RBSE 12th Arts Results: परीक्षा परिणाम से परेशान न हों, इस लेडी IPS से लें सीख | ajmer – News in Hindi

0
9
RBSE 12th Arts Results: परीक्षा परिणाम से परेशान न हों, इस लेडी IPS से लें सीख | ajmer - News in Hindi

RBSE राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से बुधवार को 12वीं कला वर्ग (12th Arts result 2019) के नतीजों की घोषणा की दी है.  ये नतीजे पिछले साल की तुलना बेहतर रहे हैं लेकिन जिन छात्र-छात्राओं को चाहे अनुसार परिणाम या अंक नहीं मिले हैं वो निराश न हों. ऐसे छात्र-छात्राएं लेडी आईपीएस अफसर अफसर पूजा अवाना से प्रेरणा ले सकते हैं. जयपुर के पुलिस कमिश्नरेट में कार्यरत 2012 बैच की आईपीएस अफसर पूजा अवाना भी सिविल सर्विसेज परीक्षा के पहले प्रयास में असफल रही थीं, लेकिन उन्होंने सकारात्मक सोच के साथ अधिक मेहनत के साथ फिर परीक्षा दी और ऑल इंडिया 316वीं रैंक हासिल की. न्यूज18 से बातचीत में एजुकेशन और कॅरियर से जुड़ी ऐसी कई जानकारियां साझा की. यूथ के लिए ये किसी सक्सेस मंत्र से कम नहीं है.

ये भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव 2019: नतीजे आने में लग सकते हैं 2-3 दिन, रुझान आने में भी होगी दोपहर

बोर्ड रिजल्ट्स से हताश न हों

डीसीपी पूजा ने अपने कॅरियर और पुलिस सेवा से जुड़ी बातों को जिक्र करते RBSE RESULTS के बाद नाकामयाबी या बहुत अच्छे मार्क्स नहीं मिलने से निराश स्टूडेंट्स को मैसज दिया कि हताश होने की जरूरत नहीं है. असफलता, कम मार्क्स या पहले प्रयास में कामयाबी नहीं मिलने से निराश न हों, अपने लक्ष्य पर डटे रहें और सपनों के पीछे और कड़ी मेहनत से लग जाएं. इस बार नहीं तो अगली बार सही, कामयाबी आपसे दूर नहीं रहेगी.पहले प्रयास में असफल, दूसरे में 316वीं रैंक

उन्होंने बताया कि 2010 में इंडियन पुलिस सर्विस के लिए उनका पहला प्रयास असफल रहा था. वे कहती हैं, ‘मैंने अपने लक्ष्य से पीछे नहीं हटी, हिम्मत नहीं हारी और अगले ही प्रयास में मुझे सफलता मिल गई’. बता दें कि दूसरे प्रयास में उन्होंने 316वीं रैंक प्राप्त की थी और आज आईपीएस अफसर के रूप में यूथ के बीच आदर्श बनी हुई हैं.

सक्सेस मंत्र

12वीं पास करने वाले या स्टडी करने वाले स्टूडेंट्स के लिए डीसीपी पूजा का कहना है कि स्टूडेंट अपनी अपनी ताकत (स्ट्रेंथ) और कमजोरियों (वीकनेस) को पहचाने. अपनी क्षमताओं के अनुसार ही विषय या क्षेत्र का चयन करें और फिर लक्ष्य तय कर उसे पाने के लिए जुट जाएं. ये क्षेत्र या आपका लक्ष्य कोई भी हो सकता है जैसे, स्पोर्ट्स, कल्चरल, डिफेंस, पुलिस सेवा या एकेडमिक्स. आपका अपने लक्ष्य या सपने के प्रति पैशन होना जरूरी है. हां, पढ़ाई के साथ-साथ अपनी हॉबीज को भी समय दें.

ये भी पढ़ें- राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत का आरोप- नरेंद्र मोदी को मुझसे दुश्मनी है

अपने  WHATSAPP  पर पाएं लोकसभा चुनाव के लाइव अपडेट्स

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here