50% तो हैं न…. एंट्रेंस एग्ज़ाम देकर लें मनचाहे कोर्स में एडमिशन, आज ही करें अप्लाई | career-career – News in Hindi

0
6
50% तो हैं न.... एंट्रेंस एग्ज़ाम देकर लें मनचाहे कोर्स में एडमिशन, आज ही करें अप्लाई | career-career - News in Hindi

दिल्ली यूनिवर्सिटी जैसे प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में 90% नंबर लाने वाले भी एडमिशन के लिए तरस रहे हैं तो 50-60% लाने वालों का क्या होगा? हम बता रहे हैं कि ऐसे लोगों के लिए भी विकल्प कम नहीं हैं. जेएनयू समेत देश की बहुत से प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी एंट्रेंस एग्ज़ाम के ज़रिए ही एडमिशन देती हैं. देहरादून स्थित दून विश्वविद्यालय और पेट्रोलियम यूनिवर्सिटी में अभी एडमिशन लेने का मौका है.

100% Marks अच्छे हैं, लेकिन ये ट्रेंड नहीं… नंबरों का प्रेशर बाद में खड़ी कर सकता है मुश्किल

दून विश्वविद्यालय के डिप्टी रजिस्ट्रार मंगल सिंह मंद्रवाल बताते हैं कि दून विश्वविद्यालय में एडमिशन के लिए एंट्रेंस एग्ज़ाम देना होता है. एंट्रेंस के लिए आज यानि 11 मई से रजिस्ट्रेशन शुरू हो रहे हैं. एंट्रेंस टेस्ट 16 जून को होना है.

विश्वविद्यालय आठ क्षेत्रों में स्नातक (अंडर ग्रेजुएट) और परास्नातक (पोस्ट ग्रेजुएट) कोर्स करवाता है. ये हैं – School of Environment and Natural Resources (SENR), School of Social Sciences, School of Media & Communication Studies, School of Languages, School of Management, School of Technology, School of Design, School of Physical Sciences.

दून विश्वविद्यालय में आज से एंट्रेंस एग्ज़ाम्स के लिए अप्लाई किया जा सकता है.

दून विश्वविद्लाय की वेबसाइट https://www.doonuniversity.org/en/home में जाकर यह रजिस्ट्रेशन करवाया जा सकता है. इच्छुक विद्यार्थी अपने विषयों और अपनी पसंद के हिसाब से इनमें से किसी भी विषय के लिए आवेदन कर सकता है. इसके लिए छात्र-छात्रा के लिए 50 फ़ीसदी अंक हासिल करना ज़रूरी है.

मंद्रवाल कहते हैं कि विश्वविद्यालय को इससे फ़र्क नहीं पड़ता कि आपके 51% अंक हैं या 81%. 50% से ऊपर वाले सभी छात्र-छात्राओं को एक जैसा एग्ज़ाम देना होता है. एंट्रेंस टेस्ट में आप कैसा परफ़ॉर्म करते हैं विश्वविद्यालय उसी को देखता है.

नंबर कम आए हैं, तो क्या… आपके पास भी हैं शानदार करियर के विकल्प

राजधानी देहरादून में ही स्थित एक और बेहद प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय पेट्रोलियम यूनिवर्सिटी में भी एडमिशन प्रक्रिया शुरु हो गई है. इसकी यूनिवर्सिटी की ख़ास बात यह है कि यह सामान्य ग्रेजुएट या पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स नहीं करवाती यहां स्पेश्यलाइज़्ड कोर्स करवाए जाते हैं. यूनिवर्सिटी की वेबसाइट के अनुसार यह देश की अकेली यूनिवर्सिटी है जो 110 से ज़्यादा स्पेश्यलाइज़्ड ग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स करवाती है.

पेट्रोलियम यूनिवर्सिटी में बीटेक और एलएलबी में एडमिशन के लिए एप्लाई करने का पहली तारीख शुक्रवार यानि कल निकल गई है हालांकि यूनिवर्सिटी में सीनियर डायरेक्टर और पीआरओ डॉक्टर अरुण ढांड बताते हैं कि अगर सीट्स नहीं भरती हैं तो फिर एडमिशन प्रोसेस शुरू किया जाता है. इसकी जानकारी यूनिवर्सिटी की वेबसाइट https://www.upes.ac.in/ में दी जाती है.

petrolium University

पेट्रोलियम यूनिवर्सिटी में भी एकडमिशन प्रक्रिया शुरू हो गई है.

पेट्रोलियम यूनिवर्सिटी में एडमिशन की प्रक्रिया बाकी जगह से कुछ अलग है. डॉक्टर ढांड बताते हैं कि B.Tech और B.Des (Bachelor of Design) का उदाहरण रखते हुए बताते हैं कि इसमें एडमिशन के लिए 80 फ़ीसदी सीट्स तो ऑल इंडिया एग्ज़ाम्स के लिए रिज़र्व हैं. इसके लिए 10वीं और 12वीं में कम से कम 60% नंबर होने चाहिएं. साथ ही 12वीं के फ़िज़िक्स, कैमिस्ट्री, मैथ्स में भी 60% नंबर तो होने ही चाहिएं.

VIDEO: उत्तराखंड टॉपर बनना चाहता है वेपन डेवलपर

बाकी 20% नॉन एग्ज़ाम्स यानि मेरिट से भरे जाते हैं. इसकी शर्त यह है कि इसमें छात्र-छात्रा से 10वीं और 12वीं में कम से कम 80% नंबर होने चाहिएं. साथ ही 12वीं के फ़िज़िक्स, कैमिस्ट्री, मैथ्स में भी 80% से ज़्यादा नंबर होने चाहिएं. ऐसे सभी बच्चों का मेरिट के आधार पर सेलेक्शन होता है.

एमटेक में एंट्रेंस एग्ज़ाम नहीं होता बल्कि 10वीं, 12वीं और बीटेक की पर्फ़ॉर्मेंस के आधार पर सीधे इंटरव्यू होता है. इंटरव्यू की सुविधा सिर्फ़ देहरादून ही नहीं कई दूसरे शहरों में भी दी जाती है.

VIDEO : उत्तराखंड पीसीएस टॉपर सौम्या की सलाह,असफलता से घबराएं नहीं यूथ

इसी तरह मैनेजमेंट कोर्सेस में भी एंट्रेंस नहीं होता. बीबीए के लिए आपके कम से कम 50% नंबर 10वीं और 12वीं में होने चाहिए. सभी एप्लीकेंट का इंटरव्यू और ग्रुप डिस्कशन होता है. उसके आधार पर मेरिट बनती है. एमबीए के लिए ऑल इंडिया लेवल पर एग्ज़ाम होता है. इसके अलावा कैट और मैट से भी एडमिशन लेते हैं. यह सारी जानकारी यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में मिल जाती है.

इसरो की परीक्षा में उत्‍तराखंड का बेटा टॉपर, पढ़िए इस होनहार ने बिना कोचिंग कैसे पाई सफलता

उत्तराखंड के स्थानीय निवासियों के लिए पेट्रोलियम यूनिवर्सिटी एक आकर्षक ऑफ़र देती है. तीन लाख से कम सालाना आमदनी वाले परिवार के बच्चों को फ़ीस में 25% छूट मिलती है. लेकिन इन बच्चों के लिए डोमिसाइल सर्टिफ़िकेट और दसवीं-बारहवीं उत्तराखंड से करना ज़रूरी होता है.

CBSE रिजल्ट: देश में 2nd टॉपर बनीं गौरांगी को सीएम त्रिवेंद्र रावत ने उसके आवास पर दी बधाई

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here