कुछ देर में खत्म होगा राफेल का इंतजार, जानें पाक के F-16 और चीन के C-20 से कितना मजबूत है राफेल | nation – News in Hindi

0
6
LIVE UPDATES: भारत में आज राफेल का गृहप्रवेश, अंबाला एयरबेस पर IAF चीफ करेंगे रिसीव

भारतीय वायुसेना का राफेल फाइटर जेट का इंतजार आज खत्म हो जायेगा (फाइल फोटो)

Rafale विमान आज भारत पहुंच जाएंगे. ये विमान ऐसे वक्त में भारत आ रहे हैं जब दो पड़ोसी मुल्कों चीन और पाकिस्तान से रिश्ते तनाव पूर्ण हैं. हालिया चीन विवाद के चलते क्षेत्र में तनाव बढ़ गया है और कई विशेषज्ञों ने आशंका जाहिर की है कि युद्ध की स्थिति में भारत को दो मोर्चों पर मुकाबला करना पड़ सकता है. ऐसे में राफेल के आने से एक ओर जहां भारतीय सैन्य शक्ति की ताकत बढ़ी है वहीं हमें यह भी देखना होगा कि चीन और पाकिस्तान के पास जो फाइटर जेट्स हैं, उनसे किन मामलों में राफेल मजबूत है और किसी भी स्थिति में डटकर मुकाबलना कर सकता है.

नई दिल्ली. फ्रांस से आ रहे 5 राफेल लड़ाकू विमान (Rafale Fighter Jet) कुछ देर में भारत पहुंच जाएंगे. हरियाणा स्थित अंबाला में भारतीय वायुसेना के बेस पर ये लैंड करेंगे. यहां इनके स्वागत की पूरी तैयारी कर ली गई है. भारतीय वायुसेनाध्यक्ष  राकेश कुमार सिंह भदौरिया की मौजूदगी में राफेल का स्वागत होगा. इस दौरान इन्हें वॉटर सैल्यूट भी दिया जाएगा. इससे पहले  इन विमानों ने फ्रांस से सात घंटे की उड़ान के बाद संयुक्त अरब अमीरात के अल दफरा एयरपोर्ट (Al Dhafra Airport) पर इन विमानों की लैंडिंग की थी. यहां से 29 जुलाई को ये लड़ाकू विमान वहां से उड़ान भरेंगे और फिर दोपहर तक अंबाला पहुंचेंगे. राफेल के जुड़ने के बाद भारतीय वायुसेना की ताकत कई गुना बढ़ जाएगी. ये फाइटर जेट जम्‍मू-कश्‍मीर और लद्दाख के दुर्गम पहाड़ी इलाकों तक ऑल-वेदर एक्‍सेस देगा. राफेल में ऐसी कई खासियतें हैं, जिसकी वजह से इसे ऑलराउंडर माना जा रहा है.

राफेल की तरह ही पाकिस्तान के F-16 और चीन का चेंग्दू J-20 एयरक्राफ्ट एयर टू एयर कॉम्बैट, ग्राउंड सपोर्ट और एंटी शिप स्ट्राइक जैसी चीजों से लैस हैं. इनमें कई तरह के हथियार भी लगे हैं, लेकिन BVR (बियॉड विजुअल रेंज यानी दृश्य सीमा से दूर)  हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइलों में राफेल के Meteor के पास कुछ ज्यादा क्षमताएं दिख रही हैं. ये 120 किमी दूर स्थित टारगेट को हिट करने की क्षमता रखती है. विमान ऐसे वक्त में भारत आ रहे हैं जब दो पड़ोसी मुल्कों चीन और पाकिस्तान से रिश्ते तनाव पूर्ण हैं. हालिया चीन विवाद के चलते क्षेत्र में तनाव बढ़ गया है और कई विशेषज्ञों ने आशंका जाहिर की है कि युद्ध की स्थिति में भारत को दो मोर्चों पर मुकाबला करना पड़ सकता है.

ऐसे में राफेल के आने से एक ओर जहां भारतीय सैन्य शक्ति की ताकत बढ़ी है वहीं हमें यह भी देखना होगा कि चीन और पाकिस्तान के पास जो फाइटर जेट्स हैं, उनसे किन मामलों में राफेल मजबूत है और किसी भी स्थिति में डटकर मुकाबलना कर सकता है. आइए जानते हैं राफेल के मुकाबले में पाकिस्तान का F-16 और चीन का चेंग्दू J-20 कहां ठहरते हैं?

कैसे चीन के J-20 और पाकिस्तान के F-16 के मुकाबले मल्टी टास्कर है भारत का राफेल

आगे पढ़ें

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here