देश के कई अक्षरधाम मंदिरों, संसद भवन, लालकिला और इस्कान के अधिकांश मंदिरों में यह पत्थर लगा हुआ है.

जयपुर. राम मंदिर (Ram Temple) निर्माण में राजस्थान (Rajasthan) के बंसी पहाड़पुर (Bansi Paharpur) का पत्थर (Stones) अपना विशेष योगदान देने जा रहा है. बंशी पहाड़पुर इलाके का पत्थर अपनी मजबूती और सुंदरता के लिए विश्व प्रसिद्ध है. इसकी खासियत को देखते हुए ही देश के बड़े-बड़े मंदिरों और भवनों में इन पत्थरों को लगया गया है. अयोध्या (Ayodhya) में भगवान राम (God Rama) का भव्य मंदिर बनाने के लिए इन पत्थरों को खासतौर पर मंगाया गया है. देश के कई अक्षरधाम मंदिरों, संसद, लालकिला और इस्कान के अधिकांश मंदिरों में बंशी पहाड़पुर का पत्थर लगा है. आगरा का लाल किला, भरतपुर के गंगा मंदिर, लक्ष्मण मंदिर, जयपुर की विधानसभा भवन सहित विदेशों में अनेक विशाल मंदिरों का निर्माण में इसी पत्थर को लगाया गया है.

राम मंदिर में लगेगा बंशी पहाड़पुर का पत्थर
बता दें कि एक बार फिर से राजस्थान का नाम शौर्य के साथ-साथ राम काज से भी जुड़ जाएगा. प्रदेश के तमाम धार्मिक स्थलों की मिट्टी तो अयोध्या पहुंच ही चुकी है और अब बारी है इन पत्थरों की जिन पर कारीगरों की मेहनत का पसीना है. छैनी और हथौड़ी से अपने भावों को गढते कारीगर रामकाज के इस हवन में अपनी श्रद्धा के साथ मेहनत को भी आहूत कर रहे हैं. ये इसलिए कि अयोध्या में लगने वाला यह पत्थर युगों-युगों के लिए राजस्थान के योगदान की पताका को थामे रहे.

ram temple, shri ram temple, ram mandir, Ayodhya, Banshi Paharpur, sand stone, Ram temple stones, rajasthan, bharatpur, akshardham temple, parliament, rajasthan assembly, up news, Ram Janam bhoomi, cm yogi, yogi adityanath, pm narendra modi, bjp, RSS, राम मंदिर में लगेगा बंशी पहाड़पुर का पत्थर, सेंड स्टोन, अयोध्या, भगवान राम, God Rama, भव्य मंदिर, अक्षरधाम मंदिरों, संसद भवन, लालकिला, इस्कान मंदिर, पत्थर, मार्बल्स, मार्बल राजस्थान का नाम शौर्य के साथ-साथ राम काज से भी जुड़ जाएगा.

राजस्थान का नाम शौर्य के साथ-साथ राम काज से भी जुड़ जाएगा.(File)

यूं हो रहा है काम
पत्थरों पर नक्काशियां का काम चल रहा है. कारीगर रामधुन के साथ नक्काशी कर रहे हैं. पिलर, गुम्बद, जालियां, कनपट, भेडासरा, ठेबी और पाट बनाए जा रहे हैं. कहीं कोई कमी ना रहें इस बाबत पूरा ख्याल रखा जा रहा है. रामकाज के लिए युद्धस्तर पर चल रहे इस काम को पत्थर व्यवसायी अपना और राजस्थान का सौभाग्य मान रहे हैं.

चार लाख घन फीट पत्थर का उपयोग होगा
राम मंदिर निर्माण के लिए लगभग चार लाख घन फीट पत्थर का उपयोग होगा. इसमें से लगभग 2.75 लाख घन फीट पत्थर भरतपुर के बंसी पहाड़पुर का सैंड स्टोन का होगा. बंसीपहाड़पुर से यह पत्थर बेडौल रूप में आता है और फिर कटर से कटिंग के बाद सीएनजी मसीन पर प्रोग्राम लॉडिंग कर आर्किटेक्ट द्वारा परफोर्मा तैयार कर डिजाइन ड्रॉइंग किया जाता है. इसके बाद शुरू होता है कार्बिंग का काम. कार्बिंग मतलब हाथ से कारीगरी और सफाई. फिर पॉलिश और जरूरत के मुताबिक उसका आकार दिया जाता है.

ये भी पढ़ें: राम मंदिर भूमि पूजन: हर दिन अलग-अलग नवरत्न जड़ित पोशाक में नजर आएंगे रामलला

एक बार फिर से बंशी पहाड़पुर गौरान्वित है, क्योंकि  राममंदिर निर्माण के लिए उसका पत्थर काम में लिया जा रहा है. राम मंदिर निर्माण में ये पत्थर नई इबारत लिखेगा. देश के प्रसिद्ध मंदिरों में पहले से ही इस पत्थर का इस्तेमाल हो चुका है.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here