लॉकडाउन के बावजूद नागपुर में तेजी से पैर पसार है कोरोना, 24 घंटे में 39 लोगों की मौत

Nagpur Corona Case: स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार नागपुर में शुक्रवार को 3,235 नए मामले सामने आए हैं. राज्य सरकार द्वारा लॉकडाउन लगाए जाने के बावजूद कोरोना के मामलों में कमी नहीं आ रही है. वर्तमान में नागपुर में 25,560 कोरोना के एक्टिव मरीज हैं.

Nagpur Corona Case: स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार नागपुर में शुक्रवार को 3,235 नए मामले सामने आए हैं. राज्य सरकार द्वारा लॉकडाउन लगाए जाने के बावजूद कोरोना के मामलों में कमी नहीं आ रही है. वर्तमान में नागपुर में 25,560 कोरोना के एक्टिव मरीज हैं.

रवि गुलकारी

महाराष्ट्र में कोरोना (Maharastra Corona Case) के नए मामले इस साल के रोज नए रिकॉर्ड बना रहे हैं. पिछले 24 घंटे में कोराना के 23 हजार से ज्यादा नए मामले आए हैं. खासकर नागपुर जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है. पिछले 24 घंटे में नागपुर में 35 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. नागपुर में 18 मार्च को महज 23 लोगों की मौत हुई थी.

स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार नागपुर में शुक्रवार को 3,235 नए मामले सामने आए हैं. राज्य सरकार द्वारा लॉकडाउन लगाए जाने के बावजूद कोरोना के मामलों में कमी नहीं आ रही है. वर्तमान में नागपुर में 25,560 कोरोना के एक्टिव मरीज हैं.

झुग्गियों में नहीं आम घरों में बढ़ रहे हैं मामलेजिले में बढ़ते कोरोना के मामले मेडिकल एवं जनरल एडमिनिस्ट्रेशन कें लिए बढीं हैं. चिंता की बात यह भी है कि कोरोना के मामले जिले में स्थित झुग्गी-झोपड़ियों में नहीं बल्कि आम घरों में ज्यादा सामने आ रहे हैं. एक अनुमान के मुताबिक मॉल-रेस्त्रां-मैरेज हॉल-मंगल कार्यालय-पॉलिटीकल गैंदरिंग एवं हाल ही में हुए ग्राम पंचायत चुनाव के कारण कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं.

अप्रैल तक राज्य में तीन लाख मरीज उपचाराधीन होंगे!
इस बीच मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने संभागीय आयुक्तों से कोरोना को फैलने से रोकने के लिए घोषित पाबंदियों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित करने को कहा है. डिजिटल बैठक में ठाकरे ने कहा कि राज्य में रोजाना मामले बड़ी तेजी से बढ़े हैं लेकिन टीकाकरण अभियान ने भी रफ्तार पकड़ी है.

उन्होंने कहा, ‘‘ पिछले साल इस महामारी के आने के बाद बृहस्पतिवार को सर्वाधिक मामले के मद्देनजर जिला प्रशासन संक्रमितों के संपर्क में आने व्यक्तियों की पहचान की गति बढ़ाए, पाबंदियां और सुरक्षा नियम लागू करें.’’ ठाकरे ने कहा कि रोजाना तीन लाख टीके लगाना लक्ष्य होना चाहिए. स्वास्थ्य सचिव प्रदीप व्यास ने कहा कि अगर रोजाना मामलों में वृद्धि जारी रही जो अप्रैल के पहले सप्ताह में राज्य में तीन लाख मरीज उपचाराधीन होंगे.




Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
2,735FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles