क्या Apple यूज़र्स पर नज़र रख रहा है Facebook? कई ऐप क्रैश होने पर यूज़र्स ने की शिकायत | apps – News in Hindi

0
8
क्या Apple यूज़र्स पर नज़र रख रहा है Facebook? कई ऐप क्रैश होने पर यूज़र्स ने की शिकायत

Photo: iPhone 11

ऑकलैंड. आईफोन (iPhone) के आईओएस ऑपरेटिंग सिस्टम (iOS) पर चलने वाले टिंडर, (Tinder) स्पॉटीफाई (Spotify) और पिन्ट्रैस्ट (Pintrest) जैसे ऐप्स यूज़र्स को शुक्रवार को खोलने में लगातार दिक्कतों का समान करना पड़ा. इन ऐप्स के लगातार क्रैश होने के पीछे फेसबुक (Facebook) के सॉफ्टवेयर किट को जिम्मेदार माना जा रहा है और यह एक बार फिर याद दिलाता है कि इस अत्याधनिक सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कर फेसबुक आपके फोन के जरिए आप पर नजर रख रहा है, तब भी जब आप सोशल नेटवर्क को ब्राउज नहीं कर रहे हैं.

शुक्रवार सुबह उपयोगकर्ताओं ने इन ऐप को खोलते ही उनके क्रैश हो जाने की शिकायत की थी. फेसबुक ने इस समस्या के लिए उसके सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट किट (एसडीके) में एक बग को बताया जिसे कुछ ही समय में ठीक कर दिया गया था. एसडीके ऐसा उपकरण है जिसका इस्तेमाल डेवलपर अपने ऐप को फेसबुक के साथ एकीकृत करने के लिए करते हैं.

इन सभी ऐप में लॉग इन करने के लिए उपयोगकर्ता अपने फेसबुक अकाउंट से जुड़ी जानकारियों का उपयोग करते हैं. फेसबुक के अलावा गूगल, ऐपल और दूसरी कंपनियों भी सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट किट डेवलपर्स को उपलब्ध कराती हैं.

इसके जरिए ऐप डेवलपर्स अपने ऐप से फेसबुक को डेटा भेजते हैं जो यह पता लगाता है कि उपयोगकर्ता इन ऐप्स पर क्या-क्या गतिविधि करते हैं. यह जानकारी ऐप डेवलपर्स और फेसबुक दोनों के लिए उपयोगी है जिससे वे यह समझ पाते हैं कि उपयोगकर्ताओं विज्ञापनों पर कैसे प्रतिक्रिया देते हैं, उनकी सेवा का उपयोग कैसे करते हैं और इस पर कितना समय खर्च करते हैं.मार्च में, वीडियो कॉलिंग सेवा जूम ने एसडीके का उपयोग करके फेसबुक के साथ उपयोगकर्ता की जानकारी साझा की थी जिसके लिए कैलिफोर्निया में उसके खिलाफ मामला दर्ज किया गया था.

फेसबुक के एसडीके के कारण मई महीने में भी कई ऐप क्रैश हुए थे. कंपनी ने शुक्रवार को अपने बयान में कहा कि फेसबुक के एसडीके का इस्तेमाल करने वाले कुछ आईओएस ऐप्स कोड में बदलाव के कारण क्रैश हुए. शुक्रवार को हुए क्रैश के दौरान कई उपयोगकर्ता फेसबुक का इस्तेमाल कर इन ऐप्स पर लॉगइन भी नहीं थे.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here