TikTok बैन होने के बाद इन भारतीय ऐप्स की धूम, हर घंटे आ रहे हैं 20 लाख व्यूज़! | apps – News in Hindi

0
13
बड़ी खबर: 59 Apps पर बैन के बाद अब 20 और ऐप्स पर सरकार लगा सकती है पाबंदी

चीनी ऐप्स के डिलीट होने के बाद ये ऐप्स हो रही हैं पॉपुलर.

टिकटॉक की जगह यूज़र्स चिंगारी, बोलो इंडिया और trell जैसी घरेलू ऐप दनादन डाउनलोड कर रहे हैं…

59 से ज्यादा चीनी मोबाइल एप्लिकेशन (mobile apps) पर भारत की डिजिटल स्ट्राइक के बाद भारतीय मोबाइल एप्लिकेशन कंपनियां अपना सिक्का जमाने में लगी है. खासकर टिकटॉक (tiktok) और helo जैसी पॉपुलर चीनी मोबाइल एप्लिकेशन के बंद होने के बाद घरेलू मोबाइल डेवलपर आपके लिए क्या ऑप्शन लेकर आ रहे हैं, आइए जानते हैं.

भारत से चीनी ऐप बंद क्या हुए इंडियन ऐप का जैसे टाइम आ गया. टिकटॉक की जगह चिंगारी, बोलो इंडिया और trell जैसी घरेलू ऐप लोग दनादन डाउनलोड कर रहे हैं. हर घंटे 20 लाख व्यूज आ रहे हैं. इसके अलावा टिकटॉक के देसी विकल्प bolo indiya और trell पर टिकटॉक स्टार शिफ्ट हो रहे हैं. ट्रैफिक ग्रोथ आम दिनों के मुकाबले अब 5 गुना तक बढ़ती नज़र आ रही है.

(ये भी पढ़ें- 6 हज़ार रुपये सस्ता हो गया 3 कैमरे वाला ये शानदार स्मार्टफोन, मिलेगी 4085mAh की बैटरी)

वरुण सक्सेना, फाउंडर बोलो इंडिया का कहना है कि टिकटॉक की वजह से अब तक बोलो इंडिया पर इतना ट्रैफिक नहीं था लेकिन इसके बन होने के बाद अब हमारे प्लेटफार्म पर भीड़ आ रही है. पुलकित अग्रवाल, को-फाउंडर, Trell का कहना है कि अब तक 35 मिलियन डाउनलोड हो चुके हैं, आम दिनों के मुकाबले ट्रैफिक में 5 गुना ग्रोथ दिख रही है.टिकटॉक, HELO पर पाबंदी लगने से  sharechat एक बढ़िया विकल्प बन कर उभर रहा है, sharechat भारतीय यूज़र्स को अपने प्लेटफार्म पर लाने के लिए रीजनल भाषाओं पर काम कर रहा है, फिलहाल 15 लोकल भाषाएं Sharechat पर मौजूद हैं. भारतीय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ShareChat ने टिकटॉक की तरह Moj ऐप को लॉन्च किया है.

(ये भी पढ़ें- Alert! आपके फोन के लिए खतरनाक है ये 25 Apps; गूगल ने हटाया, आप भी कर दें डिलीट)

इस ऐप में टिकटॉक के जैसे ही फीचर्स मिलते हैं जिसमें शॉर्ट वीडियो, स्टीकर्स, स्पेशल इफेक्ट्स शामिल हैं और यह गूगल प्ले स्टोर पर फ्री में उपलब्ध है. ऐप से यूजर्स वीडियो को डाउनलोड भी कर सकते हैं और यह 15 भाषाओं को सपोर्ट करता है. एक अनुमान के मुताबिक मोबाइल एप्लिकेशन ग्रोथ के मामलें में भारत पहले नंबर पर है. चीनी ऐप्स इसे भुना रहे थे लेकिन अब ये बैन घरेलू टैलेंट और इंडियन कंपनियों के लिए अच्छा मौका लेकर आया है.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here