महाराष्ट्र, दिल्ली और पंजाब में कोरोना का कहर जारी, रोजाना दर्ज किए जा रहे रिकॉर्ड नए मामले

नई दिल्ली. महाराष्ट्र, दिल्ली और पंजाब में कोरोना वायरस के मामलों (Coronavirus Cases) की रफ्तार तेजी से बढ़ती जा रही है. तीनों ही राज्यों में रोजाना के हिसाब से रिकॉर्ड मामले दर्ज किए जा रहे हैं. महाराष्ट्र में रविवार को 40 हजार से ज्यादा नए मामले दर्ज किए गए हैं जो कि पिछले साल महामारी शुरू होने के बाद अब तक सबसे अधिक हैं. वहीं दिल्ली में करीब साढ़े तीन महीने बाद 1800 से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं. इसके अलावा पंजाब में करीब तीन हजार नए मामले सामने आए हैं.

दिल्ली में रविवार को कोरोना वायरस के 1800 से अधिक मरीजों की पुष्टि हुई जो बीते साढ़े तीन महीने में एक दिन में आए सर्वाधिक मामले हैं. वहीं नौ संक्रमितों ने दम तोड़ दिया. स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमण के कुल मामले 6,57,715 पहुंच गए हैं जबकि 11,006 लोगों की वायरस के कारण मौत हो चुकी है. विभाग ने बताया कि 6.39 लोग संक्रमण से मुक्त भी हो गए हैं. आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, पिछले साल 13 दिसंबर को एक दिन में 1984 नए मामले आए थे.

ये भी पढे़ें- CM ठाकरे ने दिए लॉकडाउन जैसी योजना बनाने के निर्देश, इन बातों पर रहेगा फोकस

इसके अलावा पंजाब में रविवार को 2,963 नए मामले सामने आए हैं. इसमें से 2,155 लोग ठीक हुए हैं वहीं इस बीत 69 लोगों की मौत हुई है. वहीं महाराष्ट्र में रविवार को रिकॉर्ज 40,414 केस दर्ज किए गए जबकि इस बीच 108 लोगों की मौत हो गई. महाराष्ट्र में मृत्यु दर फिलहाल 2 प्रतिशत पर है. महाराष्ट्र में कुल मामलों की संख्या बढ़कर 2,71,3875 हो गई है, वहीं अब तक कुल 2,33,2453 लोग ठीक हो चुके हैं. इसके अलावा राज्य में एक्टिव मामलों की संख्या बढ़कर 3,25,901 हो गई है. वहीं अब तक राज्य में 54,181 लोगों की मौत हो चुकी है.वहीं मुंबई में रविवार को 6,923 केस सामने आए हैं जबकि 8 लोगों की मौत हुई है. जिसके बाद मुंबई में कुल मामलों की संख्या बढ़कर 3,98,674 पहुंच गए हैं.

महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में वृद्धि के मद्देनजर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने रविवार को राज्य में कोविड-19 पर कार्यबल की सिफारिश पर लॉकडाउन लागू करने के लिए ऐसी योजना तैयार करने के निर्देश दिए, जिससे अर्थव्यवस्था कम से कम प्रभावित हो. बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने कोविड-19 मरीजों के इलाज के लिए राज्य में बिस्तरों, दवाओं और ऑक्सीजन की उपलब्धता समेत अन्य स्वास्थ्य संबंधी तैयारियों की समीक्षा की.

बयान के मुताबिक, कार्यबल ने संक्रमण के प्रसार की रोकथाम के लिए राज्य में सख्त लॉकडाउन लागू करने की सिफारिश की. इसके मुताबिक, बाद में मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को लॉकडाउन लागू करने के संबंध में ऐसी विस्तृत योजना तैयार करने के निर्देश दिए ताकि इससे अर्थव्यवस्था कम से कम प्रभावित हो.

Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
2,735FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles