राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म एडिटर वामन भोसले का निधन, ‘इनकार’ के लिए मिला था अवार्ड

फिल्मकार मधुर भंडारकर, अभिनेता-फिल्मकार विवेक वसवानी, प्रख्यात लेखक गीतकार वरूण ग्रोवर ने वामन भोसले के निधन पर शोक जताया है.

वामन भोसले (Waman Bhonsle) के भतीजे दिनेश भोसले (Dinesh Bhosle) ने बताया कि 25 वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार (25th National Film Awards) में ‘इनकार’ (Inkaar) के लिए सर्वश्रेष्ठ संपादक का पुरस्कार पाने वाले वामन का गोरेगांव आवास पर तड़के चार बजकर 25 मिनट पर निधन हो गया.

मुंबई. राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म संपादक वामन भोसले (Waman Bhonsle) का निधन हो गया. बढ़ती उम्र के कारण होने वाली समस्याओं के कारण वामन का सोमवार सुबह निधन हो गया. उनके परिवार के सदस्यों ने इस बारे में जानकारी दी है. भोसले 87 साल के थे.

वामन भोसले के भतीजे दिनेश भोसले (Dinesh Bhosle) ने बताया कि 25 वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार (25th National Film Awards) में ‘इनकार’ (Inkaar) के लिए सर्वश्रेष्ठ संपादक का पुरस्कार पाने वाले वामन का गोरेगांव आवास पर तड़के 4 बजकर 25 मिनट पर निधन हो गया.

दिनेश ने पीटीआई-भाषा को बताया, ‘पिछले साल लॉकडाउन के कारण उनकी दिनचर्या और दूसरी गतिविधियां प्रभावित हुई थी.’ गोवा के पोमबुरपा गांव में जन्मे भोसले नौकरी की तलाश में 1952 में मुंबई आए थे और ‘पाकीजा’ फिल्म के संपादक डी एन पई से बॉम्बे टॉकीज में प्रशिक्षण लेने लगे.

भोसले ने ‘मेरा गांव मेरा देश’, ‘दो रास्ते’, ‘इनकार’, ‘दोस्ताना’, ‘अग्निपथ’, ‘परिचय’, ‘कालीचरण’, ‘कर्ज’, ‘राम लखन’, ‘सौदागर’, ‘गुलाम’ समेत 230 से ज्यादा फिल्मों की एडिटिंग की है. अमोल पालेकर निर्देशित ‘कैरी’ संपादक के तौर पर भोसले की आखिरी फिल्म थी. फिल्मकार मधुर भंडारकर, अभिनेता-फिल्मकार विवेक वसवानी, प्रख्यात लेखक गीतकार वरूण ग्रोवर ने भोसले के निधन पर शोक जताया है.





Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

21,913FansLike
2,765FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles