महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के मामलों का टूटा रिकॉर्ड, सामने आए 27 हजार से ज्यादा नए केस

महाराष्ट्र में अब तक के सबसे ज्यादा केस सामने आए हैं.

Maharashtra Coronavirus Cases: महाराष्ट्र में कुल मामलों की संख्या बढ़कर 24,49,147 हो गई है. राज्य में अब तक 22 लाख 3 हजार 553 लोग ठीक हुए हैं.

मुंबई. महाराष्ट्र में शनिवार को कोरोना वायरस (Maharashtra Coronavirus Cases) के 27,126 मामले सामने आए हैं. बता दें महाराष्ट्र में पिछले साल कोरोना वायरस की शुरुआत के बाद से ये अब तक के सबसे अधिक मामले बताए जा रहे हैं. महाराष्ट्र में बीते एक दिन में 13,588 लोग ठीक हुए हैं. जबकि 92 लोगों की मौत हुई है. इसके साथ ही राज्य में कुल मामलों की संख्या बढ़कर 24,49,147 हो गई है. राज्य में अब तक 22 लाख 3 हजार 553 लोग ठीक हुए हैं. इसके अलावा अब तक 53,300 लोगों की मौत हो चुकी है. राज्य 1 लाख 91 हजार 6 एक्टिव केस हैं.

महाराष्ट्र में लगातार तीन दिनों से कोरोना वायरस के नए मामलों का रिकॉर्ड टूट रहा है. इससे पहले महाराष्ट्र में शुक्रवार को कोविड-19 संक्रमण के 25,681 नये मामले दर्ज किये गये थे. जो कि पिछले साल इस महामारी के शुरू होने के बाद एक दिन में सामने आये मामलों की यह दूसरी सबसे अधिक संख्या थी. शनिवार को आए मामलों के चलते ये रिकॉर्ड भी टूट गया. महाराष्ट्र में गुरुवार को 25,833 मामले सामने आये थे और इस दिन प्रतिदिन सामने आये मामलों का एक नया रिकॉर्ड बना था.

ये भी पढ़ें- महाराष्ट्र के मंत्री आदित्य ठाकरे हुए कोरोना पॉजिटिव, खुद ट्वीट कर दी जानकारी

महाराष्ट्र में बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने लोगों से कहा है कि मामलों को रोकने के लिए लॉकडाउन ही विकल्प है. राज्य सरकार ने लोगों के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए हैं. इसके साथ ही महाराष्ट्र सरकार ने अधिसूचना जारी कर ऑडिटोरियम को 31 मार्च तक 50 प्रतिशत क्षमता के साथ ही चलाने का निर्देश दिया है. सरकार ने चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर नियमों का पालन नहीं किया गया तो महामारी खत्म होने तक उन्हें बंद किया जा सकता है.इसके अलावा नागपुर में लॉकडाउन को 31 मार्च तक बढ़ा दिया गया है. मुंबई में एशिया की सबसे बड़ी स्लम बस्ती धारावी (Dharavi) में कोरोना संक्रमण के मामले भी तेजी से बढ़ रहे हैं. धारावी में मार्च के महीने में अब तक  कोरोनावायरस के 272 मामले सामने आ चुके हैं, जो कि फरवरी में 168 मामले की तुलना में 62 फीसदी अधिक हैं.

मुंबई में बढ़ रहे मामलों को देखते हुए बीएमसी ने नए निर्देश जारी किए हैं. नए निर्देशों के मुताबिक भीड़-भाड़ वाली जगहों पर नागरिकों की मर्जी के बिना रैंडम एंटीजन परीक्षण बेतरतीब तरीके से किया जाएगा. इसके साथ ही यदि कोई नागरिक परीक्षण करने से इनकार करता है, तो उन पर महामारी अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया जाएगा.




Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
2,739FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles