RBSE 12th RESULT: हाईस्कूल के बाद चरा रहा था बकरियां, इंटर में किया कमाल | career-career – News in Hindi

0
5
RBSE 12th RESULT: हाईस्कूल के बाद चरा रहा था बकरियां, इंटर में किया कमाल | career-career - News in Hindi

प्रतिभा सुविधाओं की मोहताज नहीं होती और मेहनत का कोई विकल्प नहीं होता है. इन दोनों कहावतों को चरितार्थ कर दिखाया है जोधपुर के तिंवरी इलाके के चौराई गांव के एक गरीब किसान के बेटे पुखराज ने. तंगहाली और अभावों के बीच पढ़ाई करने वाले इस गुदड़ी के लाल पुखराज ने वो कमाल कर दिखाया है, जिसकी उम्मीद बेहद कम होती है.

RBSE, Rajasthan 12th Result 2019: 12वीं साइंस- कॉमर्स का रिजल्ट जारी, rajeduboard पर करें चेक

पुखराज ने बुधवार को घोषित राजस्थान बोर्ड की 12वीं साइंस के परीक्षा परिणाम में 97.80 फीसदी अंक हासिल किए हैं. पुखराज के पिता भोमाराम और मां पारुदेवी किसानी और मजदूरी करते हैं. इसके जरिए घर में महज दो समय की दाल-रोटी का जुगाड़ भी बमुश्किल हो पाता है. पढ़ाई के लिए सुविधा तो कोसों दूर की बात है. पुखराज ने बिना किसी ट्यूशन और कोचिंग के केवल अपनी मेहनत और लगन के दम पर साइंस वर्ग में 97.80 फीसदी अंक हासिल माता-पिता के सपनों को पंख लगा दिए हैं. घर में खुशियों का माहौल है. बधाइयां देने वालों का तांता लगा हुआ है.

RBSE 12th RESULT: पैरेंट्स रखें धैर्य, जज ना बनें- डॉ. त्यागीसंघर्ष भरी कहानी है
माता-पिता ने पुखराज को दसवीं तो जैसे-तैसे करके करवा दी थी, लेकिन आगे की पढ़ाई के लिए खर्चा वहन करने की स्थिति में नहीं थे. लेकिन कहते हैं कि जहां चाह होती है वहां राह भी मिलती है. ऐसा ही कुछ हुआ पुखराज के साथ. वह दसवीं पास करने के बाद बकरियां चरा रहा था. इस दौरान वह पढ़ाई तो कर रहा था, लेकिन साथ में घर चलाने के लिए भी संघर्ष कर रहा था. इसी दौरान क्षेत्र में स्थित शहीद-ए-आजम विद्यालय के व्यवस्थापक नृसिंह भार्गव अपनी स्कूल के किसी काम से चैराई गए. वहां उनकी मुलाकात बकरी चरा रहे पुखराज से हुई.

परिजनों के साथ पुखराज।फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।

मन मांगी मुराद मिली तो झौंक दिया खुद को

पुखराज की पृष्ठभूमि जानने के बाद नृसिंह भार्गव ने उसे अपनी स्कूल में दाखिला देने का प्रस्ताव दिया. उसे पुखराज और उसके परिजनों ने मान लिया. पुखराज को तो जैसे मन मांगी मुराद मिल गई. पुखराज की मेहनत और लगन को देखकर स्कूल के शिक्षकों ने भी उसका हरसंभव सहयोग किया, जिसका नतीजा आज सबके सामने है. बकौल पुखराज उसने अपने माता-पिता को सम्मान दिलाने और आराम से जीवन यापन कराने का वादा कर रखा है. इसलिए वह जी तोड़ मेहनत कर रहा है. पुखराज अपनी सफलता का श्रेय नृसिंह भार्गव व शिक्षकों की मेहनत और माता-पिता के आशीर्वाद को दे रहा है.

RAS बनने के लिए 17 साल किया संघर्ष, सात बार दी परीक्षा, 7वीं बार में मिली सफलता

हौंसले और जज्बे की कहानी, अनिशा ने थर्ड स्टेज के कैंसर से जूझकर क्रेक किया AIPMT

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here