हायर एजुकेशन के लिए कर लें विदेश जाने की तैयारी, ऑस्ट्रेलिया है परफेक्ट स्टडी डेस्टिनेशन! | career-career – News in Hindi

0
7
हायर एजुकेशन के लिए कर लें विदेश जाने की तैयारी, ऑस्ट्रेलिया है परफेक्ट स्टडी डेस्टिनेशन! | career-career - News in Hindi

प्रतीकात्मक तस्वीर Image: Pixabay

विदेश में पढ़ाई की इच्छा रखने वाले भारतीय स्टूडेंट्स के लिए ऑस्ट्रेलिया नए हब के रूप उभर रहा है. ऑस्ट्रेलिया में न केवल उन्हें हायर स्टडीज की सुविधा मिल रही है बल्कि वहां उन्हें जॉब्स मिलने में भी आसानी होती है.

विदेश में पढ़ाई करना किसी भी भारतीय स्टूडेंट के लिए प्रतिष्ठा की बात होती है. आपमें से कई स्टूडेंट्स विदेश में पढ़ाई करने की इच्छा रखते होंगे. हालांकि विदेश में पढ़ाई करना स्टूडेंट्स ही नहीं बल्कि उनके पैरेंट्स के लिए भी काफी कठिन काम है. पढ़ाई के लिए देश चुनने से लेकर यूनिवर्सिटी और कोर्स चुनने तक, स्टूडेंट्स और उनके पैरेंट्स खासा परेशान होते हैं.

विदेश में पढ़ाई की इच्छा रखने वाले भारतीय स्टूडेंट्स के लिए ऑस्ट्रेलिया नए हब के रूप उभर रहा है. ऑस्ट्रेलिया में न केवल उन्हें हायर स्टडीज की सुविधा मिल रही है बल्कि वहां उन्हें जॉब्स मिलने में भी आसानी होती है. पहले अधिकतर भारतीय स्टूडेंट पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स की पढ़ाई के लिए विदेश का रुख करते थे लेकिन अब अंडरग्रजुएट कोर्स की पढ़ाई विदेश से करने वाले स्टूडेंट्स की संख्या में भी इजाफा हुआ है.

इसलिए US नहीं आस्ट्रेलिया है पढ़ाई के लिए बेहतरअमेरिका की कठिन इमीग्रेशन कानूनों और वर्क राइट की वजह से अब पढ़ाई के लिए अमेरिका जाने वाले स्टूडेंट्स का मोह भंग हुआ है. जो स्टूडेंट्स पहले यूएस में पढ़ाई करना चाहते थे उनमें भी अब असुरक्षा की भावना आ गई है. अब कनाडा और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों की तरफ भारतीय स्टूडेंट्स का झुकाव बढ़ा है. इतना ही नहीं एचआर कंसल्टेंसी मर्कर 2018 क्वालिटी ऑफ लिविंग स्टेंडर्ड स्टडी के अनुसार ऑस्ट्रेलिया की सिडनी दुनिया के 10 रहने लायक शहरों में शुमार है.

ऑस्ट्रेलिया में पढ़ाई का सबसे बड़ा फायदा ये है कि यहां आप न केवल वर्क एक्सपीरियंस हासिल कर सकते हैं. साथ ही पढ़ाई के साथ ही अपने खर्च के लिए कानूनी रूप से पैसा भी कमा सकते हैं. इसकी वजह से भी ऑस्ट्रेलिया में पढ़ाई में दिलचस्पी रखने वाले भारतीय स्टूडेंट्स की संख्या में बढ़ोतरी हुई है.

बेस्ट है ऑस्ट्रेलिया की पोस्ट स्टडी वर्क राइट पॉलिसी
कई भारतीय परिवार अब अपने बच्चों को विदेश में पढ़ाने का सामर्थ्य रखते हैं. विदेश में पढ़ाई के लिए एजुकेशन लोन लेना भी अब आसान हो गया है. ऑस्ट्रेलिया का पोस्ट स्टडी वर्क राइट स्टूडेंट्स को रहने और पढ़ाई का खर्च उठाने में मदद करता है. इसके अलावा वहीं की पढ़ाई और वर्क एक्सपीरियंस उनकी सीवी की वैल्यू को भी बढ़ाता है. तो अगर आप विदेश में पढ़ाई की इच्छा रखते हैं तो ऑस्ट्रेलिया आपके लिए बेहतर विकल्प साबित हो सकता है.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here