राफेल की एंट्री:चीन का नाम लिए बिना राजनाथ की चेतावनी-धमकाने की कोशिश करने वाले हों चिंतित | nation – News in Hindi

0
8
राफेल की एंट्री:चीन का नाम लिए बिना राजनाथ की चेतावनी-धमकाने की कोशिश करने वाले हों चिंतित

भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की फाइल फोटो (PTI)

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने ट्वीट (Tweet) किया कि राफेल विमानों (Rafale Fighter Jets) के भारत आगमन के साथ ही भारतीय सैन्य इतिहास का नया युग शुरू हो गया है.

नई दिल्ली. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) ने बुधवार को कहा कि पांच राफेल विमानों (Rafale jets) के आगमन से भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) देश के सामने आने वाली किसी भी चुनौती को दृढ़ता से विफल करने के लिये तैयार रहेगी. साथ की अंखडता को चुनौती देने की मंशा रखने वालों को इसकी नयी क्षमता से चिंतित होना चाहिये. सिंह के इस बयान को नाम लिए बिना चीन (China) के लिये एक कड़े संदेश के रूप में देखा जा रहा है, जिसके साथ भारत का पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में सीमा विवाद चल रहा है. चीन ने अपने क्षेत्र में मुख्य अड्डों के आसपास अचानक लड़ाकू विमानों (Fighter Jets) और अन्य हवाई उपकरणों की तैनाती बढ़ा दी थी.

सिंह ने ट्वीट (Tweet) किया कि राफेल विमानों के भारत आगमन के साथ ही भारतीय सैन्य इतिहास का नया युग (new era in India’s military history) शुरू हो गया है. उन्होंने कहा कि इससे वायुसेना को देश के सामने आने वाली किसी भी चुनौती का दृढ़ता से विफल करने में मदद मिलेगी. रक्षा मंत्री ने कहा, ‘जो हमारी क्षेत्रीय अखंडता (territorial integrity) को चुनौती देने की मंशा रखते हैं, उन्हें भारतीय वायुसेना की इस नयी क्षमता से चिंतित होना चाहिये.’

‘राफेल को लेकर पहले ही दिया जा चुका है बेबुनियादी सवालों का जवाब’
भारत ने 36 राफेल विमान खरीदने के लिये चार साल पहले फ्रांस के साथ 59 हजार करोड़ रुपये का करार किया था. इसके तहत पांच राफेल विमान बुधवार दोपहर अंबाला वायुसेना स्टेशन पर पहुंच गए.रक्षा मंत्री ने सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए कहा, ‘ये विमान प्रदर्शन में माकूल हैं और इनके हथियार भी अचूक हैं. इनके रडार, सेंसर और इलेक्ट्रॉनिक युद्धक क्षमता दुनिया भर में सबसे बेहतरीन हैं. राफेल के आने से भारतीय वायु सेना किसी भी चुनौती से निपटने के लिए तैयार रहेगी.’

यह भी पढ़ें: कोरोना की मार! देश की सबसे बड़ी एयरलाइन को हुआ 2,844 करोड़ रुपए का घाटा

उन्होंने विमानों की खरीद में वित्तीय गड़बड़ियों के कांग्रेस के आरोपों की ओर इशारा करते हुए कहा, ‘वायुसेना की संचालन आवश्यकताओं पर पूरी तरह खरा उतरने के बाद ही राफेल विमान खरीदे गए. इनकी खरीद को लेकर बेबुनियाद आरोपों का पहले ही जवाब दिया जा चुका है.’

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here