मां ‘शकुंतला देवी’ की उपलब्धि का कागजी दस्तावेज पाकर खुश हैं अनुपमा बनर्जी | bollywood – News in Hindi

0
7
मां

विद्य बालन और अनुपमा बनर्जी

फिल्म ‘शकुंतला देवी (Shakuntala Devi)’ की रिलीज से पहले गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स (Guinness Book of World Records) ने स्वर्गीय शकुंलता देवी को ‘सबसे तेज ह्यूमन कंप्यूटर’ होने का सर्टिफिकेट प्रदान किया है.

मुंबई. फिल्म ‘शकुंतला देवी (Shakuntala Devi)’ 31 जुलाई को अमेजन प्राइम (Amazon Prime) पर रिलीज होने जा रही है. एक्ट्रेस विद्या बालन (Vidya Balan) फिल्म में शकुंतला देवी के किरदार में दिखेंगी. वहीं, फिल्म की रिलीज से पहले गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स (Guinness Book of World Records) ने स्वर्गीय शकुंलता देवी को ‘सबसे तेज ह्यूमन कंप्यूटर’ होने का सर्टिफिकेट प्रदान किया है.

एनडीटीवी की एक खबर के मुताबिक, सर्टिफिकेट मिलने के बाद स्वर्गीय शकुंतला देवी की बेटी अनुपमा बनर्जी ने कहा, “अपनी मां की उपलब्धि पर उनके लिए सम्मान हासिल करने का पल मेरे लिए काफी भावुक कर देने वाली खुशी का क्षण है. ‘सबसे तेज ह्यूमन कंप्यूटर’ होने का खिताब एक रोमांचक उपलब्धि है. यह खिताब केवल मेरी मां ही हासिल कर सकती थीं. मैं काफी खुश हैं कि इस बायोपिक को बनाते समय मुझे अपनी मां की जिंदगी, उनके व्यक्तित्व, आदतों और स्वभाव के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी देने का मौका मिला. इससे मैंने यह सुनिश्चित किया कि लोग मेरी मां को उसी रूप में जानें, जैसी अपनी जिंदगी में वह थी.वह काफी जिंदादिल, खुशमिजाज और वाकई अमेजिंग और अद्भुत थीं. वह पागलपन की हद तक मैथ्स से प्यार करती थीं;. उनमें गणित के सवालों को हल करने का जुनून था. वह हमेशा मैथ्स को एक लेवल आगे ले जाना चाहती थीं. गणित के मुश्किल सवालों को चुटकियों में हल करने की उनकी यही पहचान उन्हें काफी खुश कर देती थी. उन्हें अपनी गणित संबंधी क्षमताओं पर बेहद नाज था, जिसने मैथ्स की कैलकुलेशन के क्षेत्र में सभी को पीछे छोड़ दिया है.”

शकुंतला देवी को ‘ह्यूमन कंप्यूटर’ का टाइटल मिलने की कहानी
शकुंतला देवी (1929-2013) एक महान गणितज्ञ थीं. जिन्हें मानव कंप्यूटर भी कहा जाता था. उनके हिसाब-किताब करने की रफ्तार को देखते हुए उन्हें 1982 में गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में शामिल किया गया. बीबीसी लंदन के इंटरव्यू के दौरान शकुंतला देवी को गणित का एक कठिन सवाल दिया गया था. लेकिन उन्होंने हाईलाइट करते हुए बताया कि कंप्यूटर द्वारा दिया गया प्रश्न गलत था. किसी ने भी उन पर तब तक विश्वास नहीं किया, जब अगले दिन चैनल को पता चला कि शकुंतला सचमुच सही थी. और तभी से शकुंतला देवी को ‘ह्यूमन कंप्यूटर’ कहा जाने लगा.बता दें कि इस फिल्म में विद्या बालन के साथ सान्या मल्होत्रा भी हैं. वे इस फिल्म में शकुंतला देवी की बेटी की भूमिका निभाएंगी. सान्या के अलावा अमित साध और जिस्शु सेनगुप्ता भी अहम भूमिका में नजर आएंगे. इस बायोपिक का निर्देशन अनु मेनन ने किया है. खास बात यह है कि निर्देशक अनु मेनन ने ही इसे लिखा भी है जिसमें नयनिका महतानी ने उनका साथ दिया है.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here