सीएम तीरथ ने हर की पैड़ी पर किया पूजन, मगर अखाड़े इस बात से उखड़े

हर की पैड़ी ब्रह्मकुंड पर आयोजित महापूजन में धार्मिक आस्था का माहौल रहा.

मंत्रोउच्चारण के बाद मां गंगा का पूजन, नैवेद्य अर्पण के साथ महाकुंभ 2021 के सफल आयोजन की कामना की गई. हालांकि इस दौरान अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी ने मुख्य सचिव ओमप्रकाश के पूजा में शामिल होने को लेकर एतराज भी जताया.

हरिद्वार. महाकुंभ के इतिहास में पहली बार हरकी पैड़ी ब्रह्मकुंड पर 151 आचार्यों की ओर से किये गए शंखनाद से चारों दिशाएं गूंज उठी. श्री गंगा सभा की ओर से महाकुंभ 2021 के सफल और शांतिपूर्ण आयोजन के लिए हरकी पैड़ी ब्रह्मकुंड पर आयोजित महापूजन में धार्मिक आस्था का माहौल रहा. ब्रह्मकुंड पर मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के साथ ही श्रीगंगा सभा के पदाधिकारी, 13 अखाड़ों के प्रतिनिधि, प्रशासनिक अधिकारी अलग-अलग अपने अपने स्थान पर कलश, शंख, घंटी और पूजन सामग्री के साथ बैठकर मां गंगा का ध्यान कर रहे थे.

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत, अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरि, महामंत्री श्रीमहंत हरि गिरि, निरंजनी अखाड़े के सचिव रविन्द्रपूरी, विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचन्द अग्रवाल, नगर विकास मंत्री वंशीधर भगत, मुख्य सचिव ओम प्रकाश, सचिव शहरी विकास शैलेश बगोली, मेलाधिकारी दीपक रावत, आईजी मेला संजय गुंज्याल, डीएम सी. रविशंकर, एसएसपी हरिद्वार सैंथिल अबुदई कृष्ण राज एस, एसएसपी कुंभ जन्मजेय खंडूरी के साथ ही कई अधिकारियों ने मंगलवार को हरकी पैड़ी ब्रह्मकुंड पर श्रीगंगा सभा की ओर से आयोजित मां गंगा के पूजन कार्यक्रम में हिस्सा लिया. इस दौरान उन्होंने मां गंगा की पूजा-अर्चना की. इसके बाद श्रीगंगा सभा के आचार्य अमित शास्त्री ने मंत्रोउच्चारण के साथ मुख्यमंत्री रावत से मां गंगा की पूजा-अर्चना की. इसके साथ ही 151 आचार्यों ने मंत्रों का जाप किया तो साक्षात देवो के आगमन जैसा माहौल लगा.

मंत्रोउच्चारण के बाद मां गंगा का पूजन, नैवेद्य अर्पण के साथ महाकुंभ 2021 के सफल आयोजन की कामना की गई. हालांकि इस दौरान अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी ने मुख्य सचिव ओमप्रकाश के पूजा में शामिल होने को लेकर एतराज भी जताया. उनका कहना था कि मुख्य सचिव इस पूजा में शामिल नहीं हो सकते थे. इस पूजा में सिर्फ डीएम और मिला अधिकारी को ही शामिल होने की परंपरा रही है. गंगा पूजन के समय मुख्य सचिव ओम प्रकाश अपनी पत्नी के साथ पूजा में शामिल हुए थे. हालांकि आरती के बाद 151 आचार्यो ने जब शंखनाद किया तो पूरा हरकी पैड़ी परिसर इस ध्वनि से गूंज उठा. इस दौरान मुख्यमंत्री ने मां गंगा से कुम्भ के सफल आयोजन और सभी के कल्याण की कामना की.





Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
2,735FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles