बीजेपी के क‍िस मजबूत क‍िले को ग‍िराने की ज‍िम्‍मेदारी भूपेश बघेल की टीम को म‍िली, जानें

मिशन असम के बाद अब छत्तीसगढ़ कांग्रेस मिशन यूपी की तैयारी कर रही है

Chhattisgarh News: छत्तीसगढ़ में भगवान राम को भांजे के रूप में माना जाता है. वहीं उत्तर प्रदेश में राजा राम. देखना यह है कि उत्तर प्रदेश के रण में राजा राम के अनुयाई भारी पड़ेंगे या भांचे राम के अनुयायी भारी पड़ेंगे. छत्तीसगढ़ में भांजे को भांचा कहा जाता है.

मिशन असम के बाद अब छत्तीसगढ़ कांग्रेस मिशन यूपी की तैयारी कर रही है. जी हां जो टीम छत्तीसगढ़ के नेताओं की असम भेजी गई थी अब उसी को उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में तैयारी के लिए उतारने की तैयारी है. इसके पहले उत्तर प्रदेश की जमीन को जानने के लिए पंचायत चुनाव में पहले कार्यकर्ताओं को भेजा जाएगा.

कांग्रेस के केंद्रीय नेत्रृत्व का भरोसा लगातार छत्तीसगढ़ कांग्रेस पर बढ़ता जा रहा है. यही वजह है कि एक के बाद एक देश के अलग-अलग राज्यों के चुनावों की महती जिम्मेदारी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और उनकी टीम को मिल रही है. असम के बाद अब छत्तीसगढ़ कांग्रेस के कई नेता उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए काम करेंगे. जिस तरह से असम में करीब तीन महीने पहले यहां से टीम तैनात की गई थी उसी तरह से उत्तर प्रदेश में भी जल्द तैयारियां शुरू होंगी. हालांकि इसके पहले यूपी में होने वाले पंचायत चुनावों को लेकर कांग्रेस के कई कार्यकर्ताओं को कई बार ट्रेनिंग दी गई है. यह टीम जल्द उत्तर प्रदेश रवाना होगी. विधानसभा के लिए असम में जो लोग पसीना बहा रहे थे उन्हें ही उत्तर प्रदेश के लिए भेजा जाएगा. वहां क्या मुद्दे होंगे इसे लेकर असम चुनाव के प्रभारी सचिव, कांग्रेस विधायक और अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सचिव विकास उपाध्याय का कहना है कि वहां के स्थानय मुद्दों के साथ हम छत्तीसगढ़ का रोल मॉडल पेश करेंगे. रणनीति वही होगी जिसके तहत कांग्रेस 15 सालों के बाद सत्ता में वापस आई थी.

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचंरा विभाग प्रमुख शैलेष नितिन त्रिवेदी का कहना है कि 2018 में कांग्रेस ने ना केवल विधानसभा चुनाव में बंपर सीटें हासिल की थी बल्कि उसके बाद निकाय चुनाव, पंचायत चुनाव और उपचुनावों में भी शानदार प्रदर्शन किया. हमने इन सारे चुनावों में बूथ स्तर पर काम किया था. अब यह छत्तीसगढ़ मॉडल पूरे देश के लिए रोल मॉडल बन गया है. इसकी चर्चा पूरे देश में है. उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव के लिए भी इसी रणनीति पर छत्तीसगढ़ कांग्रेस के नेता काम करेंगे. यही वजह है कि विधानसभा की जमीन तैयार करने के लिए उत्तर प्रदेश के पंचायत चुनावों के लिए यहां के पंचायत प्रमुखों, जिला पंचायत अध्यक्षों, पूर्व अध्यक्षों के साथ प्रदेश स्तरीय नेताओं को भेजा जा रहा है. पंचायत चुनावों में किए गए काम विधानसभा चुनाव की जमीन को कांग्रेस के लिए उर्वरक बनाएंगे. हमारा मुद्दा विकास होगा.

पीसीसी कांग्रेस संचार विभाग प्रमुख शैलेष नितिन त्रिवेदी का कहना है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जिस तरह से असम के मुख्यपर्यवेक्षक थे और स्टार प्रचारक थे. इसका लाभ यूपी के विधानसभा चुनाव में भी मिलेगा. यूपी के पिछले विधानसभा चुनाव में भी उनसे पार्टी को नतीजों में लाभ मिला था. विकास के मुद्दे के साथ भगवान राम की भी बात होगी. छत्तीसगढ़ तो भगवान राम का ननिहाल है. यहां वो भांजे के रूप में पूजे जाते हैं.मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राम के प्रति हम सबके आदर और श्रद्धा को अभिव्यक्त किया है. एआईसीसी सचिव विकास उपाध्याय का कहना है कि उत्तर प्रदेश में तो बीजेपी राम के नाम पर केवल राजनीति होती है. यहां तो रामराज के समान काम होता है. छत्तीसगढ़ में भगवान राम को भांजे के रूप में माना जाता है. वहीं उत्तर प्रदेश में राजा राम. देखना यह है कि उत्तर प्रदेश के रण में राजा राम के अनुयाई भारी पड़ेंगे या भांचे राम के अनुयायी भारी पड़ेंगे. छत्तीसगढ़ में भांजे को भांचा कहा जाता है.





Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
2,737FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles